Categories: Uttarakhand

उत्तराखंड के जिले – Districts of Uttarakhand

उत्तराखंड के जिले – Districts of Uttarakhand – उत्तराखंड में कुल 13 जिले हैं जिनमे से 6 जिले कुमाऊं मंडल के अंतर्गत और 7 जिले गढ़वाल मंडल के अंतर्गत आते हैं।

1. अल्मोड़ा:

अल्मोड़ा नगर उत्तराखण्ड राज्य के कुमाऊँ मंडल में स्थित है। यह समुद्रतल से 1646 मीटर की ऊँचाई पर स्थित है। अल्मोड़ा की स्थापना राजा बालो कल्याण चंद ने 1568 में की थी। अल्मोड़ा, कुमाऊं राज्य पर शासन करने वाले चंदवंशीय राजाओं की राजधानी थी।

  • कुल क्षेत्रफल – 3,144 वर्ग किमी
  • कुल जनसंख्या – 6,22,506
  • साक्षरता दर – 70.12%
  • तहसील – 12 (अल्मोड़ा, भिकियासैण, रानीखेत, धौलछीना, स्याल्दे, जैंती, भनौली, द्वाराहाट, सोमेश्वर, चौखुटिया, सल्ट, लमगड़ा)
  • विकासखंड – 11 (ताड़ीखेत, भिकियासैण, लामागडा, धौलादेवी, स्यालदे, भैसियाछाना, हवालबाग, द्वाराहाट, ताकुला, चौखुटिया, सल्ट)

उत्तराखंड सामान्य ज्ञान यहां क्लिक करें

2. बागेश्वर:

बागेश्वर उत्तराखण्ड राज्य के कुमाऊं मंडल में स्थित है। समुद्र तल से इसकी औसत ऊंचाई 1004 मीटर (3214 फीट) है। बागेश्वर जिले की स्थापना 15 सितम्बर, 1997 को हुई।

  • कुल क्षेत्रफल – 2,246 वर्ग किमी
  • साक्षरता दर – 80.01 %
  • कुल तहसील – 6 (बागेश्वर, कपकोट, गरुड़, कांडा, दुगनाकुरी, काफीगैर)
  • ब्लॉक (विकासखंड) – 3 (बागेश्वर, कपकोट, गरुड़)

3. चमोली:

चमोली उत्तराखंड का सबसे बड़ा जिला है। चमोली जिले की स्थापना 14 फरवरी, 1960 को की गयी।

  • क्षेत्रफल – 8,030 वर्ग किमी
  • कुल जनसंख्या – 3,91,605
  • साक्षरता दर – 82.65 %
  • तहसील – 12 (चमोली, कर्णप्रयाग, जोशीमठ, थराली, पोखरी, गैरसैंण, घाट, आदिबद्री, जिलासू, नन्द प्रयाग, देवल, नारायणबगड़)
  • ब्लॉक (विकासखंड) – 9 (कर्णप्रयाग, जोशीमठ, थराली, गैरसैण, घाट, देवाल, दशोली, नारायणबगड़, पोखरी)

4. चम्पावत:

चम्पावत जिले की स्थापना 15 सितम्बर, 1997 को हुई। यह समुद्र तल से 1615 मीटर की ऊँचाई पर स्थित है।

  • कुल क्षेत्रफल – 1,766 वर्ग किमी
  • कुल जनसंख्या – 2,59,648
  • साक्षरता दर – 79.83
  • तहसील – 5 (चम्पावत, पाटी, पूर्णागिरी, लोहाघाट, बाराकोट)
  • ब्लॉक (विकासखंड) – 4 (चम्पावत, लोहाघाट, बाराकोट, पाटी)

उत्तराखंड की प्रमुख चोटियां / श्रेणियां यहां क्लिक करें

5. देहरादून:

देहरादून जिले की स्थापना 1870 को हुई। यह उत्तराखंड की राजधानी भी है।

  • क्षेत्रफल – 3088 वर्ग किमी
  • जनसंख्या – 16,96,694
  • तहसीलें – 7 (चकराता, विकासनगर, देहरादून, ऋषिकेश, त्यूणी, डोईवाला, कालसी)
  • ब्लॉक (विकासखंड) – 6 (चकराता, रायपुर, सहसपुर, डोईवाला, कालसी, विकासनगर)

