Categories: Madhya Pradesh

मध्य प्रदेश की प्रमुख नदियाँ – Rivers of Madhya Pradesh

Rivers of Madhya Pradesh – मध्य प्रदेश की प्रमुख नदियाँ

Rivers of Madhya Pradesh – मध्य प्रदेश को नदियों का मायका भी कहते हैं। यहां भारत की सबसे अधिक नदियाँ बहती है। इनमे नर्मदा, ताप्ती, चम्बल, सोन आदि प्रमुख है।

नर्मदा नदी

  • देश की पांचवी सबसे बड़ी नदी है
  • उद्गम: अमरकंटक (अनूपपुर)
  • समापन: खम्भात की खाड़ी (अरब सागर)
  • टॉलमी ने नर्मदा को नमादोस कहा था।
  • नर्मदा के अन्य नाम: मैकल सुता, सोमोदेवी, रेवा
  • लम्बाई: 1312 किमी
  • सहायक नदी: कुन्दी, शेर, हिरन, दुधी, हथिनी, बंजर, शक्कर

चम्बल नदी

  • महाभारत में वर्णित है की राजा रतिदेव ने इसे उद्गमित किया है।
  • चम्बल नदी को प्राचीन काल में चर्मावती (धर्मावती) नाम से जाना जाता था।
  • उद्गम: महू (इंदौर) जनापाव पहाड़ी (854 मीटर ऊंचाई)
  • समापन: इटावा में यमुना नदी
  • सहायक नदी: क्षिप्रा, कालीसिंध, पार्वती, बनास
  • लम्बाई: 1040 किमी

बेतवा नदी

  • उद्गम: रायसेन के कुमरा ग्राम से
  • समापन: उत्तर में यमुना में मिलती है
  • सहायक नदियाँ: धसान, बीना
  • लम्बाई: 480 किमी
  • बेतवा नदी मध्य प्रदेश की पांचवी सबसे बड़ी नदी है।

सोन नदी

  • उद्गम: अमरकंटक (अनूपपुर)
  • समापन: पटना के निकट गंगा में
  • सहायक नदी: जोहिल्ला, बनास, गोपद, रिहन्द
  • लम्बाई: 780 किमी

क्षिप्रा नदी

  • उद्गम: इंदौर काकरी बरडी पहाड़ी से
  • समापन: उज्जैन, रतलाम, मंदसौर में बहती हुई चम्बल में
  • लम्बाई: 195 किमी
  • क्षिप्रा को मालवा की गंगा कहते हैं।

मध्य प्रदेश के प्रमुख पर्वत

ताप्ती नदी (सूर्य पुत्री)

  • उद्गम: बैतूल जिले के मुल्ताई से
  • समापन: खम्भात की खाड़ी
  • लम्बाई: 724 किमी
  • सहायक नदियाँ: पूरणा, बाघुड़, गिरना, बोरी, शिवा

तवा नदी

  • उद्गम: पंचमढ़ी महादेव पर्वत
  • समापन: होशंगाबाद नर्मदा नदी में
  • मध्य प्रदेश का सबसे लम्बा बाँध तवा नदी (1322 मीटर होशंगाबाद जिले में) पर है।

काली सिंध

  • उद्गम: देवास के बागली गाँव से
  • समापन: शाजापुर व राजगढ़ में बहती हुई राजस्थान में चम्बल में
  • लम्बाई: 150 किमी

केन

  • कटनी कैमुर्स से पन्ना व बांदा जिला (उत्तर प्रदेश) होती हुई यमुना में समाहित होती है।
  • केन नदी का प्राचीन नाम शुक्तिमती, दिर्णावती था।

बैनगंगा

  • उद्गम: सिवनी (परसवाड़ा पठार)
  • अन्य नाम: बेवा,दिदि
  • महाराष्ट्र की वर्धा नदी से इसका संगम होता है।
  • बैनगंगा दक्षिण मध्य प्रदेश की ओर बहने वाली एकमात्र नदी है।

टोंस नदी

  • उद्गम: सतना जिले के मैहर में कैमूर पहाड़ी से
  • समापन: रीवा से होकर सिरसा (उत्तर प्रदेश) के पास गंगा नदी में
  • सहायक नदी: बीहड़, वेलन
  • टोंस नदी का प्राचीन नाम तमसा था।

कुंवारी नदी

  • उद्गम: शिवपुरी पठारी से
  • समापन: भिंड जिले की लहार तहसील में सिंध नदी में

पार्वती नदी

  • उद्गम: सीहोर जिले से
  • समापन: चाचौड़ा (गुना) से होती हुई चम्बल में
  • इसके किनारे आष्टा, राजगढ़, शाजापुर नगर बसे हैं।

मध्य प्रदेश का इतिहास – Madhya Pradesh History

कुनो नदी

  • उद्गम: शिवपुरी पठार से
  • समापन: चम्बल
  • लम्बाई: 180 किमी

छोटी तवा

  • बैतूल में आवना व सुक्ता नदियों से मिलकर बनी है।
admin

Recent Posts

एकादशी व्रत 2021 तिथियां – Ekadashi 2021 Date – एकादशी व्रत का महत्व

एकादशी का हिंदू धर्म में एक विशेष महत्व है। हिंदू धर्म में व्रत एवं उपवास को धार्मिक दृष्टि से एक… Read More

51 years ago

मोक्षदा एकादशी पूजा विधि, व्रत कथा

मोक्षदा एकादशी मार्गशीर्ष महीने के शुक्ल पक्ष की एकादशी को मोक्षदा एकादशी कहा जाता है। इस एकादशी को वैकुण्ठ एकादशी… Read More

51 years ago

उत्पन्ना एकादशी पूजा विधि, व्रत कथा

उत्पन्ना एकादशी मार्गशीर्ष मास के शुक्लपक्ष की एकादशी को उत्पन्ना एकादशी कहते हैं। इस एकादशी को मोक्षदा एकादशी भी कहा… Read More

51 years ago

देवउठनी एकादशी या देवुत्थान एकादशी पूजा विधि, व्रत कथा

देवउठनी एकादशी या देवुत्थान एकादशी कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी को देवउठनी एकादशी या देवुत्थान एकादशी कहा जाता… Read More

51 years ago

रमा एकादशी पूजा विधि, व्रत कथा

रमा एकादशी कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की एकादशी को रमा एकादशी कहा जाता है। इस व्रत को करने से… Read More

51 years ago

पापांकुशा एकादशी पूजा विधि, व्रत कथा

पापांकुशा एकादशी आश्विन शुक्ल पक्ष की एकादशी को पापांकुशा एकादशी कहते हैं। जैसा कि नाम से ही पता चलता है… Read More

51 years ago

For any queries mail us at admin@meragk.in