इन्द्र के ईर्ष्यालु होने के कारण “कुम्भकर्ण” को सोने का वरदान प्राप्त हुआ

रामायण में एक दिलचस्प कहानी हमेशा सोने वाले “कुम्भकर्ण” की है। कुम्भकर्ण, रावण का छोटा भाई था, जिसका शरीर बहुत ही विकराल था। इसके अलावा वह पेटू (बहुत अधिक खाने वाला) भी था। रामायण में वर्णित है कि कुम्भकर्ण लगातार छह महीनों तक सोता रहता था और फिर सिर्फ एक दिन खाने के लिए उठता था और पुनः छह महीनों तक सोता रहता था।

लेकिन क्या आपको पता है कि कुम्भकर्ण को सोने की आदत कैसे लगी थी? एक बार एक यज्ञ की समाप्ति पर प्रजापति ब्रह्मा कुन्भकर्ण के सामने प्रकट हुए और उन्होंने कुम्भकर्ण से वरदान मांगने को कहा। इन्द्र को इस बात से डर लगा कि कहीं कुम्भकर्ण वरदान में इन्द्रासन न मांग ले, अतः उन्होंने देवी सरस्वती से अनुरोध किया कि वह कुम्भकर्ण की जिह्वा पर बैठ जाएं जिससे वह “इन्द्रासन” के बदले “निद्रासन” मांग ले। इस प्रकार इन्द्र की ईर्ष्या की वजह से कुम्भकर्ण को सोने का वरदान प्राप्त हुआ था।

यह भी देखें 👉👉 रावण एक उत्कृष्ट वीणा वादक और मृदंग वादक था

Subscribe Us
for Latest Updates

For any queries mail us at admin@meragk.in