Categories: Chhattisgarh

छत्तीसगढ़ के पारंपरिक खेल – Traditional Games of Chhattisgarh

Traditional Games of Chhattisgarh – Sports in Chhattisgarh

गिल्ली डंडा

  • गिल्ली डंडा गॉव के बच्चों का पसंदीदा खेल है।
  • इस खेल को सिंगल या जोड़ी, दोनों तरीके से खेला जाता है।
  • इस खेल को खेलने के लिए लकड़ी का डंडा और लकड़ी का ही गिल्ली बना होता है।
  • फिर एक बड़े गोले के अंदर से डंडे की सहायता से गिल्ली को मारा जाता है ।
  • जिसकी गिल्ली सबसे कम दूरी जाता है, वह दाम देता है।
  • हारने वाले को गिल्ली को फेककर गोले के अंदर डालना होता है।
  • इधर जितने वाला डंडे से गिल्ली को रोकता है।
  • गोला में गिल्ली आने पर फिर खेल शुरू करना पड़ता है।
  • गिल्ली गोले के अंदर नही आता तब तक जितने वाला बार-बार गिल्ली को मारकर दूर भेजता है
  • पारी वाला फिर गिल्ली को गोले में डालने की कोशिश करता है

अटकन-बटकन

  • इस खेल में बच्चे आंगन परछी में बैठकर, गोलाकार घेरा बनाते है।
  • घेरा बनाने के बाद जमीन में हाथों के पंजे रख देते है।
  • एक लड़का अगुवा के रूप में अपने दाहिने हाथ की तर्जनी उन उल्टे पंजों पर बारी-बारी से छुआता है।
  • गीत की अंतिम अंगुली जिसकी हथेली पर समाप्त होती है वह अपनी हथेली सीधी कर लेता है।
  • इस क्रम में जब सबकी हथेली सीधे हो जाते है, तो अंतिम बच्चा गीत को आगे बढ़ाता है।
  • इस गीत के बाद एक दूसरे के कान पकड़कर गीत गाते है।

फुगड़ी

  • बालिकाओं द्वारा खेला जाने वाला फुगड़ी लोकप्रिय खेल है।
  • चार, छः लड़कियां इकट्ठा होकर, ऊंखरु बैठकर बारी-बारी से लोच के साथ पैर को पंजों के द्वारा आगे-पीछे चलाती है।
  • थककर या सांस भरने से जिस खिलाड़ी के पांव चलने रुक जाता है वह हट जाती है।

डंडा कोलाल

  • डंडा कोलाल गॉव के चरवाहा बच्चों का खेल है।
  • इस खेल को कम से कम 3-10 तक की संख्या में खेला जा सकता है।
  • इस खेल को खेलने के लिए निर्धारित स्थान में बारी बारी से झुककर अपने दोनों टांगों के बीच से अपने डंडे को ताकत लगाकर फेंकना पड़ता है।
  • जिसका डंडा कम दूरी तक जाता है, उसे दाम देना होता है।
  • फिर हारने वाला अपने दोनों हाथों को ऊपर उठाकर कर डंडे को हाथ मे रखता है
  • बाकी लोग पीछे से उसके डंडे को अपने डंडे से फेकते फेकते दूर ले जाते हैं।
  • डंडे को फेकते समय फेकने वालों को निर्धारित चीजे जैसे पत्ती, कंकड़,आदि छूना होता है।
  • दाम देने वाला उन लोगों को छूने का प्रयास करता है। जो उसके डंडे को अपने डंडे से फेकते हैं।
  • यदि फेकनें वाले निर्धारित वस्तु नही छू पाता और दाम देने वाला उसे छू लेता है तो फिर जिसको छूता है उसे दाम देना पड़ता है।

लंगड़ी

  • यह वृद्धि चातुर्थ और चालाकी का खेल है।
  • यह छू छुओवल की भांति खेला जाता है।
  • इसमें खिलाड़ी एंडी मोड़कर बैठ जाते है और हथेली घुटनों पर रख लेते है।
  • जो बच्चा हाथ रखने में पीछे होता है बीच में उठकर कहता है।

खुडुवा (कबड्डी)

  • खुड़वा पाली दर पाली कबड्डी की भांति खेला जाने वाला खेल है।
  • दल बनाने के इसके नियम कबड्डी से भिन्न है।
  • दो खिलाड़ी अगुवा बन जाते है। शेष खिलाड़ी जोड़ी में गुप्त नाम धर कर अगुवा खिलाड़ियों के पास जाते है – चटक जा कहने पर वे अपना गुप्त नाम बताते है।
  • नाम चयन के आधार पर दल बन जाता है।
  • इसमें निर्णायक की भूमिका नहीं होती, सामूहिक निर्णय लिया जाता है।

