Categories: Rajasthan

राजस्थान में सिंचाई के साधन – Irrigation System in Rajasthan

राजस्थान में सिंचाई सुविधाओं का पूरी तरह विस्तार हो रहा है। विभिन्न राज्यों की तर्ज पर यहां भी खेतों में फसलें लहलहा रही हैं। नहरों और चेकडैमों से पानी खेतों तक पहुंच रहा है। राज्य में अब 90 फीसदी से अधिक भूमि सिंचित हो गई है।

पूर्वी भाग – नलकूपों व कुओं द्वारा 74प्रति. या 3/4 भाग (जयपुर)

उतरी भाग – नहरों द्वारा 24प्रति. या 1/4 भाग(गंगानगर, हनुमानगढ़)

दक्षिणी भाग – तलाब व झरनों द्वारा भीलवाड़ा व बांसवाड़ा

कुएं व नलकूप

  • राजस्थान में सिंचाई के लिए कुओं व नलकूपों का उपयोग सर्वाधिक किया जाता है
  • राज्य के कुल कृषि भूमि का लगभग 70 % भाग कुओं व नलकूपों द्वारा सिंचित होता है |
  • राज्य में सरकारी खर्चे पर एक लाख 25 हजार 428 कुओं का उर्जीकरण कराया गया।
  • उर्जीकृत किए गए कुओं में 3149 कृषि कुएं जनजातीय इलाके के थे।

नहरें

  • राजस्थान में नहरें सिंचाई का दूसरा सबसे महत्वपूर्ण साधन है
  • राज्य के कुल कृषि भूमि का लगभग 26 % भाग नहरों द्वारा सिंचित  है|
  • इंदिरा गांधी नहर की शुरुआत 31 मार्च, 1958 में हुई। इसे दो नवंबर, 1984 से राजस्थान नहर के नाम से भी जाना जाता है।
  • इंदिरा गांधी नहर परियोजना से 12 लिफ्ट सिंचाई योजनाएं निर्मित की गईं। 
  • हनुमानगढ़ जिले में रबी खाद्यान्न में शीर्ष पर पहुंचा तो गंगानगर तिलहन के मामले में नंबर वन रहा। इस परियोजना के जरिए जहां कभी रेत के धोरे होते थे वहां नहर बन गई और 1741 लाख हेक्टेयर क्षेत्र सिंचित भूमि में तब्दील हो गया।
  • नर्मदा नहर परियोजना से सिंचाई के अलावा करीब 124 गांवों को पीने का पानी भी मुहैया कराया जाता है। 

राजस्थान की प्रमुख सिंचाई व नदी घाटी परियोजनाएं – Major Dam Irrigation Projects in Rajasthan

राजस्थान की प्रमुख नहरें 

1. गंग नहर

  • गंग नहर का निर्माण 1927 में महाराजा श्री गंगा सिंह द्वारा करवाया गया
  • इसकी कुल लम्बाई 137 किमी है
  • इस नहर के द्वारा श्रीगंगानगर व हनुमानगढ़ जिलों में सिंचाई होती है |

2. भरतपुर नहर

  • यह नहर यमुना से निकालने वाली आगरा नहर से निकली गयी है, 
  • भरतपुर नहर निर्माण 1906 में किया गया
  • इसकी कुल लम्बाई 28 किमी है
  • इस नहर के द्वारा भरतपुर जिले में सिंचाई की जाती है|

3. गुडगाँव नहर

  • यह नहर यमुना नदी से निकलती है
  • इसकी कुल लम्बाई 58 किमी है
  • इससे भरतपुर जिले के कुछ हिस्सों में सिंचाई की जाती है|

तालाब

राजस्थान में राज्य के कुल कृषि भूमि का लगभग 3% भाग तालाबों  द्वारा सिंचित होता  है|

राजस्थान की प्रमुख झीलें – Major Lakes of Rajasthan

राजस्थान के तालाब:

तालाब स्थान
हेमावास पाली
दांतीवाड़ा पाली
खरड़ा पाली
मुथाना पाली
सरेरी भीलवाड़ा
खारी भीलवाड़ा
मेजा भीलवाड़ा
वानकिया चित्तोड़गढ़
मुरलिया चित्तोड़गढ़
सेनापानी चित्तोड़गढ़
बागोलिया उदयपुर
कीर्तिमोरी बूंदी
वरडा बूंदी
हिंडोली बूंदी
पार्वती भरतपुर
बारेठा भरतपुर
गड़ीसर जैसलमेर
एडवर्ड सागर डूँगरपुर
admin

Recent Posts

एकादशी व्रत 2021 तिथियां – Ekadashi 2021 Date – एकादशी व्रत का महत्व

एकादशी का हिंदू धर्म में एक विशेष महत्व है। हिंदू धर्म में व्रत एवं उपवास को धार्मिक दृष्टि से एक… Read More

51 years ago

मोक्षदा एकादशी पूजा विधि, व्रत कथा

मोक्षदा एकादशी मार्गशीर्ष महीने के शुक्ल पक्ष की एकादशी को मोक्षदा एकादशी कहा जाता है। इस एकादशी को वैकुण्ठ एकादशी… Read More

51 years ago

उत्पन्ना एकादशी पूजा विधि, व्रत कथा

उत्पन्ना एकादशी मार्गशीर्ष मास के शुक्लपक्ष की एकादशी को उत्पन्ना एकादशी कहते हैं। इस एकादशी को मोक्षदा एकादशी भी कहा… Read More

51 years ago

देवउठनी एकादशी या देवुत्थान एकादशी पूजा विधि, व्रत कथा

देवउठनी एकादशी या देवुत्थान एकादशी कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी को देवउठनी एकादशी या देवुत्थान एकादशी कहा जाता… Read More

51 years ago

रमा एकादशी पूजा विधि, व्रत कथा

रमा एकादशी कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की एकादशी को रमा एकादशी कहा जाता है। इस व्रत को करने से… Read More

51 years ago

पापांकुशा एकादशी पूजा विधि, व्रत कथा

पापांकुशा एकादशी आश्विन शुक्ल पक्ष की एकादशी को पापांकुशा एकादशी कहते हैं। जैसा कि नाम से ही पता चलता है… Read More

51 years ago

For any queries mail us at admin@meragk.in