Categories: Madhya Pradesh

मध्य प्रदेश के प्रमुख किले – Major Forts in Madhya Pradesh

Forts in Madhya Pradesh – मध्य प्रदेश के प्रमुख किले

Forts in Madhya Pradesh – मध्य प्रदेश के प्रमुख किले निम्नलिखित हैं:

ग्वालियर का किला

  • इसे किलों का रत्न, पूर्व का “जिब्राल्टर” कहा जाता है।
  • इसका निर्माण कछवाहा वंशी राजा सूरजसेन ने सं 525 ई० में करवाया था।
  • ग्वालियर किले के पांच द्वार हैं:
    • आगलगीरी/आलमगीरी
    • हिंडोला
    • गूजरीमहल
    • चतुर्भुज मंदिर दरवाजा
    • हाथी बाड़ा दरवाजा
  • ग्वालियर के किले में निम्न इमारतें महत्वपूर्ण हैं:
    • मान मंदिर
    • गूजरीमहल
    • तेली का मंदिर
    • हाथी की विशाल प्रतिमा (तोमर नरेश मानसिंह द्वारा)
  • तेली का मंदिर उत्तर भारत में एकमात्र द्रविड़ शैली से निर्मित मंदिर है।
  • सास बहु का मंदिर: 11वीं सदी में राजा महिपाल द्वारा निर्मित। इसमें भगवान् सहस्त्रबाहु (विष्णु) की मूर्ति है।
  • इस किले की तलहटी में 15वीं शताब्दी के राजा डोंगर सिंह द्वारा बनवाये जैन मंदिर हैं। जिसमे सर्वाधिक ऊंची प्रतिमा जैन तीर्थकर आदिनाथ की है।
  • इसी किले में मध्य प्रदेश का सबसे बड़ा गुरुद्वारा “दाता बंदी छोड़” है।
  • ग्वालियर का पुराण नाम गोपांचल है।
  • ग्वालियर के किले का निर्माण गालब ऋषि के सम्मान में करवाया गया था।

धार का किला

  • इस किले का पुनर्निर्माण 1344 में मुहम्मद बिन तुगलक ने दक्षिण विजय के दौरान देवगिरि जाते समय करवाया था।
  • इस किले के अंदर देवी कालका मंदिर का निर्माण परमार नरेश मुंज ने करवाया था।
  • इस किले में पेशवा बाजीराव का जन्म हुआ था।
  • 1732 में मराठाओं ने अपने अधिकार में ले लिया।
  • इसी किले में खरबूजा/खारवाना महल स्थित है।
  • अब्दुल शाह चंगश का कम्बरा है।

असीरगढ़ का किला

  • बुरहानपुर जिले में अवस्थित
  • इसका निर्माण 10वीं शताब्दी में अहीर राजा “आशा” ने करवाया था।
  • इसको “दक्षिण का द्वार” बुरहानपुर दर्रा कहा जाता है।
  • मुमताज महल की मृत्यु इसी महल में हुई थी।
  • इसे अकबर ने सोने की चाबियों से विजित किया था।

चंदेरी का किला

  • मुगांवली (अशोक नगर) में अवस्थित
  • चंदेरी के किले का निर्माण प्रतिहार वंश के राजा कीर्तिपाल (11वीं सदी) द्वारा करवाया गया था।
  • यह बेतवा नदी के किनारे स्थित है।
  • चंदेरी के किले में निम्न मशहूर इमारतें हैं:
    • हवा महल
    • जौहरा कुंड
    • नौखण्डा महल
    • खूनी दरवाजा
  • जौहर कुंड (1528) में बाबर के आक्रमण के समय 300 राजपूत रानियों ने प्रज्वलित अग्नि में प्राण दिए थे।
  • इस समय यहां का शासक मेदनीराय था।
  • वर्तमान में चंदेरी हाथ से बानी सीड़ियों के लिए प्रसिद्द है।

continue reading Forts in Madhya Pradesh

गिन्नौरगढ़ का दुर्ग

  • जिला: रायसेन
  • इस दुर्ग का निर्माण 13वीं शताब्दी में महाराजा उदय वर्मन ने अशर्फी पहाड़ी पर करवाया था।
  • यह क्षेत्र “शुक क्षेत्र” कहा जाता है क्योकि इस क्षेत्र में तोते बहुतायत में पाए जाते हैं।
  • इसे ‘तोते’ का किला भी कहा जाता है।

रायसेन का दुर्ग

  • इस दुर्ग का निर्माण 16वीं शताब्दी में राजा “राजबसंती” ने करवाया था।
  • इस दुर्ग में निम्नलिखित इमारतें हैं:
    • बादल महल
    • गजारोहित महल
    • इत्रदार महल
  • इस किले में चार तालाब हैं जिसमे से ‘शेषग्राही तालाब’ अत्यधिक प्रसिद्द है।

