भीष्म पितामह के पांच बाण

महाभारत का युद्ध चल रहा था और भीष्म पितामह कौरवों की ओर से लड़ रहे थे। तभी दुर्योधन उनके पास आया और उसने अपने हारते हुए सेना का बखान करते हुए कहा – की आप अपनी पूरी ताकत से युद्ध नहीं लड़ रहे हैं। यह सुनकर भीष्म पितामह का बहुत ही बुरा और गुस्सा आया और उन्होंने उसी समय 5 सोने के तीर निकालें और कुछ मंत्र पढ़ते हुए दुर्योधन से कहा की इन 5 तीरों की मदद से कल सुबह मैं पांडवों को खत्म कर दूँगा।

परंतु भीष्म पितामह की बातों  पर दुर्योधन को भरोसा नहीं हुआ और उसने वह पांच तीर अपने पास रख लिए। जब श्रीकृष्ण को इसके विषय में पता चला तो श्री कृष्ण में अर्जुन को बुलाया और कहा कि तुम दुर्योधन के पास जाकर वह पांच तीर मांग लो जो तुम्हारे विनाश का कारण बन सकते हैं। वह दिन याद करो जब तुमने दुर्योधन को गंधर्व से बचाया था उसके बदले दुर्योधन ने तुम्हें कहा था कि कोई भी चीज जान बचाने के लिए मांग लो अब वह समय आ गया है की तुम वह  इन 5 तीरों को मांग लो।अर्जुन गए और उन्होंने को उसके वचन की याद दिलाते हुए वह तीर मांगे । एक क्षत्रिय होने के नाते दुर्योधन को  वह 5 तीर अर्जुन को देने पड़े।

यह भी देखें 👉👉 हिडिंबा और भीम की कहानी