डांडी पौहा

  • डांडी पौहा गोल घेरे में खेला जाने वाला स्पर्द्धात्मक खेल है।
  • गली में या मैदान में लकड़ी से गोल घेरा बना दिया जाता है।
  • खिलाड़ी दल गोल घेरे के भीतर रहते है। एक खिलाड़ी गोले से बाहर रहता है।
  • खिलाड़ियों के बीच लय बद्ध गीत होता है।
  • गीत की समाप्ति पर बाहर की खिलाड़ी भीतर के खिलाड़ी किसी लकड़े के नाम लेकर पुकारता है।
  • नाम बोलते ही शेष गोल घेरे से बाहर आ जाते है और संकेत के साथ बाहर और भीतर के खिलाड़ी एक दूसरे को अपनी ओर करने के लिए बल लगाते है, जो खींचने में सफल होता वह जीतता है।
  • अंतिम क्रम तक यह स्पर्द्धा चलती है।

बित्ता कूद

  • कूद ऊंची कूद का ही रूप है।
  • इस खेल को दो-दो की जोड़ी में खेला जाता है।
  • जब एक जोड़ी बैठकर पैर और बित्ते की मदद से ऊंचाई को बढ़ाते जाते हैं।
  • बाकी जोड़ी बारी-बारी से उस ऊंचाई को कूदते हैं।
  • यदि किसी का साथी कूद नही पाता या कूदते समय टच हो जाता है तब उसका साथी उसके बदले कूदता है।
  • यदि उस ऊँचाई को पार कर लेते हैं तो अगला राउंड चलता है और यदि पार नही कर पाता तो उन्हें दाम देना पढ़ता है।

परी-पत्थर,अमरित-बिस

  • परी-पत्थर,अमरित-बिस ये दोनों खेल एक ही है इसमें कोई अंतर नही है।
  • जिसको पारी देना होता है वह किसी को छूकर पत्थर या बिस बोलता है ऐसे स्थिति में पत्थर जैसे खड़ा रहना होता है
  • जब उसके अन्य साथी परी या अमरित बोलकर छूते हैं तो वह फिर से इधर उधर भाग सकता है।
  • यदि भागते हुए पकड़ा गया तो दाम देना पड़ता है।

गोटी

  • इस खेल को ज्यादातर लड़कियाँ ही खेलती हैं।
  • इस खेल को दो तरीके से खेला जाता है और बैठकर खेला जाता है।
  • बहुत सारे कंकड़ को बिखेरकर बारी-बारी से बीनते हैं।
  • सभी कंकड़ को एक एककर बिना जाता है और बीनते समय कोई दूसरा हिल गया तो जितना कंकड़ हिला रहेगा उतने को दूसरे को देना पड़ता है।
  • दूसरे से हिला तो पहले वाले को देना पड़ता है।
  • इस प्रकार ज्यादा कंकड़ जितने वाला जीत जाता है।
  • हारने वाला जितने वाले को उसका उधार चुकाता है।
  • गोटी के दूसरे तरीके में पाँच गोटी के मदद से छर्रा,दुवा,तिया,चौके,उद्दलकुल तक बिना जाता है।
  • इस प्रकार 5-7 राउंड तक खेल चलता है जो बिना गिराए उस राउंड तक जल्दी पहुंच जाता है वो जीत जाता है।

फल्ली

  • इस खेल को पाँच लोग मिलकर खेलते हैं।
  • बीच मे खपरैल का टुकड़ा रखा होता है जिसे बचाते हुए पारी वाला चारो तरफ को फल्ली बोलते हुए पूरा करता है।
  • इस बीच में चारो खानों में खड़े खिलाड़ी उस खपरैल को चुराकर अपने अन्य तीन साथियों को बांटता है।
  • यदि दाम देने वाला उसे छू लेता है तो उसे दाम देना पड़ता है।

नदी-पहाड़,अंधियारी-अंजोरी

  • नदी पहाड़ का खेल सामूहिक खेल है इस खेल को खेलने के लिए ऊँचा और नीचा स्थान का होना जरूरी रहता है।
  • नीचे वाला स्थान नदी और ऊपर वाला स्थान पहाड़ कहलाता है।
  • पारी से पूछा जाता है,कि ‘नदी लेबे या पहाड़’ फिर पारी वाला नदी कहता है ,तो सभी को पहाड़ वाले स्थान पर जाना होता है।
  • और पहाड़ बोलने पर नदी वाले स्थान पर जाना होता है।
  • इस बीच जाते समय किसी को छू लेता है तो उसे दाम देना पड़ता है।
  • अंधियारी-अंजोरी के खेल को भी नदी-पहाड़ के खेल जैसे ही खेला जाता है।
  • पर इसमें नदी पहाड़ के स्थान पर अंधियारी या अंजोरी बोला जाता है।
  • इस खेल में छाया और उजाला वाला स्थान होना जरूरी रहता है।
  • इस लिए बच्चे इस खेल को दिन ढलने के बाद खेलते हैं।