बांधवगढ़ का किला

  • जिला: उमरिया
  • 14वीं शताब्दी में बघेलखण्ड के राजा व्याघ्र देव द्वारा निर्मित है।
  • यह दक्षिण पूर्व रेलमार्ग के कटनी बिलासपुर मार्ग पर स्थित है।
  • यहां शेषाशाही तालाब व विष्णु का मंदिर अवस्थित है।
  • बांधवगढ़ राष्ट्रीय पार्क में अवस्थित।
  • यह किला विंध्यांचल पर्वतमाला पर 900 मी० की ऊंचाई पर स्थित है।
  • 16वीं शताब्दी में बघेलखण्ड के राजा विक्रमादित्य ने अपनी राजधानी बांधवगढ़ से रीवा स्थानांतरित की।

अजयगढ़ का किला

  • जिला: पन्ना
  • निर्माण: राजा अजयपाल द्वारा
  • यह किला बारीक पत्त्थरों की नक्काशी के लिए प्रसिद्द है।
  • इस किले में राजा अमन का महल स्थित है।

यह भी पढ़ें – – मध्य प्रदेश की प्रमुख जनजातियाँ – Major tribes of Madhya Pradesh

ओरछा का किला

  • जिला: टीकमगढ़
  • निर्माण: बुंदेलवंशी राजा ‘वीरसिंह बुंदेला’ द्वारा
  • यह दुर्ग बेतवा नदी के किनारे स्थित है।
  • इस दुर्ग में निम्न मंदिर हैं:
    • चतुर्भुज मंदिर
    • राम मंदिर
    • लक्ष्मीनारायण मंदिर
  • जहांगीर महल का निर्माण वीरसिंह बुंदेला ने करवाया था।

मंडला का दुर्ग

  • जिला: मंडला
  • यह दुर्ग बंजर एवं नर्मदा नदी के संगम पर स्थित है।
  • इसका निर्माण ‘गौंड नरेश नरेन्द्रशाह’ ने करवाया था
  • मंडला जिले में राजराजेश्वरी भवन का निर्माण निजामशाह ने करवाया था।

मदसौर का किला

  • इसका निर्माण 14वीं शताब्दी में अलाउद्दीन खिलजी ने करवाया था।
  • यहां पर 500 वर्ष पुराना तापेश्वर मंदिर स्थित है।

नरवर का किला

  • जिला: शिवपुरी
  • निर्माण: राजा नल द्वारा
  • यह किला राजा नल एवं दमयंती की प्रणय कथा के लिए प्रसिद्द है।
  • यह क्षेत्र कछवाहा, तोमर और जयपुर के राजघराने के लिए प्रसिद्द है।
admin

Recent Posts

Blueberry in Hindi – ब्लूबेरी (नीलबदरी) के फायदे, उपयोग और नुकसान

Blueberry in Hindi Blueberry in Hindi - ब्लूबेरी को "नीलबदरी" के नाम से भी जाना जाता है जो कि स्‍वास्‍थ्‍य… Read More

2 hours ago

कौन था वो योद्धा जो महाभारत के युद्ध से बाहर था?

द्वापरयुग में श्री नारायण ने श्री कृष्णा अवतार लिया था दुराचारी कंस के संहार के लिए। कंस के दुराचार इतने… Read More

19 hours ago

पांडवों ने अपने अस्त्र कहाँ छुपाये?

द्वारपरयुग के महाभारत की कहानी तो हम सभी जानते हैं, एक ऐसा युद्ध जिसमें द्वापरयुग के सभी महान योद्धाओं ने… Read More

19 hours ago

शिखंडी: एक रहस्यमयी व्यक्ति, जानिये कौन था शिखंडी?

महाभारत का युद्ध द्वापरयुग में अधर्म पर धर्म की जीत का युद्ध था। महाभारत में ऐसे अनेकों पात्र हैं जिनकी… Read More

19 hours ago

आखिर कैसे गांधारी ने 100 पुत्रों को जन्म दिया?

महाभारत ग्रन्थ में हमने अनेकों किरदारों के बारे में पढ़ा है और उन किरदारों के सन्दर्भ में अनेकों प्रचलित कथाओं… Read More

20 hours ago

Janmashtami 2020 Date, Puja Vidhi – जन्माष्टमी क्यों मनाई जाती है?

Janmashtami (जन्माष्टमी) Janmashtami Date, Puja Vidhi, Muhurat- जन्माष्टमी क्यों मनाई जाती है? भारतवर्ष अपने भिन्न भिन्न प्रकार के त्यौहारों के… Read More

2 days ago

For any queries mail us at admin@meragk.in

Hindi Movies Buy Online 👉👉 https://amzn.to/2WVlFwG