नारियल पानी पीने के 10 फायदे | Coconut Water benefits in Hindi

nariyal pani ke fayde, coconut water benefits in hindi

नारियल पानी (Coconut Water) मनुष्य के स्वास्थ्य के लिए बहुत ही लाभदायक है। इसका सेवन करने से बहुत तरह के रोगों से छुटकारा पा सकते हैं। प्रत्येक हरे नारियल में लगभग 200 से 1000 मिलीलीटर (लगभग 1 से 4 कप) नारियल पानी (Coconut Water) होता है। यह एक ऐसा प्राकृतिक पेय है जो स्वादिष्ट, ताज़ा और कम कैलोरी वाला होता है। कच्चे नारियल का पानी पके हुये नारियल की तुलना में अधिक पौष्टिक होता है।

नारियल पानी में एंटीऑक्सिडेंट, एमिनो एसिड, एंजाइम, बी-कॉम्प्लेक्स विटामिन, विटामिन सी, लोहा, कैल्शियम, पोटेशियम, मैग्नीशियम, मैंगनीज और जस्ता जैसे खनिजों की उपयुक्त मात्रा पाई जाती है। नारियल पानी (Coconut Water) में मौजूद सूक्ष्म पोषक तत्व प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा देने में मदद करते है। इसके साथ ही, इसमें पाए जाने वाला साइटोकिनीन नामक हार्मोन एंटीथ्रोमोटिक और एंटीकैसर प्रभाव दिखाता है।

आइए जानते हैं कि नारियल पानी पीने के क्या क्या फायदे हैं?

नारियल पानी पीने के 10 फायदे (Coconut Water benefits in Hindi)

नारियल पानी पीने के 10 फायदे (Coconut Water benefits in Hindi) निम्नलिखित हैं:

शरीर को हाइड्रेटेड रखने में

1 3

नारियल पानी (Coconut Water) उष्णकटिबंधीय गर्मी की प्यास को मिटाने के लिए एक उत्कृष्ट पेय है। डायरिया, उल्टी या अत्यधिक पसीने के कारण निर्जलीकरण और तरल पदार्थ के नुकसान की भरपाई करने के लिए नारियल पानी का इस्तेमाल इसकी इलेक्ट्रोलाइट संरचना होने के कारण किया जा सकता है। यह कार्बोहाइड्रेट का एक अच्छा स्रोत है तथा ऊर्जा स्तर को बढ़ाने में भी मदद करता है।

स्पोर्ट्स न्यूट्रिशन के अंतर्राष्ट्रीय सोसायटी जर्नल में प्रकाशित 2012 के एक अध्ययन में पाया गया कि नारियल के पानी और खेल पेय (Sports Drink) के एक समान सकारात्मक प्रभाव है।

रक्तचाप को कम करने में

2 3

नारियल पानी (Coconut Water) में विटामिन-सी, पोटेशियम और मैग्नीशियम पर्याप्त मात्रा में पाया जाता है, जिस कारण इसे उच्च रक्तचाप नियंत्रित करने के लिए अच्छा स्त्रोत माना जाता है। नारियल पानी में मौजूद पोटेशियम, सोडियम के नकारात्मक प्रभावों को संतुलित करके, रक्तचाप को कम करने में मदद करता है। उच्च रक्तचाप को कम करने में मदद करने के लिए, दिन में दो बार ताजा नारियल पानी का इस्तेमाल पीने के लिए किया जा सकता है।

2005 में वेस्ट इंडियन मेडिकल जर्नल में प्रकाशित एक अध्ययन में यह पाया गया कि नारियल का पानी नियंत्रण उच्च रक्तचाप को नियंत्रित करने में मदद करता है।

हृदय के लिए टॉनिक के रूप में

3 2

कच्चे नारियल का पानी कोलेस्ट्रॉल और वसा रहित होता है जो कार्डियोप्रोटेक्टिव प्रदान करता है। यह निम्न घनत्व वाले लिपोप्रोटीन (LDL या ‘खराब’ कोलेस्ट्रॉल) को कम करने में मदद करता है और उच्च घनत्व वाले लिपोप्रोटीन (HDL या ‘अच्छा’ कोलेस्ट्रॉल) स्तरों में वृद्धि करता है, जिससे हृदय रोग का खतरा कम रहता है। इसके अलावा, नारियल के पानी में एंटीऑक्सीडेंट और एंटीप्लेटलेट गुण हैं जो परिसंचरण को बेहतर बनाने में मदद करते है। जिसके कारण धमनियो में किसी भी प्रकार का कोई गठन नहीं होता और दिल का दौरा पड़ने का जोखिम भी कम होता है।