6. हरिद्वार:

हरिद्वार जिले की स्थापना 28 दिसम्बर, 1988 को हुई। यह 3139 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है।

  • क्षेत्रफल – 2,360 वर्ग किमी
  • कुल जनसंख्या – 18,90,422
  • साक्षरता दर – 73.43%
  • तहसील – 5 (हरिद्वार, रुड़की, भगवनापुर, लक्सर, नारसन)
  • ब्लॉक (विकासखंड) – 6 (रुड़की, भगवनापुर, लक्सर, नारसन, बहादराबाद, खानपुर)

7. नैनीताल:

नैनीताल जिले की स्थापना 1891 को हुई। यह समुद्र तल से लगभग 1938 मीटर (6358 फुट) की ऊंचाई पर स्थित है।

  • कुल क्षेत्रफल – 4,251 वर्ग किमी
  • कुल जनसंख्या – 9,54,605
  • साक्षरता दर – 83.88 %
  • तहसील – 9 (नैनीताल, हल्द्वानी, रामनगर, धारी, कोश्याकुटौली, बेतालघाट, लालकुँआ, कालाढूंगी, ओकलकाण्डा)
  • ब्लॉक (विकासखंड) – 8 (हल्द्वानी, भीमताल, रामगढ, कोटाबाग, रामनगर, बेतालघाट, ओखलकांडा, धारी)

8. पौड़ी गढ़वाल:

पौड़ी गढ़वाल जिले की स्थापना 1840 को हुई।

  • क्षेत्रफल – 5,230 वर्ग किमी
  • कुल जनसंख्या – 6,87,271
  • साक्षरता दर – 82.02 %
  • तहसील – 13 (पौड़ी, श्रीनगर, थलीसैंण, कोटद्वार, धूमाकोट, लैंसडाउन, यमकेश्वर, चौबटाखाल, चाकीसैंण, सतपुली, जाखड़ीखाल, रिखणीखाल, बीरोंखाल)
  • ब्लॉक (विकासखंड) – 15 (कलजीखाल, पौड़ी, थलीसैण, पाबौ, रिखणीखाल, बीरोंखाल, दुगड्डा, लैंसडाउन, कोट, द्वारीखाल, यमकेश्वर, पोखड़ा, नैनिडाडा, खिर्सू, पाणाखेत)

9. पिथौरागढ़:

पिथौरागढ़ की स्थापना 24 फ़रवरी, 1960 को हुई। पिथौरागढ़ का पुराना नाम सोरघाटी है। सोर शब्द का अर्थ होता है– सरोवर। यहाँ पर माना जाता है कि पहले इस घाटी में सात सरोवर थे। यह समुद्रतल से 1695 मीटर की उँचाई पर स्थित है।

  • कुल क्षेत्रफल – 7,090 वर्ग किमी
  • कुल जनसंख्या – 4,83,४४०
  • साक्षरता दर – 82.25%
  • कुल तहसील – 12 (पिथौरागढ़, धारचूला, मुनस्यारी, डीडीहाट, कनालीछीना, बेरीनाग, बंगापनी, गणाई-गंगोली, देवलथल, गंगोलीहाट, थल, तेजम)
  • ब्लॉक (विकासखंड) – 8 (मुनस्यारी, धारचूला, बेरीनाग, डीडीहाट, कनालीछीना, गंगोलीहाट, पिथौरागढ़, मूनाकोट)

उत्तराखंड में प्रथम व्यक्ति यहां क्लिक करें

10. रुद्रप्रयाग:

 रुद्रप्रयाग जिले की स्थापना 1997 को हुई। रुद्रप्रयाग अलकनंदा तथा मंदाकिनी नदियों का संगमस्थल है।

