कर्ण को दानवीर कर्ण के नाम से जाना जाता है

कर्ण को न सिर्फ कर्ण अपितु दानवीर कर्ण के नाम से जाना जाता है। जब युद्ध क्षेत्र में कर्ण आखिरी सांस ले रहे थे तो भगवान कृष्ण ने उनकी दानशीलता की परीक्षा लेनी चाही। वे गरीब ब्राह्मण बनकर कर्ण के पास गए और कहा कि तुम्हारे बारे में काफी सुना है और तुमसे मुझे अभी कुछ उपहार चाहिए। कर्ण ने उत्तर में कहा कि आप जो भी चाहें मांग लें, ब्राह्मण ने सोना मांगा। कर्ण ने कहा कि सोना तो उसके दांत में है और आप इसे ले सकते हैं. ब्राह्मण ने जवाब दिया कि मैं इतना कायर नहीं हूं कि तुम्हारे  दांत तोड़ूं. कर्ण ने तब एक पत्थर उठाया और अपने दांत तोड़ लिए। ब्राह्मण ने इसे भी लेने से इंकार करते हुए कहा कि खून से सना हुआ यह सोना वह नहीं ले सकता। कर्ण ने इसके बाद एक बाण उठाया और आसमान की तरफ चलाया. इसके बाद बारिश होने लगी और दांत धुल गया। इस प्रकार कर्ण अपनी मृत्यु से ठीक पहले कर्ण ने रक और दानवीरता का उदाहरण संसार में स्थापित किया।

यह भी देखें 👉👉 महाभारत के युद्ध में उडुपी के राजा ने निरपेक्ष रहने का फैसला किया