राजस्थान के वन | Forest in Rajasthan

forest and wildlife sanctuary in rajasthan

Forest in Rajasthan – राजस्थान के वन निम्नलिखित हैं

मिश्रित वन

  • यह राजस्थान के सबसे सघन वन है।
  • इस प्रकार के वनों में सदाबहार एवं पतझड़ वन मिश्रित रूप से पाए जाते है
  • मिश्रित वन सर्वाधिक उदयपुर में पाये जाते है।
  • राज्य में मिश्रित वन सिरोही, चित्तौडगढ, कोटा, बूंदी आदि जिलो में पाए जाते है

शुष्क सागवान के वन

  • राजस्थान में सागवान के सर्वाधिक वन बांसवाड़ा जिले में पाये जाते है।
  • इसके अतिरिक्त चित्तोड़गढ़, उदयपुर मे भी सागवान के वन मिश्रित रूप में पाये जाते है।
  • यह राजस्थान के कुल वन का लगभग 6.86% है।
  • यहां 75-110 सेमी वर्षा होती है।

उत्तरी उष्ण कटिबंधी पतझड़ के वन

  • ये वन अरावली पर्वत माला के पर्वतीय ढालो एवं पठारी क्षेत्रो में पाए जाते है
  • राजस्थान के सर्वाधिक क्षेत्रों पर इन वनों का विस्तार है।
  • इन वनों में आम, नीम, पीपल, खेजड़ी, बरगद के वन प्रमुखता से पाये जाते है।

राजस्थान में सिंचाई के साधन – Irrigation System in Rajasthan

ढाक अथवा पलाश के वन

  • यह राजस्थान के नदी घाटी क्षेत्र की नम मिट्यिों में पाये जाते है।
  • पलाश वृक्ष को फ्लेम ऑफ दी फॉरेस्ट कहा जाता है।

सालर के वन

  • इन वनों में सर्वाधिक इमारती एवं ईंधन लकड़ी के योग्य वृक्ष पाये जाते है।
  • यह वन राजस्थान के मध्य एवं मध्य पूर्वी भागों में पाये जाते है।

उष्ण कटिबंधीय शुष्क पतझड़ के वन

  • पूर्वी एवं मध्य पूर्वी भागों मे पाये जाते है।
  • वनों में वृक्षों की पत्तियॉं वर्ष में कम से कम एक बार पूरी तरह गिर जाती है।
  • यह राजस्थान के कुल वन का लगभग 28.38% है।
  • यहां 30 से 60 सेमी वर्षा होती है।

उपोष्ण कटिबंधीय सदाबहार वन

  • यह वन राजस्थान मे सिरोही जिलें में माउण्ट आबू पर्वत के चारों और 32 वर्ग कि.मी. क्षेत्र में पाये जाते है।
  • यह राजस्थान के कुल वन का लगभग 0.39% है।
  • यहां 125-150 सेमी या इससे अधिक वर्षा होती है।