अत्याधिक नशे के प्रभाव को कम करने में

4 1

नशे के प्रभाव को कम करने में नारियल का पानी एक महान प्राकृतिक उपाय भी है। एल्कोहल शरीर में निर्जलीकरण का कारण बनता है। नारियल पानी शरीर में इलेक्ट्रोलाइट की भरपाई करता है और जलयोजन को बढ़ाता है, जिससे आप बेहतर महसूस कर सकते हैं। इसके अलावा, इस पुनर्जन्मित स्वास्थ्य पेय में मौजूद एंटीऑक्सिडेंट, अत्याधिक एल्कोहल के सेवन से पैदा होने वाले ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करने में मदद करते है।

इसके लिए आप दो कप नारियल के पानी में, दो पके हुये आम, 2-3 चम्मच नींबू का रस, 2-3 पुदीने की पत्तिया और आधा कप बर्फ मिलाकर एक प्राकृतिक शीतल पेय बना सकते है।

वजन कम करने में

5 1

नारियल का पानी (Coconut Water) वजन घटाने के लिए एक आदर्श पेय है। यह कैलोरी में कम है और पेट के लिए फायदेमंद है। वास्तव में, यह हल्का और ताज़ा पेय विभिन्न बायोएक्टिव एंजाइम से भरपूर है जो पाचन को बढ़ावा देने और वसा मेटाबोलिस्म में मदद करता है। इसके अलावा, नारियल का पानी पोटेशियम में समृद्ध है, जो सोडियम को संतुलित करने में मदद करता है। शरीर में अत्यधिक सोडियम जल प्रतिधारण (Water Retention) का कारण बनता है और आपका वजन बढ़ता है। इस प्रकार, नारियल का पानी आपके शरीर से अतिरिक्त पानी और विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने में मदद करता है। वजन घटाने के लिए आप इस स्वास्थ्य पेय के 8-औंस गिलास हफ्ते में 3-4 बार पी सकते हैं। इससे अधिक इसका इस्तेमाल न करें।

सिरदर्द को कम करने में

6 1

अधिकांश सिरदर्द, यहां तक कि माइग्रेन दर्द (Migraine Pain) भी निर्जलीकरण के कारण शुरू होते है। ऐसे मामलों में, नारियल का पानी शरीर में इलेक्ट्रोलाइट्स की आपूर्ति और जलयोजन बढ़ाने में बहुत मदद कर सकता है। इसके अलावा नारियल पानी में मैग्नीशियम की भी अधिकता पायी जाती है। माइग्रेन से पीड़ित लोगों में अक्सर मैग्नीशियम की कमी पायी जाती है। अध्ययन यह भी सुझाव देते हैं कि नारियल पानी में मौजूद मैग्नीशियम, माइग्रेन अटेक्स (Migraine Attacks) की आवृत्ति कम करने में भी मदद कर सकता है।

pH लेवेल के स्तर को बनाए रखने में

7

तनाव, एसिड बनाने वाले खाद्य पदार्थ, उच्च आहार जैसे संसाधित फास्ट फूड, अक्सर अम्लीय पीएच (Acidic pH) स्तर में योगदान करते हैं जो कम ऊर्जा का कारण बनते हैं और विटामिन और खनिजों को अवशोषित करने के लिए शरीर की क्षमता को कम करते हैं। अम्लीय पीएच (Acidic pH ), तनावग्रस्त जिगर, गठिया, ऑस्टियोपोरोसिस, मधुमेह, उच्च रक्तचाप और प्रतिरक्षा की कमी जैसी समस्याओं में योगदान देता है। नारियल पानी क्षारीय असर के कारण शरीर में स्वस्थ पीएच को बहाल करके अम्लीय पीएच स्तर से पैदा होने वाली जलन को कम करने में मदद करता है।

