मनोज मुकुंद नरवणे का जीवन परिचय | Manoj Mukund Naravane Biography in Hindi

मनोज मुकुंद नरवणे भारतीय थल सेना अध्यक्ष हैं, यह जिम्मेदारी उनको 31 दिसम्बर 2019 को मिली जब उन्होंने भारतीय थल सेना के चीफ पद पर कार्यभार संभाला। जैसा कि हम सभी जानते हैं देश के पहले सीडीएस जनरल बिपिन रावत के विमान दुर्घटना में मृत्यु हो जाने के बाद सीडीएस का पद वर्तमान में रिक्त है। देश के चीफ आफ डिफेंस स्टाफ (सीडीएस) के पद को भरने के लिए सरकार द्वारा जल्द ही नियुक्ति प्रक्रिया शुरू की जाएगी। वैसे तो हम पूरी तरह से यह नहीं कह सकते कि देश का नया चीफ ऑफ़ डिफेन्स कौन होगा? लेकिन ऐसे कयास लगाए जा रहे हैं कि थलसेना प्रमुख जनरल मनोज मुकुंद नरवणे को देश के चीफ ऑफ़ डिफेन्स का पदभार मिल सकता है। हांलाकि यह तो वक्त ही बताएगा कि देश के नए चीफ ऑफ़ डिफेन्स का पदभार किसको मिलता है।
Contents

मनोज मुकुंद नरवणे का जीवन परिचय एक नज़र में (Manoj Mukund Naravane Biography in Hindi)

पूरा नाम:मनोज मुकुंद नरवणे
जन्म:22 अप्रैल 1960
जन्म स्थान:पुणे, महाराष्ट्र
माता का नाम:सुधा नरवणे
पिता का नाम:मुकुंद नरवणे
पत्नी का नाम:वीणा नरवणे
बच्चे:ईशा एवं अमला
जाति:ब्राह्मण
धर्म:हिन्दू
आयु/उम्र:62 वर्ष
सेवा वर्ष:जून, 1980 – वर्तमान
लम्बाई (Height):173 cm (5’8″)
शिक्षा:मद्रास विश्वविद्यालय, चेन्नई से रक्षा अध्ययन में मास्टर डिग्री, एम.फिल., देवी अहिल्या विश्वविद्यालय, इंदौर से रक्षा और प्रबंधन अध्ययन, पंजाब विश्वविद्यालय, पटियाला से रक्षा और रणनीतिक अध्ययन में पीएचडी
जनरल ऑफिसर कमांडिंग-इन-चीफ के रूप में कार्यकाल:1 दिसंबर 2017 से 30 सितंबर 2018 तक
गणतंत्र दिवस परेड के कमांडर:साल 2017 में
पदक: सेना पदक, विशिष्ट सेवा मेडल, अतिविशिष्ट सेवा मेडल, परम विशिष्ट सेवा मेडल

मनोज मुकुंद नरवणे कौन हैं? (Manoj Mukund Naravane Kaun Hai)

जनरल मनोज मुकुंद नरवणे वर्तमान में 28वें सेनाध्यक्ष (COAS) के रूप में कार्यरत हैं। इसके पहले वो सेना के उत्तरी कमांड के प्रमुख थे। देश के सेना प्रमुख बनते ही वह दुनिया की सबसे ताकतवर सेनाओं में शामिल 13 लाख थल सैनिकों के मुखिया बन गए। सेना में अपने 4 दशक के कार्यकाल में नरवणे ने कई चुनौतीपूर्ण जिम्मेदारियों का निर्वहन किया है। उन्होंने कश्मीर से लेकर नॉर्थ ईस्ट राज्यों में अपनी तैनाती के दौरान आतंकी गतिविधियों को रोकने में अहम भूमिका निभाई है।

साथ ही वे श्रीलंका में 1987 के दौरान चलाए ऑपरेशन पवन में पीस कीपिंग फोर्स का हिस्सा भी रह चुके हैं। लेफ्टिनेंट जनरल एमएम नरवणे नागालैंड में असम राइफल्स के इंस्पेक्टर जनरल भी रह चुके हैं। वे जम्मू-कश्मीर में राष्ट्रीय राइफल्स बटालियन और पूर्वी मोर्चे पर इन्फेंट्री ब्रिगेड की कमान संभाल चुके हैं।

मनोज मुकुंद नरवणे का जन्म एवं परिवार (Manoj Mukund Naravane Family & Birth)

