Categories: Chhattisgarh

छत्तीसगढ़ में खनिज संसाधन – Mineral Resources in Chhattisgarh

Mineral Resources in Chhattisgarh

  • छत्तीसगढ़ राज्य में अलेक्जेंडराइट, हीरा, सोना, चांदी जैसे 28 प्रकार के बहुमूल्य खनिज पाए जाते है ।
  • राष्टीय खनिज उत्पादन में छत्तीसगढ़ का देश में दूसरा स्थान है ।
  • यहाँ देश का 23.24 प्रतिशत लौह अयस्क उपलब्ध है ।
  • इसी प्रकार देश का 18.02 प्रतिशत कोयला भंडार और 6.6 प्रतिशत लाइम स्टोन भंडार यहां पाया जाता है ।
  • यहां धातु श्रेणी का बाक्साइट का भंडार भी है ।
  • छत्तीसगढ़ सामरिक महत्व के खनिज टिन अयस्क का देश में एकमात्र उत्पादक राज्य है ।
  • फ्लोराइट, फायरक्ले कोरन्डम, गारनेट , ग्रेनाईट, मार्बल, स्टीयटाईड, सोप स्टोन , क्लोलिन, स्वर्ण धातु , टिन अयस्क, टिन धातु जैसे सभी प्रमुख खनिज छत्तीसगढ़ में उपलब्ध है ।
  • खनिज संसाधनों की प्रचुर उपलब्धता के कारण छत्तीसगढ़ में बहुत बड़ी संख्या में स्टील, स्पन्ज आयरन और सीमेंट संयंत्र स्थापित किये गये है ।
  • एल्यूमीनियम ऊर्जा उत्पादन के मामले में भी देश का अव्वल राज्य बन रहा है ।

चूना पत्थर (lime stone)

  • चूना पत्थर कडप्पा चट्टान से मिलता है।
  • कुल संचित भंडार 9038 मिलियन टन होता है।
  • राज्य के कुल भण्डारण की प्रतिशत 5.15% है।
  • उत्पादन की दृस्टि से देशमें छत्तीसगढ़ का स्थान 7वा  है।
  • उत्पादन मे कुल प्रतिशत 9% है
  • सर्वाधिक उत्पादन क्षेत्र – करहीझीपन
  • सर्वाधिक उत्पादन व भण्डारण जिला – बलौदाबाजार
  • बलौदाबाजार को सीमेंट उद्योग का केंद्र कहा जाता है।

उपयोग:

  • चूना पत्थर का उपयोग मुख्यतः सीमेंट, चूना बनाने तथा लौह अयस्क उद्योग में किया जाता है।

प्रमुख़ क्षेत्र:

  • बलौदाबाजार – करहीझीपन, हिरमी ,सोनाडीह ,भरवाडीह , कुकुरही ,रवान
  • रायपुर – मांदर , तिल्दा , सिलयारी
  • जांजगीर-चांपा – अकलतरा , मेआभाटा , पामगढ़ , अरसमेटा
  • दुर्ग – जामुल , अघोली ,नंदनीकुदनी
  • राजनाँदगाँव – मंचागपार , भाटागांव, चारभाटा
  • कवर्धा – रंचितपुर , नवापारा , डोंगरिया , सहसपुर

डोलोमाइट (Dolomite)

  • कडप्पा शैल समूह में पाया जाता है।
  • चूना के चट्टान में मैग्नीशियम की मात्रा 45% अधिक हो जाती  है  तब वह डोलोमाइट कहलाता है।
  • प्रदेश में कुल सचित भंडार 847 मिलियन टन है।
  • देश के कुल संचित भंडार का 11.24 % है।
  • डोलोमाइट उत्पादन में पहला स्थान है
  • भण्डारण में चौथा स्थान है।

उपयोग:

  • लोहे की अशुद्धि दूर करने में।
  • तापसह ईटों को निर्माण में।

प्रमुख क्षेत्र:

  • बिलासपुर – हिर्री , बेलपान ,लाल खदान
  • जांजगीर-चांपा – अकलतरा , डभरा , बाराद्वार , सक्ति , मदनपुर
  • रायगढ़ – कंटगपाली
  • बेमेतरा – कोदवा , मोहभट्टा
  • बस्तर – तिरिया ,मंचकोटा , कुम्हाली , जीरागांव
  • बलौदाबाजार – भाटापारा

अभ्रक (mica)

