Categories: Madhya Pradesh

मध्य प्रदेश में उद्योग-व्यापार

  • औद्योगिक विकास की दृष्टि से मध्य प्रदेश का देश में 7वां स्थान है।
  • राज्य की आय में औद्योगिक क्षेत्र का योगदान 14 प्रतिशत है।
  • राज्य की जी.डी.पी. में उद्योग का योगदान (2011-12) 29.38% रहा।
  • मध्य प्रदेश हस्त शिल्प विकास निगम की स्थापना 1981 में की गयी।
  • ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट में 4,31,555 करोड़ रूपये के निवेश प्रस्ताव पारित हुए। यह समिट 28 अक्टूबर से 30 अक्टूबर 2012 में इंदौर में आयोजित की गयी।
  • केंद्र सरकार द्वारा स्वीकृत मध्य प्रदेश के औद्योगिक केंद्र –
  1. पीथमपुर-धार
  2. पुरैना-पन्ना
  3. मालनपुर-भिंड
  4. मेघनगर-झाबुआ
  5. मनेरी-मंडला
  6. पीलूखेड़ी-राजगढ़
  • केंद्र के द्वारा भारत में विकसित किये जाने वाले 19 औद्योगिक विकास केंद्रों में से एक ‘पीथमपुर’ (धार) मध्य प्रदेश में है।
  • पीथमपुर (धार) को भारत का डेट्राइट कहा जाता है क्योकि यहां अनेक कार निर्माण उद्योग लगे हैं।
  • विजय कुमार इंटरनेशनल, पीथमपुर (धार) में हीरा परिष्करण का राज्य का सबसे बड़ा कारखाना है।
  • मध्य प्रदेश में शुष्क बंदरगाह पीथमपुर में स्थापित किया गया है।
  • प्रदेश का पहला निर्यात संवर्धन पार्क पीथमपुर में स्थापित किया गया है।
  • मध्य प्रदेश का एकमात्र ऑप्टिकल फाइबर कारखाना मंडीद्वीप में जापान के सहयोग से स्थापित है।
  • जरी-कड़ाई उद्योग भोपाल में केंद्रित है।
  • राज्य का एकमात्र घडी निर्माण का कारखाना बैतूल में है।
  • सेंटर फॉर एडवांस टेक्नोलॉजी (कैट), सुखनिवास रोड, इंदौर में स्थित आणविक अनुसंधान केंद्र है। यह ‘लेज़र उत्पादन’ का एशिया का पहला और दुनिया का तीसरा केंद्र है।
  • राज्य में वस्त्र उद्योग का प्रमुख केंद्र इंदौर है।
  • राज्य का पश्चिमी भाग ‘सूती कपडा हब’ है जहां सभी 22 सूती कपडा मिल केंद्रित हैं।
  • बुधनी (सीहोर) में रेलवे स्लीपर का निर्माण होता है।
  • टिशू पेपर बनाने का कारखाना इंदौर में है।

मध्य प्रदेश की जलवायु – Climate of Madhya Pradesh

  • कृत्रिम रेशे से धागा ग्रसीम इंडस्ट्रीज, नागदा में बनाया जाता है।
  • कृत्रिम रेशे से कपडा नागदा, उज्जैन इंदौर, ग्वालियर, देवास में बनाया जाता है।
  • राज्य में ऊन के कपडे बनाने के दो कारखाने इंदौर में है ।
  • मैदा उत्पादन के तीन प्रमुख केंद्र हैं: इंदौर, भोपाल, गंजबासोदा
  • कास्टिक सोडा के तीन प्रमुख केंद्र हैं: अमलाई, नागदा, नेपानगर
  • राज्य का सबसे बड़ा शक्कर कारखाना है: बरलाई
  • राज्य की दो सहकारी चीनी मिले हैं: बरलाई (देवास) और कैलारस (मुरैना)
  • मध्य प्रदेश पोस्ट एंड टेलीग्राफ वर्कशॉप जबलपुर में टेलीफोन और टेलीग्राफिक उपकरण बनाये जाते हैं।
  • डीजल इंजन बनाने का कारखाना इंदौर में लगाया गया है।
  • राज्य में रक्षा उत्पादन की 6 फैक्ट्रियां हैं जिनमे से चार अकेले जबलपुर में है।
  • विजयपुर (गुना) में नेशनल फ़र्टिलाइज़र कारखानों का निर्माण इटली एवं अमेरिका के सहयोग से किया गया था।
  • एयर कार्गो कॉम्प्लेक्स की स्थापना इंदौर में की गयी है।
  • राज्य में व्यापार केंद्र की स्थापना भोपाल में की गयी है।
  • मध्य प्रदेश की प्रथम औद्योगिक स्वास्थ्य प्रयोगशाला इंदौर में स्थापित की गयी है।
  • इंडो-जर्मन टूल की स्थापना इंदौर में की गयी है।
  • केंद्र सरकार ने इलेक्ट्रॉनिक्स टेस्टिंग व विकास केंद्र की स्थापना इंदौर में की है।
  • प्रदेश में कृत्रिम रेशा बनाने का कारखाना नागदा में स्थित है।
  • बुरहानपुर जिला पावरलूम उद्योग के लिए प्रसिद्द है।
  • जिलेटिन बनाने का कारखाना जबलपुर में है।
  • इन्सुलेटिन बनाने का कारखाना देवास में है।
  • खैरवार जनजाति के द्वारा कत्था बनाने का कार्य विशेषतः पूर्वी मध्य प्रदेश में किया जाता है।
  • खैर वृक्ष की लकड़ी से कत्था बनाने का कारखाना शिवपुरी तथा बानमोर (मुरैना) में स्थापित है।
  • कच्चे लाख से सीड लाख तथा शैलाख बनाने का एक शासकीय कारखाना उमरिया में है।
  • इटारसी में चिप बोर्ड और पार्टिकल बोर्ड हैं।
  • ग्वालियर में दिया सलाई बनाने का कारखाना है।

यह भी पढ़ें – –

Subscribe Us
for Latest Updates