Categories: Chhattisgarh

छत्तीसगढ़ में कृषि – Agriculture in Chhattisgarh

Agriculture in Chhattisgarh

  • राज्य में 80 प्रतिशत आबादी कृषि और उससे जुडी गतिविधियों में लगी है।
  • 137.9 लाख हेक्टेयर भौगोलिक क्षेत्र में से कुल कृषि क्षेत्र कुल क्षेत्र का लगभग 35 प्रतिशत है।
  • खेती का प्रमुख मौसम ख़रीफ हैं।
  • चावल यहाँ की मुख्य फ़सल है।
  • अन्य महत्त्वपूर्ण फ़सलें हैं- मक्का, गेंहू कच्चा अनाज, मूँगफली और दलहन।
  • राज्य में धान का सर्वाधिक भंडार है।
  • लगभग 3.03 लाख हेक्टेयर में बागवानी फ़सलें उगाई जाती हैं।
  • एक विस्तृत और लहरदार प्रदेश छ्त्तीसगढ़ में चावल और अनाज की खेती होती है।
  • निम्नभूमि में चावल बहुतायत में होता है, जबकि उच्चभूमि में मक्का और मोटे अनाज की खेती होती है।
  • क्षेत्र की महत्त्वपर्ण नक़दी फ़सलों में कपास और तिलहन शामिल हैं।
  • बेसिन में आधुनिक कृषि तकनीकों का प्रचलन धीमी गति से हो रहा है।
  • कृषि की दृष्टि से यह एक बेहद उपजाऊ क्षेत्र है।
  • यह देश का ‘धान का कटोरा’ कहलाता है और 600 से ज़्यादा चावल मिलों को अनाज की आपूर्ति करता है।
  • कुल क्षेत्र का आधे से कम क्षेत्र कृषि योग्य है, हालांकि स्थलाकृति, वर्षा और मिट्टी में विविधता के कारण इसका वितरण असमान है।
  • यहाँ की कृषि की विशेषता कम उत्पादन और खेती की पारंपरिक विधियों का प्रयोग है।

यह भी देखें 👉👉 छत्तीसगढ़ में उद्योग

Subscribe Us
for Latest Updates