मध्य प्रदेश के प्रमुख पर्यटन स्थल | Tourist Places of Madhya Pradesh

tourist places of madhya pradesh

Tourist Places of Madhya Pradesh – मध्य प्रदेश के प्रमुख पर्यटन स्थल निम्नलिखित हैं:

पंचमढ़ी

  • पंचमढ़ी यहां का प्रमुख हिल स्टेशन है।
  • होशंगाबाद जिले में पिपरिया स्टेशन के निकट स्थित है।
  • इसकी खोज फोरसिथ ने की थी।
  • दर्शनीय स्थल: प्रियदर्शनी और हाड़ी खोह, अप्सरा-बिहार, रजत प्रपात, राजगिरि, लांजी गिरी, आइरीन सरोवर, जलावरण (डचेस फॉल), चौरागढ़, धूपगढ़, पांडव गुफाये, धुआँधार, भ्रांत नीर (डीरोथी डिप), अस्तांचल, बीनवादक की गुफा (हार्पर केव) तथा सरदार गुफा, राज्य की पुलिस प्रशिक्षण शाला आदि।

अमरकंटक

  • प्रमुख हिल स्टेशन है जो पुष्पराजगढ़ तहसील (अनूपपुर जिले) में है।
  • नर्मदा, सोन, जाहिला तीन नदियों का उद्गम स्थल।
  • 2005 में पवित्र नगर घोषित।
  • दर्शनीय स्थल: कपिलधारा व दुग्धधारा जल प्रपात, सोनमुडा, माइकी बगीया, कबीर चौराहा, भृगु कमण्डनल, पुष्कर बाँध।

खुजराहो

  • छतरपुर जिले में स्थित चंदेल राजा धंग द्वारा निर्मित मंदिर (11वीं सदी)
  • यूनेस्को की विश्व धरोहर सूची में शामिल
  • दर्शनीय स्थल: कंदरिया महादेव, चौंसठ योगिनी, चित्रगुप्त, विश्वनाथ मंदिर, लक्ष्मण मंदिर, मांतगेश्वर मंदिर, पार्श्वनाथ मंदिर, घंटाई मंदिर, आदिनाथ मंदिर, दक्षिण समूह – दूल्हादेव मंदिर तथा चतुर्भुज मंदिर, बेनी सागर बाँध तथा स्नेह प्रपात।

मांडू (City of Joy)

  • मालवा का सौंदर्य स्थल मांडू को शादियाबाद अर्थान हर्ष नगर से जाना जाता था।
  • मध्य प्रदेश के धार जिले में स्थित मांडू का प्राचीन नाम मण्डपदुर्ग या मांडवगढ़ था।
  • बाजबहादुर ने जहाज-महल, हिंडोला महल का निर्माण कराया।
  • दर्शनीय स्थल: मांडू का परकोटा – जिसमे 12 दरवाजे हैं जो रामपोल, तारापुर दरवाजा, जहांगीर दरवाजा, दिल्ली दरवाजा, जहाज महल, हिंडोला महल, होशंगशाह का मकबरा, जमा मस्जिद, असर्फी महल, रेवा कुंड, रूपमती मंडप, नीलकंठ महल, हाथी महल तथा लोहानी गुफाएं।

सांची

  • जिला: रायसेन
  • यह भोपाल से 45 किमी दूर स्थित है।
  • इसका प्राचीन कालीन नाम ‘काकणाय’ या ‘बौद्ध श्रीपर्वत’ था।
  • निर्माण: मौर्य सम्राट अशोक द्वारा
  • स्तूपों में सबसे बड़ा मोग्ल्यान और सारिपुत्र की अस्थियों चन्द्रगुप्त विक्रमादित्य के सेनापति आक्रमादेव का अभिलेख देखने को मिलता है।

विदिशा

  • इसका प्राचीन नाम भिलसा या बेसनगर था।
  • दर्शनीय स्थल: लोहोंगी शीला, गुम्बज, बीजा मंडल, सम्राट अशोक सागर (हलाली सागर)

ग्वालियर

  • इसकी स्थापना गालव ऋषि के नाम पर हुई।
  • दर्शनीय स्थल: ग्वालियर दुर्ग (बलुए पत्थर), गूजरी महल, मान मंदिर, सूरजकुंड, तेली का मंदिर, सास बहु का मंदिर, जयविलास महल, रानी लक्ष्मीबाई की अश्वारोही मूर्ति, संग्रहालय, तानसेन की समाधि, गॉस मोहम्मद का मकबरा, रानी लक्ष्मीबाई की समाधि, कला वीथिका, नगरपालिका संग्रहालय, चिड़ियाघर, गुरुद्वारा, सूर्य मंदिर

बवनगजा

  • बवनगजा एक प्रसिद्ध जैन तीर्थस्थल है
  • यहाँ 72 फीट ऊंची जैन मूर्ति है

उदयगिरी की गुफाएं

  • विदिशा स्थित उदयगिरि में बीस गुफाएं हैं।
  • गुफा नं० 1 और 20 जैन धर्म से सम्बंधित है।
  • गुफा नं० 5 में वराह अवतार की विशाल प्रतिमा है।
  • इन गुफाओं का समय गुप्तकाल (4-5वीं शताब्दी) का है।

मुक्तागिरी

  • मुक्तागिरी मध्य प्रदेश के बैतूल जिले में स्थित प्रमुख जैन तीर्थ स्थल है
  • यहाँ 52 मंदिर है

उज्जैन

  • यह क्षिप्रा नदी के तट पर स्थित है।
  • दर्शनीय स्थल: महाकालेश्वर मंदिर, जंतर-मंतर, चिंतामणि गोपालजी का मंदिर, संदीपनी आश्रम, मंगलनाथ मंदिर, भर्तृहरि गुफा।
  • यहां पर 12 वर्षों बाद कुम्भ का मेला लगता है।
  • 2005 में इसे पवित्र नगर घोषित किया गया।

यह भी पढ़ें – – मध्य प्रदेश के प्रमुख महल – Palace in Madhya Pradesh

यह भी पढ़ें – – मध्य प्रदेश के प्रमुख किले – Major Forts in Madhya Pradesh