रामायण के युद्ध में जब कुम्भकर्ण से शर्त हारे थे हनुमानजी

रामायण के बारे में आपने सुना ही है और पल पल की जानकारी आपको होगी ही। एक समय ऐसा भी था जब रावण को अपने भाई कुम्भकरण को उठाना पड़ा था। लेकिन जब कुम्भकरण मैदान पर आया तब उस समय वह एक ख़ास शर्त हनुमान जी से लगा बैठा और हनुमान जी वह शर्त हार गए।

लंका में युद्ध अपनी चरम सीमा पर था। श्री राम की सेना आगे बढ़ती जा रही थी और रावण के अनेकानेक महारथी रणभूमि में वीरगति को प्राप्त हो गए थे। अब तक रावण भी समझ गया था कि श्री राम की सेना से जीतना उतना सरल कार्य नहीं है जितना वह समझ रहा है। उसने अपने छोटे भाई कुम्भकरण को जगाने का निर्णय किया। कुम्भकरण को ब्रह्म देव द्वारा एक ख़ास वरदान प्राप्त था कि वह छह महीने तक सोता रहेगा और छह महीने तक उठेगा।

कुम्भकरण जब नींद से जागा तो रावण ने उसे स्थिति से अवगत कराया। इस पर कुम्भकरण ने रावण को उसके कृत्य के लिए खरी खोटी सुनाई। लेकिन भाई की सहायता से वह पीछे नहीं हटा। जब वह रणभूमि में पहुंचा तो उसकी काया देखकर वानर सेना में खलबली मच गयी। उसने किसी और से युद्ध न कर सीधे श्री राम से युद्ध करने की ठानी। वह युद्ध भूमि में आगे बढ़ रहा था। पूरी वानर सेना भागने लगी।

सबसे पहले नल और फिर नील आकर कुम्भकरण से लड़े लेकिन वह भी परास्त हो गए। उसके बाद सुग्रीव और अंगद ने भी कुम्भकरण से युद्ध किया लेकिन वो भी हार गए। उसके बाद जामवंत आये, वो भी कुम्भकरण से हार गए। उसके बाद आये हनुमान जी। महाबली हनुमान का बल अपार था। उन्होंने युद्ध क्षेत्र में आकर कुम्भकरण को ललकारा। कुम्भकरण के विशालकाय शरीर के सामने बजरंगबली ने भी अपना विराट रूप धर लिया और फिर दोनों में महायुद्ध आरम्भ हुआ। दोनों की सेना रुक गयी और उन दोनों का युद्ध देखने लगी। आपस में लड़ते हुए दोनों को अपने प्रतिद्वंदियों के बल का आभास हुआ और दोनों ने मन ही मन एक दूसरे की सराहना की। जब युद्ध थोड़ा लम्बा चला तब कुम्भकरण ने हनुमान की प्रशंसा करते हुए कहा कि मेने आज तक तुम जैसे वीर का सामना नहीं किया और इस युद्ध का कोई परिणाम नहीं निकलने वाला है।

बाद में युद्ध फिर से आरम्भ हुआ और हनुमान जी ने क्रोधित होकर पहाड़ उखाड़ लिया। तब कुम्भकरण ने हनुमान जी से कहा कि यदि मैं इस प्रहार से थोड़ा भी विचलित हुआ तो ये रणभूमि छोड़ दूंगा। और महाबली के इस प्रहार से कुम्भकरण तनिक भी नहीं हिला। इससे हनुमान जी काफी प्रभावित हुए और उन्होंने निर्णय लिया कि ये योद्धा तो श्री राम हाथों ही मृत्यु पाने के योग्य है। इसके बाद कुम्भकरण का युद्ध लक्ष्मण और श्री राम से हुआ।

यह भी देखें 👉👉 रामसेतु को बनाने में कितना समय लगा? रामसेतु किसने और क्यों तोड़ा?

admin

Recent Posts

Current Affairs December 2020 in Hindi – करंट अफेयर्स दिसंबर 2020

Current Affairs December 2020 in Hindi – करंट अफेयर्स दिसंबर 2020 Current Affairs December 2020 in Hindi – दिसंबर 2020… Read More

51 years ago

एकादशी व्रत 2021 तिथियां – Ekadashi 2021 Date – एकादशी व्रत का महत्व

एकादशी का हिंदू धर्म में एक विशेष महत्व है। हिंदू धर्म में व्रत एवं उपवास को धार्मिक दृष्टि से एक… Read More

51 years ago

मोक्षदा एकादशी पूजा विधि, व्रत कथा

मोक्षदा एकादशी मार्गशीर्ष महीने के शुक्ल पक्ष की एकादशी को मोक्षदा एकादशी कहा जाता है। इस एकादशी को वैकुण्ठ एकादशी… Read More

51 years ago

उत्पन्ना एकादशी पूजा विधि, व्रत कथा

उत्पन्ना एकादशी मार्गशीर्ष मास के शुक्लपक्ष की एकादशी को उत्पन्ना एकादशी कहते हैं। इस एकादशी को मोक्षदा एकादशी भी कहा… Read More

51 years ago

देवउठनी एकादशी या देवुत्थान एकादशी पूजा विधि, व्रत कथा

देवउठनी एकादशी या देवुत्थान एकादशी कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी को देवउठनी एकादशी या देवुत्थान एकादशी कहा जाता… Read More

51 years ago

रमा एकादशी पूजा विधि, व्रत कथा

रमा एकादशी कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की एकादशी को रमा एकादशी कहा जाता है। इस व्रत को करने से… Read More

51 years ago

For any queries mail us at admin@meragk.in