Categories: Uttarakhand

उत्तराखंड के वन्य जीव अभ्यारण्य – Wildlife Sanctuary of Uttarakhand

Wildlife Sanctuary of Uttarakhand – उत्तराखंड के वन्य जीव अभ्यारण्य निम्न प्रकार हैं:

1. केदारनाथ वन्य जीव विहार (Kedarnath Wildlife Sanctuary)

  • स्थान – चमोली एवं रुद्रप्रयाग
  • क्षेत्रफल – 957 वर्ग किलोमीटर
  • केदारनाथ वन्य जीव विहार जनपद चमोली तथा रुद्रप्रयाग में 957 वर्ग किमी क्षेत्रफल में फैला है
  • इसकी स्थापना सन् 1972 में की गयी ,
  • यहाँ मुख्यतः भूरा भालू, कस्तूरी मृग, हिम तेंदुआ, घुरल, काकड़ , जंगली सूअर आदि जीव पाये जाते है ,
  • यह उत्तराखंड का सबसे अधिक क्षेत्रफल वाला वन्य जीव विहार है|

2. अस्कोट वन्य जीव विहार (Askot Wildlife Sanctuary)

  • स्थापना –           1986
  • स्थान –           पिथौरागढ़ जनपद
  • क्षेत्रफल –           600 वर्ग किलोमीटर
  • अस्कोट वन्य जीव विहार जनपद पिथोरागढ़ में 600 वर्ग किमी क्षेत्रफल में फैला है
  • इसकी स्थापना सन् 1986 में की गयी,
  • अस्कोट  वन्य जीव अभ्यारण्य कस्तूरी मृग के लिए प्रसिद्ध है

उत्तराखंड के राष्ट्रीय उद्यान – यहां क्लिक करें –

3.गोविन्द वन्य जीव विहार (Govind Wildlife Sanctuary)

  • स्थान –           उत्तरकाशी
  • क्षेत्रफल –           485 वर्ग किलोमीटर
  • गोविन्द  वन्य जीव विहार जनपद उत्तरकाशी में 485 वर्ग किमी क्षेत्रफल में फैला है
  • इसकी स्थापना सन् 1955 में की गयी,
  • यहाँ पर मुख्यतः भूरा भालू, कस्तूरी मृग, हिम तेंदुआ, घुरल, काकड़ , जंगली सूअर, जंगली बिल्ली, आदि जानवर पाये जाते है

4. सोनानदी वन्य जीव विहार (Sonanadi Wildlife Sanctuary)

  • स्थापना –           1987
  • स्थान –           पौड़ी गढ़वाल जनपद
  • क्षेत्रफल –           301 वर्ग किलोमीटर
  • सोनानदी  वन्य जीव विहार जनपद पौड़ी गढ़वाल में 301वर्ग किमी क्षेत्रफल में फैला है
  • इसकी स्थापना सन् 1987 में की गयी,
  • यहाँ पर मुख्यतः हाथी , शेर , घुरल, काकड़ , जंगली सूअर, मगर, घड़ियाल, अजगर आदि जानवर पाये जाते है

5.बिनसर वन्य जीव विहार (Binsar Wildlife Sanctuary)

  • स्थापना –           1988
  • स्थान –           अल्मोड़ा
  • क्षेत्रफल            – 47 वर्ग किलोमीटर
  • बिनसर वन्य जीव विहार जनपद अल्मोड़ा में 47 वर्ग किमी क्षेत्रफल में फैला है
  • इसकी स्थापना सन् 1988 में की गयी,
  • यहाँ पर मुख्यतः काला  भालू, , घुरल, काकड़ , जंगली सूअर, जंगली बिल्ली, आदि जानवर पाये जाते है

उत्तराखंड के प्रमुख वन आंदोलन – यहां क्लिक करें –

6. मसूरी वन्य जीव विहार (Mussoorie Wildlife Sanctuary)

  • मसूरी वन्य जीव विहार जनपद देहरादून  में 11  वर्ग किमी क्षेत्रफल में फैला है
  • इसकी स्थापना सन् 1993 में की गयी,
  • यहाँ पर मुख्यतः काला  भालू,  लंगूर, बन्दर ,घुरल, काकड़ , जंगली सूअर आदि जानवर पाये जाते है

7. नन्धौर वन्य जीव विहार (Nandhaur Wildlife Sanctuary)

  • नन्धौर  वन्य जीव विहार जनपद नैनीताल व चम्पावत में 270 वर्ग किमी क्षेत्रफल में फैला है
  • इसकी स्थापना सन् 2012 में की गयी,
  • यहाँ पर मुख्यतः  भालू, बाघ, लंगूर आदि जानवर पाये जाते है
admin

Recent Posts

Current Affairs December 2020 in Hindi – करंट अफेयर्स दिसंबर 2020

Current Affairs December 2020 in Hindi – करंट अफेयर्स दिसंबर 2020 Current Affairs December 2020 in Hindi – दिसंबर 2020… Read More

51 years ago

एकादशी व्रत 2021 तिथियां – Ekadashi 2021 Date – एकादशी व्रत का महत्व

एकादशी का हिंदू धर्म में एक विशेष महत्व है। हिंदू धर्म में व्रत एवं उपवास को धार्मिक दृष्टि से एक… Read More

51 years ago

मोक्षदा एकादशी पूजा विधि, व्रत कथा

मोक्षदा एकादशी मार्गशीर्ष महीने के शुक्ल पक्ष की एकादशी को मोक्षदा एकादशी कहा जाता है। इस एकादशी को वैकुण्ठ एकादशी… Read More

51 years ago

उत्पन्ना एकादशी पूजा विधि, व्रत कथा

उत्पन्ना एकादशी मार्गशीर्ष मास के शुक्लपक्ष की एकादशी को उत्पन्ना एकादशी कहते हैं। इस एकादशी को मोक्षदा एकादशी भी कहा… Read More

51 years ago

देवउठनी एकादशी या देवुत्थान एकादशी पूजा विधि, व्रत कथा

देवउठनी एकादशी या देवुत्थान एकादशी कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी को देवउठनी एकादशी या देवुत्थान एकादशी कहा जाता… Read More

51 years ago

रमा एकादशी पूजा विधि, व्रत कथा

रमा एकादशी कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की एकादशी को रमा एकादशी कहा जाता है। इस व्रत को करने से… Read More

51 years ago

For any queries mail us at admin@meragk.in