निर्भय मिसाइल क्या है? निर्भय मिसाइल की मारक क्षमता, परीक्षण | Nirbhay Missile In Hindi

अक्सर हम लोग किसी ना किसी देश का आपस में युद्ध होते देखते ही है जिसके कारण लड़ने वाले देशो को आर्थिक नुक्सान होता है, इसके साथ ही उस देश की जनता पर बुरा प्रभाव भी पड़ता है। कई बार देखा गया है कि मात्र युद्ध की स्थिति होने भर से देश मे तनाव की स्थिति उत्पन्न होती है। किसी भी देश के लिए जरूरी है कि वह दूसरे देशों की ताकत को समझे और स्वयं को उसी के अनुसार तैयार करें, क्योकि युद्ध होने पर आज हर देश इस बात को समझकर ही युद्ध में लड़ने की रणनीति बनाता है और अपनी सुरक्षा के लिए अनेक हथियारों को तैयार करता है।

भारत ने भी कई युद्धों का सामना किया है और अनेकों बार बहुत हानि भी उठाई है। इसलिए समय-समय पर किसी न किसी हथियार का निर्माण किया गया है, ताकि हमारे देश की सेना युद्ध के समय कमजोर न पड़े। भारत की सुरक्षा के लिए डीआरडीओ द्वारा निर्भय क्रूज मिसाइल का निर्माण किया गया था, जिसका अनेक बार परीक्षण किया जा चुका है । इसकी खास बात यह है कि यह पहली स्वदेशी क्रूज मिसाइल है। 

आज के लेख में हम आपको निर्भय मिसाइल क्या है, निर्भय मिसाइल की रेंज, खासियत और फायदे से संबंधित सभी बातें बताएंगे।

निर्भय मिसाइल क्या है? (Nirbhay Missile In Hindi)

भारत की पहली स्वदेशी क्रूज मिसाइल निर्भय है, इसे लॉन्ग रेंज सबसोनिक क्रूज मिसाइल के नाम से भी जाना जाता है। यह जमीन या समुद्र के सहारे छुप कर चलती है और अचानक वार करती है। इस मिसाइल का उपयोग हर मौसम में किया जा सकता है। निर्भय लंबी दूरी तक परमाणु हथियार ले जा सकती है। यह दो चरण वाली मिसाइल है यानि कि यह पहले बिल्कुल रॉकेट की तरह आसमान में जाती है और उसके बाद 90 डिग्री मुड़कर क्षेतीज उड़ान भरती है। यह मिसाइल 500 मीटर से लेकर 4 किलोमीटर ऊंचाई तक उड़ान भर सकती है।

इसे अमेरिका की टॉम हॉक व पाकिस्तान की बाबर मिसाइल जितना ही ताकतवर बताया गया है। इसके द्वारा भारत ने ब्रह्मोस मिसाइल की कमी को पूरा किया है क्योंकि ब्रह्मोस की दूरी सीमा 290 किलोमीटर है जबकि निर्भय मिसाइल की सीमा 1000 किलोमीटर से अधिक है।

निर्भय मिसाइल का परीक्षण कब कब हुआ? (Nirbhay Missile Test)

निर्भय मिसाइल का परीक्षण सबसे पहले ओडिशा के चांदीपुर से 12 मार्च 2013 को किया गया था। उस समय यह 15 मिनट तक बिल्कुल सही दिशा में चली, परंतु 250 किलोमीटर की दूरी पूरी करने के बाद यह रास्ता भटक गई। उस समय ऐसी स्थिति बनी की मिसाइल को नष्ट कर दिया गया। इसका दूसरा परीक्षण 17 अक्टूबर 2014 को ओडिशा के चांदीपुर से ही किया गया। इस परीक्षण को सफल परीक्षण माना गया, क्योंकि निर्भय ने अपनी 1000 किलोमीटर की दूरी को पूरा किया था, साथ ही यह 1 घंटे 10 मिनट तक चली।

निर्भय मिसाइल की नीचे उड़ने की क्षमता की जांच के लिए इसका दोबारा 16 अक्टूबर 2015 को परीक्षण किया गया था। इस परीक्षण का उद्देश्य मिसाइल को 4800 मीटर से 20 मीटर तक की दूरी पर लाना था, परंतु यह परीक्षण असफल रहा। निर्भय मिसाइल ने 11 मिनट में सिर्फ 128 किलोमीटर की दूरी तय की और दुर्घटनाग्रस्त हो गई। निर्भय के तीसरे परीक्षण के असफल रहने पर इसका चौथा परीक्षण किया गया। यह परीक्षण 21 दिसंबर 2016 को ओडिशा में ही हुआ, परंतु यह परीक्षण भी असफल ही रहा। मिसाइल अपने तय सुरक्षा क्षेत्र से बाहर चली गई और इसे उसी समय नष्ट कर दिया गया।

मिसाइल के अनेक बार असफल होने के कारण उसमें कई सुधार किए गए और इसका पांचवा परीक्षण 7 नवंबर 2017 को हुआ जोकि सफल रहा। निर्भय मिसाइल ने 50 मिनट में 647 किलोमीटर की दूरी तय की। इस परीक्षण की खास बात यह थी कि मिसाइल में टर्बोफैन इंजन की जगह टर्बोजेट इंजन का प्रयोग किया गया था

