Categories: Bihar

बिहार के लोकगीत – Bihar Folk Songs

Bihar Folk Songs – बिहार की लोकगीत संस्कृति को निम्न वर्गों में बांटा गया है:

संस्कार गीत

संस्कार गीतों का सम्बन्ध लौकिक अनुष्ठानो से है। ये गीत सभी जातियों-जनजातियों में मनुष्य के जन्म से लेकर मरण तक सभी प्रमुख अवसरों पर गाये जाते हैं। जन्म, मुंडन, विवाह, गौना, द्विरागमन जैसे अवसरों पर गाये जाने वाले गीत उल्लास और हर्ष से भरे होते हैं। बिहार में मगही क्षेत्र के अंतर्गत कुछ मुस्लिम संस्कार गीत गाये जाते हैं।

  • बिहार में पुत्र जन्मोत्सव के अवसर पर ‘सोहर’ गाये जाते हैं।
  • मिथिलांचल में राम विवाह के अवसर पर ‘सम्मरी’ गीत गाने की प्रथा है।
  • बिहार में “डोमकछ” एक नाट्य लोकसंगीत है, जिसका गायन विवाह के अवसरों पर वर पक्ष की स्त्रियों के सम्मिलित सहयोग से होता है।
  • मिथिला में बेटी की विदाई के समय एक विशिष्ट शैली का गीत गाया जाता है, जो ‘समदाउनि’ के नाम से जाना जाता है। भोजपुर प्रदेश में इसे ‘समदावन’ एवं मगध क्षेत्र में ‘समदन’ कहते हैं।

ऋतुगीत

फगुआ, चैता, कजरी, हिंडोला, चतुर्मासा और बारहमासा आदि गीत इस गीत-परंपरा में गाए जाते हैं।

  • कहरवा और दादरा की लय में ठुमरी शैली में कजरी को गाया जाता है। कजरी का ही एक रूप मिथिला में मलार नाम से प्रसिद्द है।
  • फाग या होली बसंत ऋतु का गीत है। यह मुख्यतया समूह में गाया जाता है।
  • बिहार में ‘होरी’ या ‘जोगीड़ा’ गाने की प्रथा है। होरी गाने में प्रायः पुरुषों की भागीदारी रहती है।
  • चैत्र मास में गाय जाने वाला ‘चैता’ बिहार की विशिष्ट पहचान है। इसका गायन एकल एवं सामूहिक दोनों रूपों में होता है।
  • चैता गायन का चलन मुख्यतः बिहार के माघी एवं भोजपुरी-भाषी क्षेत्र में पुरुषों में पाया जाता है।
  • ढोलक एवं झांझ पर गाय जाने वाला चैता ‘घाटों’ कहलाता है जो मुख्यतः भोजपुर प्रदेश में गाया जाता है।
  • ‘बारहमासा’ में बारहों महीने का वर्णन रहता है। यह वस्तुतः वियोग का गीत है।
  • बारहमासा गीतों का लघु रूप चौमासा तथा छहमासा गीत भी बिहार में गाये जाते हैं।

Famous People of Bihar – बिहार राज्य के लोकप्रिय व्यक्ति

पर्वगीत

दीपावली, छठ, तीज, नागपंचमी, गोधन, निहुरा, मधुश्रावणी, रामनवमी, कृष्णाष्टमी आदि सभी त्योहारों पर पर्व गीत गाये जाते हैं।

  • छठ पर्व में छठ पर्व के लोकगीत गाये जाते हैं।
  • छठ की समाप्ति के बाद कार्तिक माह के शुक्ल पक्ष में मिथिलांचल क्षेत्र में स्त्रीप्रधान नाट्यगीत ‘सामा-चकेवा’ विशेष रूप से गाये जाते हैं।

जाति सम्बन्धी गीत

गाँव में रहने वाले प्रत्येक जातियों के लोकदेव हैं, जिनकी वीरतापूर्ण गाथाओं से युक्त लोकगीत जाति गीतों की श्रेणी में आते हैं।

  • अहीर, दुसाध, चमार, कहार, धोबी और लुहार सबके अपने-अपने गीत होते हैं।
  • अहीरों द्वारा गाये जाने वाले गीत को बिरहा गीत के नाम से जाना जाता है।
  • इसके साथ ही ‘लोरिकी’ भी इसी जाति का गीत है।

पेशागीत

किसी भी कार्य के सम्पादन के समय जो गीत गाये जाते हैं, वे श्रम गीत, व्यवसाय गीत या क्रिया गीत की कोटि में आते हैं।

  • बिहार में चक्की चलाकर आता पीसने के समय स्त्रियों के द्वारा ‘लगनी’ गाई जातीं है। इस गीत को जँतसार भी कहा जाता है।
  • ग्रामीण नारियों में खोदा या गोदना पड़ाने का प्रचलन है। खोदा पड़ाने वाली स्त्री गोदना जोड़ने के साथ गीत भी जाती है जिसे ‘खोदा पाड़ने की गीत’ कहते हैं।
  • खेतों में धान रोपते समय कृषक मजदूरों द्वारा गाया जाने वाला गीत ‘चोंचर’ कहलाता है। इसका नाम ‘रोपनी’ गीत भी है।