  • चट्टान – आग्नेय तथा परिवर्तित चट्टान से
  • उपयोग – विधुत सामग्रियों में इन्सुलेशन के रूप में वायु यानो में ऊंच शक्ति वाले मोटर के  रूप में।
  • निक्षेप – दंतेवाड़ा , बस्तर , जशपुर , बिलासपुर ,रायपुर
  • दन्तेवाड़ा में जगदलपुर – सुकमा मार्ग में दरभा घाटी के सड़क के किनारे किनारे निक्षेप मिलता  है। गोलापल्ली   पहाड़ी जीरम ,बोडणार ,जुगानी ,तथा मुरना नदी के किनारे किनारे मिलता है।
  • जशपुर तहसील के रंगोला जगमारा ,डुमरघाट ,क्योंनघन पानी , बोरतली , तेराताली ,झारंगाव तथा बुरनीजारटोला   में अभ्रक मिलता है।
  • कोरबा के रतनखण्डी में मिलता है।
  • सूरजपुर के पेंट्री में तथा सूरजपुर के कालिकापुर में अभ्रक मिलता है।

हीरा (daimond)

  • हीरा की प्राप्ति किम्बरलाइट चट्टानों से होती है।
  • अपररूप – कार्बन
  • उपयोग – आभूषण ,कांच को काटने में
  • प्रदेश में अनुमानित भंडार 13 लाख कैरेट है।
  • प्राप्ति क्षेत्र – गरियाबंद –  मैनपुर, पायलीखंड, बेहराडीह, कोदोमाली, जांगड़ा, कुसुमपुरा, देवभोग  .
  • बस्तर – तोकापाल
  • प्रदेश में हीरा खनिज का विकास का अधिकार राज्य खनिज विकाश निगम को दिया गया है।

कोयला

  • काला हीरा के नाम से प्रसिद्ध कोयला तापीय उद्योग का मुख्य साधन है। छत्तीसगढ़ में कोयल गोंडवाना युग के चट्टानों में पाया जाता है।
  • छत्तीसगढ़ में बिटुमिनस प्रकार का कोयला पाया जाता है।
  • प्रदेश में कोयला का अनुमानित भण्डारण 54912 मिलियन टन है , जो कि देश के कुल भण्डारण का 17.91 % है। भण्डारण की दृष्टि से राज्य का तीसरा स्थान है।

कोयला क्षेत्र:

  • कोरबा – मुकुलघाट , कुसमुण्डा ,गेवरा ,दीपका ,मानिकपुर आदि।
  • रायगढ़ – मांड रायगढ़ कोयला क्षेत्र , गारेपालमा , कुडुमकेला, धरमजयगढ़ , तेलाईपाली ,घरघोड़ा , जामपाली , चिमटापाली
  • कोरिया – सोनहट ,चिरमिरी ,कोरासिया ,झगराखंड
  • सूरजपुर – विश्रामपुर
  • बलरामपुर – रामकोला , तातापानी
  • सरगुजा – लखनपुर

लौह अयस्क

  • लौह अयस्क मुख्यतः शैल समूह में पाया जाता है।
  • छत्तीसगढ़ मुख्यतः हेमेटाइट प्रकार का लौह अयस्क पाया जाता है।

उत्पादन:

  • 2017- 18 में लौह अयस्क उत्पादन में छत्तीसगढ़ का लगभग 34546 हज़ार टन है। जो देश के कुल उत्पादन का 17.19 % है।
  • उत्पादन की दृष्टि से देश में छत्तीसगढ़ का कर्नाटक के बाद दूसरा स्थान है।

लौह अयस्क क्षेत्र:

  • बालौद – दल्लीराजहरा ,डौंडी लोहरा
  • दंतेवाड़ा – बैलाडीला , किरणदुल , बचेली
  • कांकेर – रावघाट , आरीडोंगरी , चरामा , मेआबोदेली , भानुप्रतापपुर
  • नारायणपुर – छोटेडोंगरी
  • कवर्धा – एकलामा , चेलिकलामा
  • राजनाँदगाँव – बोरिया टिब्बू , नचनिया
  • गरियाबंद – मछुआ बहल
  • महासमुंद – सरगुणभाटा

मैगनीज (Maganese):

  • यह धारवाड़ चट्टानों में प्राकृतिक आक्साइड के रूप में मिलता है।
  • ये बिलासपुर और बस्तर जिलों में पाया जाता है।
  • इसका प्रयोग बैटरी निर्माण ,फोटोग्राफी में लवंडों  के रूप में ,चमड़ा तथा माचिस उधोग में ,वस्त्र उधोग में , कांच को रंगने में पटरी पेण्ट में और रंगीन ईंट  बनाने में  होता है।
  • जांजगीर चंपा  जिले -मुलमुला , सेमरा , कोलिहाटोला , बिलासपुर  रतनपुर क्षेत्र -करियामुण्डा ,कोरी , और , गोरखाना में निक्षेप पाए जाते है। इस क्षेत्र के मैगनीज की मात्रा  13 से 41 % मिलता है।
  • बस्तर क्षेत्र – कुछ निक्षेप पाए जाते है।
  • गरियाबंद – छुरा , पारसोली  में निक्षेप मिलते है।

