कैकेयी ने अपने बेटे के लिए नही बल्कि इस कारण मांगा था राम का वनवास

किवदंतियों के अनुसार, एक समय की बात है राजा दशरथ और बाली के बीच युद्ध का मुकाबला चल रहा था। राजा के साथ हमेशा रानी कैकयी होती थी क्योकि दशरथ की तीनो रानियों में से कैकयी अस्त्र शस्त्र चलाने में निपुण थी। इसी कारण से युद्ध में रानी दशरथ के साथ हुआ करती थी। जिस वक्त बाली और राजा दशरथ के बीच युद्ध हो रहा था संयोगवश रानी कैकयी भी राजा दशरथ के साथ थी।

चूंकि बाली को यह वरदान था कि शत्रु की आधी शक्ति बाली को प्राप्त हो जाएगी। इसी कारणवश राजा दशरथ बाली से परास्त हो गए। जब बाली युद्ध में विजय हुआ तो उसने दशरथ के सामने एक शर्त रख दी कि या तो अपनी शान अपना मुकुट यहां छोड़ जाओ या फिर अपनी रानी कैकयी को छोड़ जाओ। तब राजा दशरथ ने मुकुट को छोड़ दिया और कैकयी को साथ लेकर चले गए। कैकयी को यह तो मालुम था कि बिना मुकुट राजा को शोभा नहीं देता। इसके कारण कैकयी को बहुत दुःख हुआ क्योकि राजा ने मुकुट को उन्ही के बदले छोड़ा था।

राजा के मुकुट की वापसी की चिंता में वह हमेशा रहा करती थी। जब भगवान् राम का राजतिलक हो रहा था तब दशरथ और कैकयी के बीच मुकुट को लेकर चर्चा हुई और ये बात केवल ये ही दोनों जानते थे कि मुकुट कहाँ है। इसी मुकुट वापसी के लिए कैकयी ने राम को वनवास भेजने का कलंक अपने ऊपर लिया और राम को वन भिजवाया। कैकयी ने राम को वन भिजवाने के वचन को पाकर राम से कहती है कि वनवास जाकर आपको बाली से अयोध्या की शान मुकुट को लेकर वापिस आना पड़ेगा। फलस्वरूप हुआ भी ऐसा ही, जब बाली और सुग्रीव की लड़ाई हो रही थी तो राम ने बाली को मारकर गिरा दिया था। उसी समय बाली और राम के बीच संवाद होने लगा।

संवाद में राम ने बाली से अयोध्या की शान मुकुट के बारे में पूछा। बाद में बाली ने राम को बताया कि जब उसने रावण को बंदी बनाया था और जब रावण भगा तो वह छल से मुकुट लेकर भाग गया। बाली ने कहा आपका मुकुट मेरे पास नहीं है, इस वक्त आपके अयोध्या की शान मुकुट लंका में है। बाली आगे कहते हैं कि मेरे पुत्र अंगद को अपने साथ ले जाओ और उसको भी सेवा का अवसर दे दो, जो अपने प्राणो की बाजी लगाकर भी आपका मुकुट वापिस लाएगा। तब श्री राम का दूत बनकर अंगद रावण की सभा में गए। वहां पर अंगद का पैर कोई नहीं हिला सका तो इसमें रावण अंगद का पैर हिलाने निचे झुका और ऐसे में उसका मुकुट निचे गिर गया। नीचे गिरे मुकुट को लेकर अंगद चले आये। कैकयी की इस ज़िद के कारण रघुकुल की आन बच गयी।

यह भी देखें 👉👉 मंथरा और श्रीराम के पूर्व जन्म की कहानी

admin

Recent Posts

भारत में कितने राज्य हैं? Bharat mein kitne Rajya hain?

Bharat mein kitne Rajya hain? भारत में कितने राज्य हैं? Bharat mein kitne Rajya hain? भारत में कितने राज्य हैं?… Read More

9 hours ago

Gandhi Jayanti – गांधी जयंती क्यों, कब, कैसे मनाई जाती है? महत्व, 10 कविताएं

Gandhi Jayanti Gandhi Jayanti - राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के जन्मदिवस को भारत में 'गांधी जयंती' (Gandhi Jayanti) के रूप में… Read More

1 day ago

Vishwakarma Puja 2021- विश्वकर्मा पूजा विधि, आरती, महत्व

Vishwakarma Puja Vishwakarma Puja - विविधताओं से भरे इस भारत देश में शायद ही ऐसा कोई महीना हो जब कोई… Read More

1 day ago

PM Kisan Samman Nidhi Yojana – पीएम किसान सम्मान निधि योजना

PM Kisan Samman Nidhi Yojana PM Kisan Samman Nidhi Yojana - हमारे देश में मोदी सरकार के आने से बाद… Read More

2 days ago

Kanya Sumangala Yojana – कन्‍या सुमंगला योजना के लिए कैसे करें आवेदन?

Kanya Sumangala Yojana Kanya Sumangala Yojana - बेटियों को उच्च स्तर पर पढ़ें हेतु एवं उन्हें समाज में पुरुषों की… Read More

3 days ago

Kabir Ke Dohe in Hindi – कबीर के दोहे हिंदी अर्थ सहित

Kabir Ke Dohe - कबीर के दोहे Kabir Ke Dohe - कवि कबीर दास का जन्म वर्ष 1440 में और… Read More

1 week ago

For any queries mail us at admin@meragk.in