Major Tourist Places in Bihar – बिहार के प्रमुख पर्यटन स्थल

बालक्रीड़ा गीत

बाल-जीवन से सम्बन्ध गीतों को बाल गीत या शिशु गीत कहते हैं जैसे अटकन-मटकन, छोरा-मुक्की, अट्टा-पट्टा, कबड्डी गीत।

  • सुलाने वाले शिशु गीत में लोरी तथा बच्चों के उबटन लगाने के गीत ‘अपटोनी गीत’ हैं।
  • समूह में बच्चों के खेलते समय स्त्रियों द्वारा गाये जाने वाले गीतों में ‘ओका-बोका तीन तड़ोका’ पहाड़ी आदि गीत गाये जाते हैं।

भजन या श्रुति गीत

देवी-देवताओं के आराधना से सम्बन्ध गीत भजन या श्रुति गीत की श्रेणी में आते हैं। इसमें इश्वर के सगुण एवं निर्गुण दोनों रूपों का वर्णन मिलता है।

  • सगुण गीतों में गोसाउनि गीत, नचारी, महेशवाणी, कीर्तन, विष्णुपद, पराती, साझ, गंगा के गीत, शीतला के गीत, देवी के गीत प्रमुख हैं।
  • निर्गुण गीतों का अलग से कोई गीत कोटि निर्धारित नहीं है लेकिन कुछ भजनो के अंदर निर्गुण उपमानो को निर्देशित किया जाता है।

गाथा गीत

ये गीत भारतीय जनमानस के वीरता से सहज लगाव के कारण गाए जाने वाले गीत हैं। यह लोककथाओं के वीर नायकों की स्मृति में ओज, जोश और आक्रामक भावभंगिमा से गाये जाने वाले गीत हैं। बिहार के गाथा गीत-

  • नयका बंजारा
  • मीरायण
  • राजा हरिचन
  • लोरिकायन
  • दीना भदरी
  • नूनाचार
  • छतरी चौहान
  • धुधली-घटमा
  • विजयमल
  • सहलेस
  • हिरनी-बिरनी
  • कुंवर ब्रजभार
  • राजा विक्रमादित्य
  • अमर सिंह बरिया

Rivers in Bihar – बिहार की प्रमुख नदियाँ

विशिष्ट गीत

इसमें पीड़िया के गीत, पानी मांगने के गीत, झूमर-झूले के गीत, बिरहा, जोगा, सांपरानी आदि गीत गाये जाते हैं। विविध गीतों में झिंझिया के गीत, झरनी के गीत, नारी स्वतन्त्रता का गीत, समाज-सुधार के गीत आदि आते हैं। भोजपुर अंचल के पूर्वी गीत, झूमर, विदेशिया, बढोहिया, मेलों का गीत एवं मिथिलांचल का तिरहुति, बटगमनी, नचारी, महेशवाणी, सन्देश गीत, मंत्र गीत, आंदोलन गीत इस श्रेणी के गीत हैं।

महाकवि मैथिल कोकिल विद्यापति का युग लोकगीतों का स्वर्णयुग कहा जाता है।

admin

Recent Posts

Current Affairs December 2020 in Hindi – करंट अफेयर्स दिसंबर 2020

Current Affairs December 2020 in Hindi – करंट अफेयर्स दिसंबर 2020 Current Affairs December 2020 in Hindi – दिसंबर 2020… Read More

51 years ago

एकादशी व्रत 2021 तिथियां – Ekadashi 2021 Date – एकादशी व्रत का महत्व

एकादशी का हिंदू धर्म में एक विशेष महत्व है। हिंदू धर्म में व्रत एवं उपवास को धार्मिक दृष्टि से एक… Read More

51 years ago

मोक्षदा एकादशी पूजा विधि, व्रत कथा

मोक्षदा एकादशी मार्गशीर्ष महीने के शुक्ल पक्ष की एकादशी को मोक्षदा एकादशी कहा जाता है। इस एकादशी को वैकुण्ठ एकादशी… Read More

51 years ago

उत्पन्ना एकादशी पूजा विधि, व्रत कथा

उत्पन्ना एकादशी मार्गशीर्ष मास के शुक्लपक्ष की एकादशी को उत्पन्ना एकादशी कहते हैं। इस एकादशी को मोक्षदा एकादशी भी कहा… Read More

51 years ago

देवउठनी एकादशी या देवुत्थान एकादशी पूजा विधि, व्रत कथा

देवउठनी एकादशी या देवुत्थान एकादशी कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी को देवउठनी एकादशी या देवुत्थान एकादशी कहा जाता… Read More

51 years ago

रमा एकादशी पूजा विधि, व्रत कथा

रमा एकादशी कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की एकादशी को रमा एकादशी कहा जाता है। इस व्रत को करने से… Read More

51 years ago

For any queries mail us at admin@meragk.in