Skip to content

विशेषण की परिभाषा, भेद और उदाहरण

    वे शब्द जो संज्ञा या सर्वनाम की विशेषता बताते हैं, विशेषण कहलाते हैं। विशेषण चार प्रकार के होते हैं:

    गुणवाचक विशेषण

    वे विशेषण शब्द जो रंग, रूप, गंध, स्पर्श, आकार, प्रकार, दोष, दशा, दिशा, अवस्था आदि का बोध करवाए, गुणवाचक विशेषण कहलाते हैं। जैसे- मुलायम, खुरदुरा, नीला, पीला, हरा, लंगड़ा, पूर्वी, दक्षिणी, नर्म, कठोर, सर्दी, गर्मी इत्यादि।

    उदाहरण:

    • मेहनत करने से हाथ कठोर हो जाते हैं।
    • काली बकरी मीठा दूध देती है।
    • सर्दी में लोग बाहर नहीं निकलते हैं।
    • गर्मियों में लोग शीतल पेय पीते हैं।
    • बीकानेरी नमकीन में मुल्तानी मिट्टी मिलाई जाती है।

    नोट: आई, ई, आ, इय, इमा, इल, ईला, आलू, आलु, ईय, अ, इयल आदि प्रत्यय गुणवाचक विशेषण होते हैं।

    • मेरा मित्र झगड़ालू है।
    • पूजा दयालु है।
    • हम भारतीय सीधे-साधे हैं।

    प्रविशेषण: वे शब्द जो विशेषण की भी विशेषता बताते हैं, प्रविशेषण कहलाते हैं।

    उदाहरण:

    • मेरी माताजी कम मीठा भोजन करती है।
    • मेरा भाई झगड़ालू है।
    • मेरा मित्र बहुत झगड़ालू व्यक्ति है।

    संख्यावाची विशेषण

    वे विशेषण शब्द जो संज्ञा का बोध करवाते हैं, संख्यावाची विशेषण कहलाते हैं। जैसे- 10 आदमी, 5 पुलिसकर्मी, सैकड़ों लोग, करोड़ों आदमी आदि। संख्यावाची विशेषण के दो भेद होते हैं:

    1. निश्चित संख्यावाची विशेषण: वे शब्द जो निश्चित संख्या का बोध करवाते हैं, निश्चित संख्यावाची विशेषण कहलाते हैं। जैसे- दस आदमी, पांच केले, पांच पुस्तकें आदि।

    उदाहरण:

    • पांच पुलिस कर्मियों ने 500 आदमियों को दौड़ा-दौड़ा कर मारा।

    2. अनिश्चित संख्यावाची विशेषण: वे शब्द जो निश्चित संख्या का बोध नहीं करवाते हैं, अनिश्चित संख्यावाची विशेषण कहलाते हैं। जैसे- सैकड़ों लोग, हजारों आम, लाखों पुस्तकें, 4-5 पेन आदि।

    उदाहरण:

    • सैकड़ों आदमी बाहर खड़े हैं।

    परिमाणवाचक विशेषण

    वे विशेषण शब्द जिनमें नाप, तौल व मात्रा संबंधी विशेषताओं का बोध होता है। जैसे- दो मीटर कपड़ा, दो किलो चीनी, दो गज जमीन, सैकड़ों हेक्टेयर आदि।

    इसके दो भेद होते हैं:

    1. निश्चित परिमाणवाचक विशेषण: वे विशेषण शब्द जिनमें निश्चित नाप, तोल, मात्रा संबंधी विशेषताओं का बोध होता है , निश्चित परिमाणवाचक विशेषण कहलाते हैं।

    उदाहरण:

    • रिलायंस फ्रेश में दो किलो चीनी खरीदने पर दस ग्राम हरा धनियाँ मुफ्त मिलता है।
    • दो किलो आम खरीदने पर एक किलो पपीता मुफ्त मिलेगा।

    2. अनिश्चित परिमाणवाचक विशेषण: वे विशेषण शब्द जो अनिश्चित नाप, तोल, मात्रा संबंधी विशेषताओं का बोध होता है, अनिश्चित परिमाणवाचक विशेषण कहलाते हैं।

    उदाहरण:

    • मोतीलाल की मील में आग लगने पर सैकड़ों मीटर कपड़ा जल गया।
    • तेल टेंकर के पलट जाने से हजारों लीटर तेल बह गया।
    • पहलवान व्यायाम करने के पश्चात सैकड़ों लीटर दूध पी जाता है।

    सार्वनामिक/संकेतवाची विशेषण

    वे विशेषण शब्द जो वाक्य के दूसरे संज्ञा या सर्वनाम की विशेषता बताते हैं, अर्थात संकेत का बोध करवाते हैं, सार्वनामिक या संकेतवाची विशेषण कहलाते हैं। जैसे- जो, सो, जैसा, वैसा, जिसे, जिसने, यह, वह आदि।

    उदाहरण:

    • उस पंखे को उतारकर लाओ जो बरसों से खराब पड़ा है।
    • जैसा बोओगे वैसा पाओगे।
    • जो करता है वो भरता है।
    • उसे आज फांसी लग गयी जो कल टीवी पर बोल रहा था।
    • उस लड़के को इधर लाओ जिसने कल चोरी की थी।

    यह भी देखें 👉👉 सर्वनाम की परिभाषा, भेद और उदाहरण

    यह भी देखें 👉👉 संज्ञा किसे कहते हैं? संज्ञा के भेद और उदहारण

    यह भी देखें 👉👉 समास की परिभाषा, प्रकार और उदाहरण

    यह भी देखें 👉👉 संधि की परिभाषा, भेद, उदाहरण

    यह भी देखें 👉👉 हिंदी वर्णमाला की परिभाषा, भेद और उदाहरण