उत्तर प्रदेश के लोकगीत | Folk Music of Uttar Pradesh

folk music of uttar pradesh

Folk Music of Uttar Pradesh – उत्तर प्रदेश के लोकगीत निम्नलिखित हैं:

रसिया लोकगीत

उत्तर प्रदेश के ब्रजभूमि क्षेत्र की गायन परम्परा है।

सोहर लोकगीत

इस लोकगीत में जीवन चक्र के प्रदर्शन संदर्भित किया जाता है इसलिए इसे बच्चे के जन्म की ख़ुशी में गया जाता है।

कहारवा

यह विवाह समारोह के समय कहर जाति द्वारा गाया जाता है।

उत्तर प्रदेश के प्रमुख लोक नृत्य – Folk Dance of Uttar Pradesh

चैता

यह लोकगीत प्रमुखतः फाल्गुन पूर्णिमा से चैत्र पूर्णिमा के दौरान गाये जाते हैं।

चानाय्नी

एक प्रकार का नृत्य संगीत।

नौका झक्कड़

यह नाई समुदाय में बहुत लोकप्रिय है और नाई लोकगीत के नाम से भी जाना जाता है।

आल्हा

इस लोकगीत में आल्हा-उदल की वीरता का वर्णन किया जाता है।

बनजारा और न्जावा

यह लोक संगीत रात के दौरान तेली समुदाय द्वारा गाया जाता है।

कजली या कजरी

यह महिलाओं द्वारा सावन के महीने में गाया जाता है। यह मिर्जापुर क्षेत्र में लोकप्रिय है। यह अर्द्ध शास्त्रीय गायन के रूप में भी विकसित हुआ है और इसकी गायन शैली बनारस घराना से मिलती है।

उत्तर प्रदेश की कला एवं संस्कृति – Art and Culture of Uttar Pradesh

जरेवा और सदावजरा सारंगा

इस तरह के लोक संगीत लोक पत्थरों के लिए गाया जाता है।

ढोला

उत्तर प्रदेश के आगरा तथा मेरठ में प्रचलित है।

— Folk Music of Uttar Pradesh —