ख़िलामार

  • ख़िलामार खेल में एक कील को पारी वाले को छोड़कर सभी बारी बारी से मार मारकर जमीन में गड़ाते हैं और फिर सभी आसपास छिप जाते हैं।
  • पारी वाला कील को जमीन से निकालता हैं और सभी को ढूंढता है।
  • जो पहला मिला होता है उसे दाम देना पड़ता है।
  • यदि कोई नजरों से बचकर कील के पास बने गढ्ढे में थूक देता है तो पुनः उसे ही दाम देना होता है।

बाँटी

  • कंचा को ही बाँटी कहा जाता है। दस,बीस, तीस,…..सौ तक गिनकर एक दूसरे के बाँटी को मारते हैं।
  • जिनका जिनका सौ जल्दी हुआ वे सभी जीत जाते हैं ,जिसका सौ नही हो पाता ओ हार जाता है। 
  • फिर कदम से नाप कर अपने बाँटी को दूर में रखता है
  • सभी अपने बाँटी से उसके बाँटी के निशाना लगाते हैं. पड़ा, तो फिर कदम से नाप कर बाँटी रखता है
  • इस प्रकार खेल चलते रहता है। नही पड़ा तो पुनः खेल शुरू होता है फिर दस, बीस बोलकर एक दूसरे के बाँटी को निशाना लगाते हैं।

भौंरा

  • भौंरा का खेल बच्चों का पसंदीदा खेल है हिंदी में इसे लट्टू कहा जाता है।
  • इस खेल में लकड़ी के गोल टुकड़े में कील लगा होता जिसे रस्सी से लपेट कर फेंकते हैं जिससे भौंरा कील के सहारे गोल घूमने लगता है।
  • इस खेल में एक दूसरे के घूमते भौरे को गिराना होता है।

बिल्लस

  • बिल्लस के खेल को आंगन में बिछे पत्थरों पर खेला जाता है
  • कभी-कभी जमीन में चौकोर चौकोर डिब्बा बनाकर भी खेलते हैं।
  • इस खेल में घर(खाना) जितना होता है।

चांदनी

  • चांदनी का खेल खेलने के लिए एक दाम देने वाला होता है और बाकी उसके कहे निर्देशों को पूरा करते हुए एक स्थान से दूसरे स्थान तक जाते हैं
  • इस बीच में कोई उस एक्शन को नही कर पाता या उठ कर भागता है तो उसे छू देता है।
  • अब उसे दाम देना होता है।इस खेल में पारी वाले से बोला जाता है ए चांदनी का लेबे?
  • पारी देेने वाली बोलती है अग्गल बेली बग्गल छी सभी वैसे ही बोलते और एक्शन करते दूसरे स्थान तक जाते हैं।

यह भी देखें 👉👉 छत्तीसगढ़ की जनगणना 2011

admin

Recent Posts

Current Affairs December 2020 in Hindi – करंट अफेयर्स दिसंबर 2020

Current Affairs December 2020 in Hindi – करंट अफेयर्स दिसंबर 2020 Current Affairs December 2020 in Hindi – दिसंबर 2020… Read More

51 years ago

एकादशी व्रत 2021 तिथियां – Ekadashi 2021 Date – एकादशी व्रत का महत्व

एकादशी का हिंदू धर्म में एक विशेष महत्व है। हिंदू धर्म में व्रत एवं उपवास को धार्मिक दृष्टि से एक… Read More

51 years ago

मोक्षदा एकादशी पूजा विधि, व्रत कथा

मोक्षदा एकादशी मार्गशीर्ष महीने के शुक्ल पक्ष की एकादशी को मोक्षदा एकादशी कहा जाता है। इस एकादशी को वैकुण्ठ एकादशी… Read More

51 years ago

उत्पन्ना एकादशी पूजा विधि, व्रत कथा

उत्पन्ना एकादशी मार्गशीर्ष मास के शुक्लपक्ष की एकादशी को उत्पन्ना एकादशी कहते हैं। इस एकादशी को मोक्षदा एकादशी भी कहा… Read More

51 years ago

देवउठनी एकादशी या देवुत्थान एकादशी पूजा विधि, व्रत कथा

देवउठनी एकादशी या देवुत्थान एकादशी कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी को देवउठनी एकादशी या देवुत्थान एकादशी कहा जाता… Read More

51 years ago

रमा एकादशी पूजा विधि, व्रत कथा

रमा एकादशी कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की एकादशी को रमा एकादशी कहा जाता है। इस व्रत को करने से… Read More

51 years ago

For any queries mail us at admin@meragk.in