रक्त शर्करा (Blood Sugar) को नियंत्रित करने में

8 1

नारियल पानी (Coconut Water) में अमीनो एसिड और आहार फाइबर होता है जो रक्त शर्करा को विनियमित करने और इंसुलिन संवेदनशीलता को बेहतर बनाने में मदद करता है। यह मधुमेह रोगियो द्वारा सामना किए जाने वाले सामान्य समस्याओं मे भी सहायता करता है। यह आपके वजन को प्रबंधित करने में मदद करता है। चूंकि यह परिसंचरण में सुधार करने में सहायता करता है इसलिए नारियल पानी पैरों में सुन्नता जैसे लक्षणों को कम करने और एथेरोसलेरोसिस (Atherosclerosis) को विकसित करने की प्रवृत्ति के लिए भी अच्छा है।

2012 में जर्नल फूड एंड फंक्शन में प्रकाशित एक अध्ययन में परिपक्व नारियल पानी के चिकित्सीय प्रभावों का अध्ययन किया गया और पाया कि इससे रक्त शर्करा का स्तर और ऑक्सीडेटिव तनाव कम करने में मदद मिली।

प्राकृतिक मूत्रवर्धक के रूप में

9 1

नारियल पानी एक प्राकृतिक मूत्रवर्धक के रूप में कार्य करता है। यह मूत्र उत्पादन और प्रवाह को बढ़ावा देता है और आपके शरीर के विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने में मदद करता है। यह मूत्र पथ के संक्रमण जैसी समस्याओं को रोकने में भी मदद करता है। पोटेशियम की उपलब्धता के कारण, नारियल पानी में मूत्र क्षार को कम करने में मदद मिलती है तथा कुछ प्रकार की गुर्दा पथरी को घुलनशील करके उन्हें शरीर से बाहर निकल जाने में भी सहायता मिलती है। इसकी प्रभावशीलता बढ़ाने के लिए, नारियल पानी के एक कप में समुद्री नमक का एक चुटकी डालकर, दिन में एक या दो बार सेवन कर सकते है। इसके मूत्रवर्धक गुणों के अतिरिक्त, नारियल के पानी में जीवाणुरोधी गुण होते हैं जो मूत्राशय संक्रमण से लड़ने में सहायता करते हैं।

बूढ़ा होने की प्रक्रिया को धीमा करने के लिए

10

नारियल पानी में साइटोकिनीन (cytokinins) होता है जो कोशिकाओं और ऊतकों पर उम्र बढ़ने से होने वाले प्रभावों को कम करने में मदद करता है। ताज़ा हरे नारियल का पानी आपकी त्वचा को नरम और चिकनी बनाए रखने के लिए पोषण करता है और त्वचा को हाइड्रेट बनाए रखता है। 2 चम्मच चंदन के पाउडर के साथ पर्याप्त नारियल पानी मिलाकर एक पेस्ट बना ले और इसका इस्तेमाल त्वचा पर करें।

नारियल पानी पीते समय सावधानियाँ

  • नारियल पानी नट एलर्जी वाले लोगों के लिए उपयुक्त नहीं हो सकता है।
  • यह कुछ लोगों में सूजन और पेट में परेशानी का कारण हो सकता है।
  • निर्धारित सर्जरी के कम से कम 2 सप्ताह पहले नारियल पानी न पिये क्योंकि यह सर्जरी के दौरान और बाद में रक्तचाप के नियंत्रण में हस्तक्षेप कर सकता है।
  • गुर्दा रोग से ग्रस्त लोगों को उनके स्वास्थ्य आहार में नारियल पानी शामिल करने से पहले उनके डॉक्टर से परामर्श करना चाहिए।

नारियल की खेती के लिए जलवायु

नारियल की खेती के लिए सर्वोत्तम जलवायु वह है जहाँ 100 सेमी से 250 सेमी तक सुवितरित वर्षा होती होती हो अथवा सिंचाई की पर्याप्त सुविधाएँ हों और लगभग 25 डिग्री सेल्सियस का वार्षिक तापमान परिसर हो, (जहां तापमान 20 डिग्री सेल्सियस से कभी नीचे न जाता हो) एंव प्रखर सूर्य का प्रकाश हो और 70 प्रतिशत से अधिक आर्द्रता हो। यदि भू-जल स्तर ऊँचा है तो वहाँ पर नारियल की खेती नहीं की जा सकती है, क्योंकि इसकी जड़ें गहरी नहीं जाती हैं।

