World Blood Donor Day 2021 – विश्व रक्तदान दिवस कब और क्यों मनाया जाता है?

World Blood Donor Day – विश्व रक्तदान दिवस कब और क्यों मनाया जाता है?

World Blood Donor Dayविश्व रक्तदान दिवस हर साल 14 जून को मनाया जाता है। विश्व रक्तदान दिवस को मनाये जाने का कारण है कि इसे रक्तदान को बढ़ावा देने और उससे जुड़ी भ्रांतियों को दूर करने के लिए मनाया जाता है। इस दिन कई जगह रक्तदान के शिविर लगाए जाते हैं। इस अभियान से बहुत लोगों की जान बचाई जाती है। वर्ष 2004 में “विश्व स्वास्थ्य संगठन, अंतरराष्ट्रीय रेड क्रॉस संघ तथा रेड क्रिसेंट समाज” के द्वारा 14 जून को वार्षिक तौर पर मनाने के लिये पहली बार इसकी शुरुआत और स्थापना हुयी।

विश्व रक्तदान दिवस 14 जून को ही क्यों मनाया जाता है?

14 जून 1868 को ही महान वैज्ञानिक कार्ल लैंडस्टाईन का जन्‍म हुआ था। शरीर विज्ञान में नोबल पुरस्कार प्राप्त प्रसिद्ध वैज्ञानिक कार्ल लैंडस्टेनर की याद में विश्व रक्तदान दिवस मनाया जाता है। कार्ल लैंडस्टेनर को ABO ब्लड ग्रुप सिस्टम खोजने का श्रेय जाता है। इस महत्‍वपूर्ण खोज के लिए ही कार्ल लैंडस्टेनर को सन 1930 में नोबल पुरस्कार दिया गया।

World Blood Donor Day Theme

  • विश्व रक्त दाता दिवस 2019 की थीम है “सभी के लिए सुरक्षित रक्त।”
  • विश्व रक्त दाता दिवस 2018 की थीम है “रक्त हमें सभी से जोड़ता है।”
  • विश्व रक्त दाता दिवस 2017 की थीम है “रक्त देना, अभी देना ,अक्सर देना।”
  • विश्व रक्त दाता दिवस 2016 की थीम है “रक्त हमें सभी से जोड़ता है।”
  • विश्व रक्त दाता दिवस 2015 की थीम है “मेरा जीवन बचाने के लिये धन्यवाद।”
  • विश्व रक्त दाता दिवस 2014 की थीम है “माताओं को बचाने के लिये रक्त बचायें।”
  • विश्व रक्त दाता दिवस 2013 की थीम है “जीवन का उपहार दें:रक्त-दान करें।”
  • विश्व रक्त दाता दिवस 2012 की थीम है “हर खून देने वाला इंसान हीरो होता है।”
  • विश्व रक्त दाता दिवस 2011 की थीम है “अधिक रक्त, अधिक जीवन।”
  • विश्व रक्त दाता दिवस 2010 की थीम है “विश्व के लिये नया रक्त।”
  • विश्व रक्त दाता दिवस 2009 की थीम है “रक्त और रक्त के भागों का 100% गैर-वैतनिक दान को प्राप्त करना।”
  • विश्व रक्त दाता दिवस 2008 की थीम है “नियमित रक्त दें।”
  • विश्व रक्त दाता दिवस 2007 की थीम है “सुरक्षित मातृत्व के लिये सुरक्षित रक्त।”
  • विश्व रक्त दाता दिवस 2006 की थीम है “सुरक्षित रक्त के लिये विश्वव्यापी पहुँच को सुनिश्चित करने के लिये प्रतिबद्धता।”
  • विश्व रक्त दाता दिवस 2005 की थीम है “रक्त के आपके उपहार को मनायें।”
  • विश्व रक्त दाता दिवस 2004 की थीम है “रक्त जीवन बचाता है। मेरे साथ रक्त बचाने की शुरुआत करें।”