इसके बाद मिसाइल का छठा परीक्षण 15 अप्रैल 2019 को हुआ था इस परीक्षण मे मिसाइल 650 किलोमीटर तक चली और  इसका सातवाँ परीक्षण व्हीलर आइसलैंड से 12 अक्टूबर 2020 को हुआ, लेकिन 8 मिनट बाद मिसाइल पानी में गिर गई और यह परीक्षण भी असफल रहा।

निर्भय मिसाइल का सफलतापूर्वक निर्माण करने के बाद इसका कई बार परीक्षण किया गया, परंतु हर बार किसी ना किसी कारण से यह सफल नहीं हो पाया। हाल ही में 11 अगस्त 2021 को इसका आठवां परीक्षण हुआ। इस बार इसमे DRDO द्वारा निर्मित इंजन का इस्तेमाल किया गया यह 15 मिनट तक हवा मे रही और 100 किलोमीटर तक की दूरी तय की, लेकिन अभी भी पूरी तरह से सफलता नहीं मिली है

निर्भय मिसाइल की मारक क्षमता कितनी है? (Nirbhay Cruise Missile Range)

निर्भय एक लॉन्ग रेंज सबसोनिक क्रूज मिसाइल है यानि यह बहुत दूर तक जा सकती है। इसकी मारक क्षमता 1000 किलोमीटर से अधिक है, जोकि ब्रह्मोस के मुकाबले कहीं अधिक है।

निर्भय मिसाइल की खासियत क्या है?

निर्भय मिसाइल को इस तरह से तैयार किया गया है कि यह हर स्थिति में प्रयोग की जा सके। इस मिसाइल को ठोस रॉकेट बूस्टर प्रणाली द्वारा टेकऑफ किया जाता है और इसमें टर्बोफैन इंजन का उपयोग किया गया है, परंतु एक परीक्षण में इसकी जगह टर्बोजेट इंजन का उपयोग किया गया। क्रूज मिसाइल का इंजन इसे धीरे-धीरे गति देता रहता है यानि कि इसको लांच करने के लिए एक बार मे सारी ऊर्जा की जरूरत नहीं पड़ती है और इसकी उड़ान की गति 0.7 माक है।  

निर्भय मिसाइल का भार व लंबाई कितनी है? (Weight & Length of Nirbhay Missile)

इसकी लंबाई 6 मीटर और चौड़ाई 0.52 मीटर है वही इसके पंख की लंबाई 2.7 मीटर है और इस मिसाइल का वजन 1500 किलोग्राम के आसपास है।

निर्भय मिसाइल का निर्माण किसने किया है?

निर्भय मिसाइल का निर्माण रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) के अंतर्गत आने वाली प्रयोगशालाओं एडवांस सिस्टम लैबोरेट्री और अनुसंधान केंद्र इमारत ने किया है।

भारत को निर्भय मिसाइल के फायदे (Benefits of Nirbhay Missile)

भारत के पास अनेकों मिसाइल है और उन सबकी अपनी-अपनी खासियत है, जिससे भारत को युद्ध के समय उससे अनेक फायदे भी मिलते है इसी प्रकार निर्भय मिसाइल के भी अनेक फायदे है:-

  • निर्भय मिसाइल हर मौसम के अनुकूल है यानि इसका उपयोग किसी भी मौसम में किया जा सकता है। 
  • निर्भय मिसाइल से एक फायदा यह है कि यह 1000 किलोमीटर की रेंज में स्थित ठिकानों को निशाना बना सकती है। 
  • इसके द्वारा 300 किलोग्राम परमाणु हथियार ले जाया जा सकता है। 
  • इस मिसाइल की दिशा रास्ते में बदली जा सकती है। 
  • इसकी प्रमुखता यह भी है कि यह दुश्मनों के रडार द्वारा पता लगने से बचाई जा सकती है क्योंकि यह नीची ऊंचाई पर भी उड़ान भरती है। 
  • यह मिसाइल कई लक्ष्यों के बीच हमला कर सकती है।

निर्भय मिसाइल से सम्बंधित महत्वपूर्ण प्रश्न (FAQs)

  • निर्भय मिसाइल क्या है?

    भारत की पहली स्वदेशी क्रूज मिसाइल

  • निर्भय मिसाइल की रेंज कितनी है?

    1000 किलोमीटर

  • निर्भय मिसाइल को सबसे पहले कब लांच किया गया था?

    12 मार्च 2013

  • निर्भय मिसाइल का सबसे पहले किस जगह परीक्षण किया गया था?

    चांदीपुर, ओडिशा

  • निर्भय मिसाइल की लंबाई कितनी है?

    6 मीटर

  • निर्भय मिसाइल को किसने बनाया?

    रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ)

निष्कर्ष

निर्भय मिसाइल को इस तरह से तैयार किया गया है कि भारत की सेना युद्ध के समय पूरी तरह से नयी तकनीक से लैस हो। इस मिसाइल के परीक्षण मे पूर्ण सफलता मिलने पर इसे लाइन ऑफ़ एक्चुअल कण्ट्रोल पर स्थापित किया जायेगा ताकि चीन जैसे देश से भारत को सुरक्षित रखा जा सके।

आज इस लेख के माध्यम से हमने आपको निर्भय मिसाइल से सम्बंधित सभी महत्वपूर्ण जानकारियां प्रदान की है। उम्मीद है आपको हमारा लेख पसंद आया होगा अगर आपके मन मे निर्भय मिसाइल से जुड़े कोई प्रश्न है, तो आप हमें कमेंट बॉक्स में पूछ सकते हैं।