नारियल की खेती के लिए भूमि

नारियल की खेती विभिन्न प्रकार की मृदाओं में की जा सकती है, परन्तु समुद्र तटीय मृदायें इसकी खेती के लिए सर्वोत्तम मानी गयी हैं। उचित जल निकास वाली रेतीली दोमट भूमि में इसे सफलतापूर्वक उगाया जा सकता है। वैसे नारियल की खेती के लिए लेटराइट, जलोढ, लाल बलुई दोमट और सुधार की गयी मृदाएँ जिनका pH मान 5.0 – 8.0 के मध्य हो, उत्तम मानी गई हैं।

नारियल की प्रजातियाँ

सामान्य तौर पर नारियल की किस्मों को दो वर्गो में विभक्त किया जाता है:-

  1. ऊँची किस्में
  2. बौनी किस्में

ऊँचे वृक्षों को अधिकतर नारियर के साथ-साथ खोपङा और नारियल तेल के लिए सामान्य रूप से उगाया जाता है जबकि बौनी किस्मों को सजावटी पौधों के रूप में एवं उनके मीठे स्फूर्तिदायक डाब पानी के लिए लगाया जाता है। बौनी किस्मों में हरा, पीला व नारंगी रंग के फल लगते हैं

1. ऊंची किस्में – कपाडम, वेस्टकोस्ट टाँल,अंडमान ज्वाँइन्ट,लक्षद्वीप आर्डीनरी, लक्षदीव मीडियम, लक्षद्वीप माइक्रो, रंगून, कावेरी, कैतताली, गंगाभवानी, कोचीन चाइना, जावा स्याम, फिजी घई,तेगाई आदि प्रमुख किस्में अधिकतर भारत में उगाई जाती हैं। यह किस्में केरल और कर्नाटक में भी उगाई जाती हैं।

2. बौनी किस्में – ड्वार्फ- ग्रीन, लक्षद्वीप स्माल, अंडमान ड्वार्फ, लक्षद्वीप ड्वार्फ, चावकट ड्वार्फ. मालद्वीप ड्वार्फ,फिलीपीन ड्वार्फ, चेन्थेंगू आदि प्रमुख किस्में हैं।

नारियल की रोपाई कैसे करें?

नारियल की रोपाई हेतु खोदे गये गढ्डों के आधे भाग तक गोबर की खाद या कम्पोस्ट और 1 किलोग्राम अस्थिचूर्ण (Bone meal) या सिंगल सुपर फाँस्फेट से भर दिया जाता है। पंक्ति से पंक्ति और पौधे से पौंधे की दूरी 7.5 x 7.5 मीटर रखें। मृदा में नमी की अनुकूलतम स्थिति में पौधों का प्रतिरोपण किया जा सकता है। वैसे रोपण दूरी इस बात पर निर्भर करती है कि किस प्रकार रोपण किया जाता है?

  • Triangular विधि: इस विधि में 7.6 मीटर की दूरी रखी जाती है,
  • वर्गाकार रोपण: इसमें 7.6-9.0 मीटर की दूरी रखी जाती है
  • एकल बाङ (Single Hedge): इसमें 6.0 मीटर की दूरी रखी जाती है
  • डबल बाड: इसमें 5 x 5 मीटर की दूरी रखी जाती है

साधारणतया 60 सेमी की गहराई पर नारियल के पौधों का प्रतिरोपण करें तो जल्दी पुष्पन होता है।

नारियल की रोपाई का समय

सामान्य रूप मानसून से पूर्व मई की वर्षा में पौधों का रोपण आदर्श रहता है जबकि सिचिंत क्षेत्रों में अप्रैल में रोपण किया जा सकता है। निचले क्षेत्रों में रोपाई सितम्बर में भारी वर्षा की समाप्ति के उपरान्त करनी चाहिए।

यह भी देखें 👉👉 ब्लूबेरी (नीलबदरी) के फायदे, उपयोग और नुकसान

यह भी देखें 👉👉 कॉर्न फ्लोर क्या होता है? कॉर्न फ्लोर और मक्के के आटे में अंतर

यह भी देखें 👉👉 100 सब्जियों के नाम हिंदी, इंग्लिश, संस्कृत में

यह भी देखें 👉👉 ऑक्सीजन कॉन्सेंट्रेटर क्या होता है? ऑक्सीजन कॉन्सेंट्रेटर और ऑक्सीजन सिलिंडर में अंतर