मनोज मुकुंद नरवणे का जन्म 22 अप्रैल 1960 को पुणे, महाराष्ट्र में हुआ था। इनके पिता का नाम मुकुंद नरवणे और माता का नाम सुधा नरवणे है। इनके पिता भारतीय वायु सेना में एक पूर्व अधिकारी हैं, जो विंग कमांडर के पद से रिटायर हुए थे और उनकी माँ ऑल इंडिया रेडियो में अनाउंसर थीं। मनोज मुकुंद नरवणे की पत्नी का नाम वीणा नरवणे है तथा इनके दो बच्चे हैं, जिनके नाम ईशा एवं अमला हैं। उनकी पत्नी वीना नरवणे 25 साल के अनुभव के साथ एक शिक्षिका हैं और साथ ही आर्मी वाइव्स वेलफेयर एसोसिएशन संस्था की प्रमुख भी हैं।

मनोज मुकुंद नरवणे की जाति (Manoj Mukund Naravane Caste)

मनोज मुकुंद नरवणे एक मराठी ब्राह्मण परिवार से सम्बन्ध रखते हैं, जो कि हिन्दू धर्म के अंतर्गत आते हैं।

मनोज मुकुंद नरवणे की शिक्षा (Manoj Mukund Naravane Education)

मनोज मुकुंद नरवणे ने अपनी स्कूली शिक्षा पुणे के ज्ञान प्रबोधिनी प्रशाला से पूरी की। उन्होंने मद्रास विश्वविद्यालय, चेन्नई से रक्षा अध्ययन में मास्टर डिग्री, एम.फिल., देवी अहिल्या विश्वविद्यालय, इंदौर से रक्षा और प्रबंधन अध्ययन, पंजाब विश्वविद्यालय, पटियाला से रक्षा और रणनीतिक अध्ययन में पीएचडी किया है। वे राष्ट्रीय रक्षा अकादमी, पुणे, भारतीय सैन्य अकादमी, देहरादून, रक्षा सेवा स्टाफ कॉलेज, वेलिंगटन और आर्मी वॉर कॉलेज, महू में भाग ले चुके हैं।

मनोज मुकुंद नरवणे का मिलिट्री करियर (Manoj Mukund Naravane Army Career)

  • जून 1980 में सिख लाइट इन्फैंट्री की 7वीं बटालियन में कमीशन
  • इंस्पेक्टर जनरल (उत्तर) से लेकर चीफ ऑफ आर्मी स्टाफ (सीओएएस) तक के विभिन्न पदों पर कार्य
  • म्यांमार के यांगून में मिलिट्री अत्ताशे (Military attaché) के रूप में कार्य
  • 2017 गणतंत्र दिवस परेड के कमांडर
  • 1 दिसंबर 2017 से 30 सितंबर 2018 तक आर्मी ट्रेंनिंग कमांड में जनरल ऑफिसर कमांडिंग इन चीफ
  • 16 दिसंबर 2019 को देश के 28वें सेना प्रमुख (COAS)

मनोज मुकुंद नरवणे की मासिक आय, नेटवर्थ (Manoj Mukund Naravane Salary per month & Net worth)

मनोज मुकुंद नरवणे की मासिक आय (monthly salary) लगभग ₹2,50,000 है। इसके साथ ही इनको सरकारी भत्ते (allowance) भी मिलते हैं। इनकी सालाना आय (yearly income) लगभग ₹30,00,000 है। मनोज मुकुंद नरवणे की नेटवर्थ (networth) लगभग 1 करोड़ है।

मनोज मुकुंद नरवणे सीडीएस कब बने? (Manoj Mukund Naravane CDS kab bane)

मनोज मुकुंद नरवणे को देश के सीडीएस का पदभार अभी नहीं मिला है। देश के पहले सीडीएस जनरल बिपिन रावत की मृत्यु के बाद सीडीएस का पद अभी तक रिक्त है। लेकिन ऐसे कयास लगाए जा रहे हैं कि जल्द ही मनोज मुकुंद नरवणे सीडीएस का पदभार संभाल सकते हैं।

मनोज मुकुंद नरवणे रिटायरमेंट (General Manoj Mukund Naravane Retirement / MM Naravane retirement)

सेना प्रमुख जनरल मनोज मुकुंद नरवणे, जिन्हें सीडीएस पद के लिए सबसे आगे देखा जा रहा है, 30 अप्रैल 2022 को सेवानिवृत्त होने वाले हैं। नरवणे अभी वरिष्ठत जनरल हैं तथा वह तीनों सेनाओं के प्रमुखों की कमेटी के अध्यक्ष भी हैं। नियमानुसार सेवारत जनरल और उसके समकक्ष अधिकारी को सीडीएस नियुक्त किया जा सकता है।

मनोज मुकुंद नरवणे के बच्चे – ईशा नरवणे एवं अमला नरवणे (Manoj Mukund Naravane daughter Isha Naravane & Amala Naravane)