रक्तदान करने के फायदे

  • रक्तदान करने से शरीर में नए tissues बनते हैं, जिसके कारण कैंसर जैसी गंभीर बीमारी से बचा जा सकता है।
  • रक्तदान से हार्ट अटैक की संभावनाएं कम होती हैं. क्योंकि रक्तदान से खून का थक्का नहीं जमता, इससे खून कुछ मात्रा में पतला हो जाता है और हार्ट अटैक का खतरा टल जाता है।
  • नियमित रुप से रक्तदान करने से शरीर में आयरन की मात्रा संतुलित रहती है।
  • खून का दान करने से वजन कम करने में मदद मिलती है, इसीलिए हर साल कम से कम 2 बार रक्तदान करना चाहिए।
  • रक्तदान करने से शरीर में ऑक्सीजन की सही तरीके से सप्लाई होती है।
  • रक्तदान करने से लिवर से जुड़ी समस्याओं में राहत मिलती है।
  • रक्त दान करने से ब्लड प्रेशर सामान्य और कोलेस्ट्रॉल का स्तर कम रहता है।

रक्तदान करने से पहले रखें इन बातों का ध्यान

  • रक्तदान 18 साल की उम्र के बाद ही करें।
  • रक्तदाता का वज़न 45 से 50 किलोग्राम से कम ना हो।
  • खून देने से 24 घंटे पहले से ही शराब, धूम्रपान और तम्बाकू का सेवन ना करें।
  • खुद की मेडिकल जांच के बाद ही रक्तदान करें और डॉक्टर को सुनिश्चित करें कि आपको कोई बीमारी ना हो।
  • खून के दान करने से पहले अच्छी नींद लें, तला खाना और आइस क्रीम अवॉइड करें।
  • शरीर में आइरन की मात्रा भरपूर रखें, इसके लिए दान से पहले खाने में मछली, बीन्स, पालक, किशमिश या फिर कोई भी आइरन से भरपूर चीज़ें खाएं।

यह भी देखें 👉👉 World Environment Day: विश्व पर्यावरण दिवस क्यों मनाया जाता है?

Recent Posts

गणतंत्र दिवस 2021 – India Republic Day 2021

गणतंत्र दिवस 2021 - India Republic Day 2021 गणतंत्र दिवस 2021 - India Republic Day 2021 - गणतंत्र दिवस (Republic… Read More

51 years ago

Current Affairs December 2020 in Hindi – करंट अफेयर्स दिसंबर 2020

Current Affairs December 2020 in Hindi – करंट अफेयर्स दिसंबर 2020 Current Affairs December 2020 in Hindi – दिसंबर 2020… Read More

51 years ago

एकादशी व्रत 2021 तिथियां – Ekadashi 2021 Date – एकादशी व्रत का महत्व

एकादशी का हिंदू धर्म में एक विशेष महत्व है। हिंदू धर्म में व्रत एवं उपवास को धार्मिक दृष्टि से एक… Read More

51 years ago

मोक्षदा एकादशी पूजा विधि, व्रत कथा

मोक्षदा एकादशी मार्गशीर्ष महीने के शुक्ल पक्ष की एकादशी को मोक्षदा एकादशी कहा जाता है। इस एकादशी को वैकुण्ठ एकादशी… Read More

51 years ago

उत्पन्ना एकादशी पूजा विधि, व्रत कथा

उत्पन्ना एकादशी मार्गशीर्ष मास के शुक्लपक्ष की एकादशी को उत्पन्ना एकादशी कहते हैं। इस एकादशी को मोक्षदा एकादशी भी कहा… Read More

51 years ago

देवउठनी एकादशी या देवुत्थान एकादशी पूजा विधि, व्रत कथा

देवउठनी एकादशी या देवुत्थान एकादशी कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी को देवउठनी एकादशी या देवुत्थान एकादशी कहा जाता… Read More

51 years ago

For any queries mail us at admin@meragk.in