Categories: Bihar

बिहार की प्रमुख झीलें – Major lakes of Bihar

बिहार की प्रमुख झीलें – Major lakes of Bihar

Major lakes of Bihar – बिहार की प्रमुख झीलें – बिहार के मैदानी भागों में अनेक प्राकृतिक झीलें पाई जाती हैं। बिहार के उत्तरी भाग में गंगा के मैदान में निम्न ढाल के कारण नदी बहाव अत्यंत मंद हो जाता है। जिस  कारण नदी अपने साथ बहाकर लाए गए अवसाद को उसी स्थान पर निक्षेपित कर देती है, इसके फलस्वरूप विसर्पाकार आकृति का निर्माण होने लगता है। विसर्पाकार प्रवाह एवं नदियों के द्वारा मार्ग परिवर्तन के कारण गंगा, बूढ़ी गंडक, कोसी, महानंदा आदि नदियों द्वारा गोखुर झील का निर्माण हुआ है।

उत्तरी बिहार के मैदान में पाई जानेवाली मुख्य झीलों में काँवर झील कुशेश्वर झील, घोघा झील (घोघा चाप), सिमरी बख्तियारपुर झोल, उदयपुर झोल आदि प्रमुख हैं। बिहार में झीलनुमा जलमग्न क्षेत्र को ताल, चौर, मन आदि नामों से भी जाना जाता है। ये जलमग्न क्षेत्र आर्द्रभूमि (Wetland) कहलाते हैं। बिहार की प्रमुख झीलें निम्नलिखित हैं –

काँवर झील

बेगूसराय के मंझौल गाँव में काँवर झील स्थित है। इस झील का क्षेत्रफल 16 वर्ग किलोमीटर है। यह एशिया की सबसे बड़ी गोखुर झील है, जिसका निर्माण गंडक नदी के विसर्पण से हुआ है। इस झील में पाए जाने वाली प्रमुख वनस्पति निम्न है, जिनमें हाइड्रा लेरिसिलाय, पोटोमोगेंटन, वेल्सनेरिया, लेप्लराल्स, निफसा, मिंफोलोड्स, सरपस वेटल्वेरिया आदि प्रमुख हैं। इस झील में सर्दी के दिनों (नवंबर-जनवरी) में साइबेरियाई क्षेत्र के प्रवासी पक्षी आते हैं।  प्रमुख पक्षी वैज्ञानिक सलीम अली के अनुसार लगभग 60 प्रजातीय पक्षी मध्य एशिया से सर्दी के दिनों में यहाँ निवास के लिए आते हैं तथा मूल रूप से लगभग 106 प्रजाति के पक्षी यहाँ निवास करते हैं।

कुशेश्वर स्थान झील

कुशेश्वर स्थान झील दरभंगा के कुशेश्वर में स्थित है। जिसका क्षेत्रफल 20 वर्ग किलोमीटर से 100 वर्ग किलोमीटर तक बढ़ता-घटता रहता है। वर्षा काल में  जल की अधिकता के कारण झील का अत्यधिक विस्तार हो जाता है।इस झील में कमला, करेह आदि नदियों जल एकत्रित होता है।  यह झील मछली उत्पादन का प्रमुख केंद्र है। यहाँ भी प्रवासी पक्षी पेलिकन डालमटिया (Pelicia Dalmatia) तथा साइबेरियन क्रेन (Siberian Cranes) सर्दी  के मौसम में प्रवास करते हैं। 1972 ई. में इस झील को पक्षी अभयारण्य घोषित किया गया है।

बिहार के प्रमुख जलप्रपात – Major Waterfall of Bihar

घोघा झील

कटिहार जिले के मनिहारी क्षेत्र में घोघा झील स्थित है। इसका क्षेत्रफल लगभग 5 वर्ग किलोमीटर है। इस झील के आसपास कई छोटी-छोटी झीलें स्थित हैं।

सिमरी-बख्तियारपुर झील

सिमरी-बख्तियारपुर झील बिहार के सहरसा जिले में स्थित है। जिसका निर्माण कई छोटी-छोटी झीलों के मिलने से हुआ है। इसमें जमुनिया, सरदिया, कुमीबी, गोबरा आदि झीलें प्रमुख हैं।

Note :

काँवर झील झील के पास शोध-कार्य के लिए बर्ड बैडिंग स्टेशन (Bird Banding Station) की स्थापना की गई है।

admin

Recent Posts

एकादशी व्रत 2021 तिथियां – Ekadashi 2021 Date – एकादशी व्रत का महत्व

एकादशी का हिंदू धर्म में एक विशेष महत्व है। हिंदू धर्म में व्रत एवं उपवास को धार्मिक दृष्टि से एक… Read More

51 years ago

मोक्षदा एकादशी पूजा विधि, व्रत कथा

मोक्षदा एकादशी मार्गशीर्ष महीने के शुक्ल पक्ष की एकादशी को मोक्षदा एकादशी कहा जाता है। इस एकादशी को वैकुण्ठ एकादशी… Read More

51 years ago

उत्पन्ना एकादशी पूजा विधि, व्रत कथा

उत्पन्ना एकादशी मार्गशीर्ष मास के शुक्लपक्ष की एकादशी को उत्पन्ना एकादशी कहते हैं। इस एकादशी को मोक्षदा एकादशी भी कहा… Read More

51 years ago

देवउठनी एकादशी या देवुत्थान एकादशी पूजा विधि, व्रत कथा

देवउठनी एकादशी या देवुत्थान एकादशी कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी को देवउठनी एकादशी या देवुत्थान एकादशी कहा जाता… Read More

51 years ago

रमा एकादशी पूजा विधि, व्रत कथा

रमा एकादशी कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की एकादशी को रमा एकादशी कहा जाता है। इस व्रत को करने से… Read More

51 years ago

पापांकुशा एकादशी पूजा विधि, व्रत कथा

पापांकुशा एकादशी आश्विन शुक्ल पक्ष की एकादशी को पापांकुशा एकादशी कहते हैं। जैसा कि नाम से ही पता चलता है… Read More

51 years ago

For any queries mail us at admin@meragk.in