कोरण्डम (Korandam):-

  • राज्य में कोरण्डम का अनुमानित भण्डार 48 टन  है।
  • ये हिरा के बाद दूसरा कठोर खनिज है।
  • इसमें 52. 9 % एल्युमिनियम होता है।
  • क्षेत्र  बीजापुर – भोपालपटनम से 2किमी की दुरी पर कुचनूर में है।
  • सुकमा जिले में – सोनाकुकानार एवं नगारास।

बॉक्साइट

  • यह एल्युमिनियम का अयस्क है जो राज्य में मुख्य रूप से दक्कन ट्रैप (बेसाल्ट ) के चट्टानों में पाया जाता है।

उत्पादन:

  • 2017-18 के अनुसार लगभग 2558453 हज़ार टन हुआ जोकि देश के कुल उत्पादन 11.47 % है। उत्पादन के दृष्टि से छत्तीसगढ़ का स्थान चौथा है।

बॉक्साइट क्षेत्र:

  • सरगुजा – मैनपाट ,बरिमा , डांडकेसरा , सरभंजा , जमीर पाट
  • जशपुर – पंड्रापाठ , दातुनपानी , कदमपाट , केरापाट
  • बलरामपुर – समीरपाट
  • कोरबा – फुटका पहाड़ , पवनखेड़ा पहाड़
  • कवर्धा – बोदई, दलदली
  • बस्तर – आसना , तारापुर

टिन

  • सामरिक धातु के नाम के विख्यात देश में छत्तीसगढ़ टिन का एकमात्र उत्पादक राज्य है।
  • टिन  की प्राप्ति कैसेराइट अयस्क से होती है।

उत्पादन:

  • 2017- 18 के अनुसार 16758 किग्रा हुआ। जो देश के कुल उत्पादन का 100 % है।

प्रमुख क्षेत्र:

  • दंतेवाड़ा – कटेकल्याण , बचेली
  • सुकमा – चिंतलनाल , कोंटा

क्वार्ट्ज:

  • इसका उपयोग सजावटी  लिए किया जाता है जैसे की सजावटी पत्थर , चीनीमिट्टी , काँच ,कपड़ा एवं कागज उधोग में चमक  लाने में किया जाता है।

प्रमुख क्षेत्र:

  • दंतेवाड़ा
  • राजनाँदगाँव
  • दुर्ग
  • रायगढ़

यह भी देखें 👉👉 छत्तीसगढ़ में कृषि

admin

Recent Posts

एकादशी व्रत 2021 तिथियां – Ekadashi 2021 Date – एकादशी व्रत का महत्व

एकादशी का हिंदू धर्म में एक विशेष महत्व है। हिंदू धर्म में व्रत एवं उपवास को धार्मिक दृष्टि से एक… Read More

51 years ago

मोक्षदा एकादशी पूजा विधि, व्रत कथा

मोक्षदा एकादशी मार्गशीर्ष महीने के शुक्ल पक्ष की एकादशी को मोक्षदा एकादशी कहा जाता है। इस एकादशी को वैकुण्ठ एकादशी… Read More

51 years ago

उत्पन्ना एकादशी पूजा विधि, व्रत कथा

उत्पन्ना एकादशी मार्गशीर्ष मास के शुक्लपक्ष की एकादशी को उत्पन्ना एकादशी कहते हैं। इस एकादशी को मोक्षदा एकादशी भी कहा… Read More

51 years ago

देवउठनी एकादशी या देवुत्थान एकादशी पूजा विधि, व्रत कथा

देवउठनी एकादशी या देवुत्थान एकादशी कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी को देवउठनी एकादशी या देवुत्थान एकादशी कहा जाता… Read More

51 years ago

रमा एकादशी पूजा विधि, व्रत कथा

रमा एकादशी कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की एकादशी को रमा एकादशी कहा जाता है। इस व्रत को करने से… Read More

51 years ago

पापांकुशा एकादशी पूजा विधि, व्रत कथा

पापांकुशा एकादशी आश्विन शुक्ल पक्ष की एकादशी को पापांकुशा एकादशी कहते हैं। जैसा कि नाम से ही पता चलता है… Read More

51 years ago

For any queries mail us at admin@meragk.in