  • क्षेत्रफल – 1,984 वर्ग किमी
  • कुल जनसंख्या – 2,42,२८५
  • साक्षरता दर – 81.३०
  • तहसील – 4 (ऊखीमठ, जखोली, रुद्रप्रयाग, बसुकेदार)
  • ब्लॉक (विकासखंड) – 3 (ऊखीमठ, अगस्त्यमुनि, जखोली)

11. टिहरी गढ़वाल:

टिहरी गढ़वाल जिले की स्थापना 1949 को हुई।

  • क्षेत्रफल – 3,642 वर्ग किमी
  • कुल जनसंख्या – 6,18,931
  • साक्षरता दर – 76.36%
  • तहसील – 12 (टिहरी, नरेन्द्र नगर, प्रतापनगर, देवप्रयाग, घनसाली, जाखणीधार, धनोल्टी, कंडीसौड़, गजा, नैनाबाग, कीर्तिनगर, बालगंगा)
  • ब्लॉक (विकासखंड) – 10 (टिहरी, चम्बा, प्रतापनगर, जौनपुर, नरेन्द्रनगर, देवप्रयाग, कीर्तिनगर, घनसाली, जाखाणीधार, धौलधार)

12. ऊधम सिंह नगर:

ऊधम सिंह नगर जिले की स्थापना 1995 को हुई।

  • कुल क्षेत्रफल – 2,542 वर्ग किमी
  • कुल जनसंख्या – 16,48,902
  • साक्षरता दर – 73.10 %
  • तहसील – 8 (काशीपुर, गदरपुर, जसपुर, खटीमा, किच्छा, सितारगंज, बाजपुर, रुद्रपुर)
  • ब्लॉक (विकासखंड) – 7 (जसपुर, खटीमा, सितारगंज, काशीपुर, रुद्रपुर, बाजपुर, गदरपुर)

13. उत्तरकाशी:

उत्तरकाशी जिले की स्थापना 24 फरवरी, 1960 को हुई।

  • कुल क्षेत्रफल– 8,016 वर्ग किमी
  • कुल जनसंख्या – 3,30,०९०
  • साक्षरता दर – 75.81 %
  • कुल तहसील – 6 (भटवाड़ी, डुंडा, पुरोला, मोरी, चिन्यालीसौड़, बड़कोट)
  • ब्लॉक (विकासखंड) – 6 (भटवाड़ी, डुंडा, पुरोला, मोरी, चिन्यालीसौड़, नौगाव)
admin

Recent Posts

एकादशी व्रत 2021 तिथियां – Ekadashi 2021 Date – एकादशी व्रत का महत्व

एकादशी का हिंदू धर्म में एक विशेष महत्व है। हिंदू धर्म में व्रत एवं उपवास को धार्मिक दृष्टि से एक… Read More

51 years ago

मोक्षदा एकादशी पूजा विधि, व्रत कथा

मोक्षदा एकादशी मार्गशीर्ष महीने के शुक्ल पक्ष की एकादशी को मोक्षदा एकादशी कहा जाता है। इस एकादशी को वैकुण्ठ एकादशी… Read More

51 years ago

उत्पन्ना एकादशी पूजा विधि, व्रत कथा

उत्पन्ना एकादशी मार्गशीर्ष मास के शुक्लपक्ष की एकादशी को उत्पन्ना एकादशी कहते हैं। इस एकादशी को मोक्षदा एकादशी भी कहा… Read More

51 years ago

देवउठनी एकादशी या देवुत्थान एकादशी पूजा विधि, व्रत कथा

देवउठनी एकादशी या देवुत्थान एकादशी कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी को देवउठनी एकादशी या देवुत्थान एकादशी कहा जाता… Read More

51 years ago

रमा एकादशी पूजा विधि, व्रत कथा

रमा एकादशी कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की एकादशी को रमा एकादशी कहा जाता है। इस व्रत को करने से… Read More

51 years ago

पापांकुशा एकादशी पूजा विधि, व्रत कथा

पापांकुशा एकादशी आश्विन शुक्ल पक्ष की एकादशी को पापांकुशा एकादशी कहते हैं। जैसा कि नाम से ही पता चलता है… Read More

51 years ago

For any queries mail us at admin@meragk.in