Categories: Uttarakhand

Rivers in Uttarakhand (उत्तराखंड की प्रमुख नदियाँ )

Rivers in Uttarakhand (उत्तराखंड की प्रमुख नदियाँ )

Rivers in Uttarakhand – उत्तराखंड की प्रमुख नदियाँ निम्न प्रकार हैं:

अलकनंदा:

अलकनंदा नदी अलकापुरी स्थित सतोपंथ शिखर के हिमनद और सतोपंथ ताल से निकलती है। शुरुवात में इसको विष्णुगंगा भी कहा जाता है। इसकी लम्बाई 195 किलोमीटर है। इसकी सहायक नदियाँ लक्ष्मणगंगा, नंदाकिनी, मन्दाकिनी, भागीरथी, धौलीगंगा, पिंडर, नबालिका हैं।

मन्दाकिनी :

मन्दाकिनी नदी चौराबाड़ी ताल से निकलती है। यह सोनप्रयाग में कालीगंगा तथा रुद्रप्रयाग में अलकनंदा नदी से मिलती है।

भागीरथी:

भागीरथी नदी उत्तरकाशी जिले में स्थित गंगोत्री से 19 किलोमीटर दूर शिवलिंग शिखर के निचे गोमुख ग्लेशियर से निकलती है। इसकी लम्बाई 205 किलोमीटर है। भागीरथी और अलकनंदा का संगम देवप्रयाग में होता है जिसके बाद इसे गंगा कहा जाता है।

नंदाकिनी:

नंदाकिनी नदी नन्दाघुंघटी से निकलती है और नंदप्रयाग में अलकनंदा नदी से मिल जाती है।

काली या शारदा:

काली नदी पिथौरागढ़ जिले में स्थित कालापानी से निकलती है। इसकी सहायक नदियाँ गौरीगंगा, पूर्वी धौलीगंगा, लोहावती, सरयू नदी हैं। काली नदी मिलम ग्लेशियर से निकलने वाली गौरीगंगा से जौलजीबी में मिलती है तथा बरमदेव नामक जगह से यह शारदा नदी कहलाती है।

कोसी:

कोसी नदी का उदगम स्थान कौसानी और बिनसर की पहड़ियाँ हैं। इसकी सहायक नदियाँ मिनोलगाड़, सुमालिगाड़, देवगाड़ हैं । कोसी नदी की लम्बाई 168 किलोमीटर है।

यमुना:

यमुना नदी उत्तरकाशी में बन्दरपूँछ पर्वत पर स्थित यमुनोत्री कांठा से निकलती है। इसकी सहायक नदियाँ टोंस, आसन, गिरी, कृष्णागाड़, कमलगाड़, ऋषिगंगा, हनुमानगंगा आदि हैं।

गंगा:

देवप्रयाग में अलकनंदा और भागीरथी के संगम के बाद यह गंगा नदी के नाम से जानी जाती है। गंगा नदी की लम्बाई 90 किलोमीटर है।

धौलीगंगा:

धौलीगंगा नंदा-त्रिशूली पर्वत श्रृंखला से निकलती है। यह विष्णुप्रयाग में अलकनंदा नदी से मिलती है।

पिण्डर:

पिण्डर नदी पिंडारी ग्लेशियर से निकलती है। यह कर्णप्रयाग में अलकनंदा नदी से मिलती है।

admin

Recent Posts

India Independence Day (2020) (हिंदी में) – अन्य कौन से देश 15 अगस्‍त मनाते हैं?

India Independence Day India Independence Day - भारत का स्‍वतंत्रता दिवस हर वर्ष 15 अगस्‍त को देश भर में बहुत… Read More

1 day ago

रामायण (Ramayan) : महत्वपूर्ण तथ्य, अनसुनी कथाएं, सम्पूर्ण रामायण सार

रामायण (Ramayan) एक संस्कृत महाकाव्य है जिसकी रचना महर्षि वाल्मीकि ने की थी। रामायण के महाकाव्य में 24000 छंद और… Read More

3 days ago

महाभारत काल के 9 लोग जिन्हें आज भी जीवित माना जाता है

हिन्दू धर्म ग्रंथ परम प्रतापी शूरवीरों और महान हस्तियों से सुसज्जित है। कुछ ऋषियों ने अपने तप एवं ज्ञान से… Read More

4 days ago

क्यों श्री कृष्ण ने अभिमन्यु की रक्षा नहीं की?

महाभारत यूं तो भारत के महानतम ग्रंथों में से एक है, साथ ही साथ हमें अधर्म पर धर्म की विजय… Read More

4 days ago

क्यों भीष्म पितामह को अपने जीवन के अंतिम दिन नुकीली शैय्या पर बिताने पड़े?

हमारे हिन्दू धर्म में शुरू से ही कर्म की प्रधानता रही है और इसका सटीक अर्थ हमें महाभारत ग्रन्थ में… Read More

4 days ago

5 ऐसे श्राप जिन्होंने महाभारत काल में अद्भुत भूमिका निभाई

भारत के महान ग्रंथों में से एक है, महाभारत। हिन्दू ग्रंथो में अनेक प्रकार के श्रापों का वर्णन है, और… Read More

4 days ago

For any queries mail us at admin@meragk.in

Hindi Movies Buy Online 👉👉 https://amzn.to/2WVlFwG