बड़ी बेटी ईशा नरवणे एक डांस स्पेशलिस्ट, कोरियोग्राफर है तथा छोटी बेटी अमला पीआर सलाहकार के पद पर तैनात है।

मनोज मुकुंद नरवणे की रैंक की तिथियां (Ranks of Manoj Mukund Naravane)

रैंकतारीख
लेफ्टिनेंट7 जून 1982
कप्तान 7 जून 1985
मेजर7 जून 1991
लेफ्टिनेंट-कर्नल31 दिसंबर 2002
कर्नल1 फरवरी 2005
ब्रिगेडियर19 जुलाई 2010 {मूल, 13 जनवरी 2008 से वरिष्ठता}
मेजर जनरल1 जनवरी 2013 {7 अप्रैल 2011 से मूल, वरिष्ठता}
लेफ्टिनेंट-जनरल10 नवंबर 2015 
जनरल {थल सेनाध्यक्ष के 40वें उप प्रमुख}1 सितंबर 2019
जनरल {27वें सेनाध्यक्ष}31 दिसंबर 2019

मनोज मुकुंद नरवणे को प्राप्त पुरस्कार एवं उपलब्धियाँ (Awards & Achievements of Manoj Mukund Naravane)

जनरल मनोज मुकुंद नरवणे को अपने 40 वर्षों के करियर के दौरान वीरता और विशिष्ट सेवा के लिए कई पदक और सम्मान प्राप्त हो चुके हैं, जो इस प्रकार हैं:

  • परम विशिष्ट सेवा पदक
  • अति विशिष्ट सेवा पदक
  • सेना पदक
  • विशिष्ट सेवा पदक
  • सामान्य सेवा पदक
  • विशेष सेवा पदक
  • ऑपरेशन पराक्रम पदक
  • सैन्य सेवा पदक
  • विदेश सेवा मेडल
  • आज़ादी की 50वीं वर्षगाँठ पदक
  • 9 साल लंबा सेवा पदक
  • 20 साल लंबा सेवा पदक
  • 30 साल लंबा सेवा पदक

FAQs

  • मनोज मुकुंद नरवणे का जन्म कब हुआ?

    मनोज मुकुंद नरवणे का जन्म 22 अप्रैल 1960 को हुआ था।

  • मनोज मुकुंद नरवणे का जन्म कहाँ हुआ?

    मनोज मुकुंद नरवणे का जन्म पुणे, महाराष्ट्र में हुआ था।

  • मनोज मुकुंद नरवणे की माता का नाम क्या है?

    सुधा नरवणे

  • मनोज मुकुंदनरवान नरवणे के पिता का नाम क्या है?

    मुकुंद नरवणे

  • मनोज मुकुंद नरवणे की पत्नी का नाम क्या है?

    वीणा नरवणे

  • मनोज मुकुंद नरवणे के बच्चों का नाम क्या है?

    दो बेटियाँ – ईशा नरवणे एवं अमला नरवणे

  • मनोज मुकुंद नरवणे सेना में भर्ती कब हुए?

    मनोज मुकुंद नरवणे सेना में 1980 ई० में भर्ती हुए। दो वर्ष बाद 7 जून 1982 में उनका सेना में लेफ्टिनेंट के पद पर प्रोमोसन हुआ।

  • मनोज मुकुंद नरवणे को कर्नल का पद कब मिला?

    11 साल बाद 31 दिसंबर 2002 को वह लेफ्टिनेंट कर्नल थे और 1 फरवरी 2005 को कर्नल के पद पर प्रमोसन हुआ।

  • मनोज मुकुंद नरवणे लेफ्टिनेंट जनरल कब बने?

    10 नवंबर 2015 को

  • नरवणे कौन सी जाति होती है?

    ब्राह्मण

  • मनोज मुकुंद नरवणे कौन हैं?

    जनरल मनोज मुकुंद नरवणे वर्तमान में 28वें सेनाध्यक्ष (COAS) के रूप में कार्यरत हैं। इसके पहले वो सेना के उत्तरी कमांड के प्रमुख थे। देश के सेना प्रमुख बनते ही वह दुनिया की सबसे ताकतवर सेनाओं में शामिल 13 लाख थल सैनिकों के मुखिया बन गए।

  • भारत की तीनो सेनाओं के अध्यक्ष कौन है?

    देश के पहले चीफ़ ऑफ़ डिफेंस स्टाफ़ (सीडीएस) जनरल बिपिन रावत के बाद अगले सीडीएस के लिए जनरल मनोज मुकुंद नरवणे दौड़ में सबसे आगे दिखाई दे रहे हैं, हांलाकि अभी तक इस बारे में कोई घोषणा नहीं हुई है।

यह भी देखें 👇👇

]]>