Categories: Hindi Quotes

चाणक्य नीति: सातवां अध्याय | Chanakya Niti in Hindi: Seventh Chapter

चाणक्य नीति: सातवां अध्याय | Chanakya Niti in Hindi: Seventh Chapter

  1. एक बुद्धिमान व्यक्ति को निम्नलिखित बातें किसी को नहीं बतानी चाहिए .. १. की उसकी दौलत खो चुकी है. २. उसे क्रोध आ गया है. ३. उसकी पत्नी ने जो गलत व्यवहार किया. ४. लोगों ने उसे जो गालियां दी. ५. वह किस प्रकार बेइज्जत हुआ है.

A wise man should not reveal his loss of wealth, the vexation of his mind, the misconduct of his own wife, base words spoken by others, and disgrace that has befallen him.

अर्थनाशं मनस्तापं गृहिणीचरितानि च ।
नीचवाक्यं चाऽपमानं मतिमान्न प्रकाशयेत् ।।१।।

  1. जो व्यक्ति आर्थिक व्यवहार करने में, ज्ञान अर्जन करने में, खाने में और काम-धंधा करने में शर्माता नहीं है वह सुखी हो जाता है.

He who gives up shyness in monetary dealings, in acquiring knowledge, in eating and in business, becomes happy.

धनधान्मप्रयोगेषु विद्यासंग्रहणेषु च ।
आहारे व्यवहारे च त्यक्तलज्जा सुखी भवेत् ।।२।।

  1. जो सुख और शांति का अनुभव स्वरूप ज्ञान को प्राप्त करने से होता है, वैसा अनुभव जो लोभी लोग धन के लोभ में यहाँ वहाँ भटकते रहते है उन्हें नहीं होता.

The happiness and peace attained by those satisfied by the nectar of spiritual tranquillity is not attained by greedy persons restlessly moving here and there.

स्न्तोषामृततृप्तानां यत्सुखं शान्तिरेव च ।
न च तध्दनलुब्धानामितश्चेतश्च धावताम् ।।३।।

  1. व्यक्ति नीचे दी हुए ३ चीजों से संतुष्ट रहे… १. खुद की पत्नी २. वह भोजन जो विधाता ने प्रदान किया. ३. उतना धन जितना ईमानदारी से मिल गया.

लेकिन व्यक्ति को नीचे दी हुई ३ चीजों से संतुष्ट नहीं होना चाहिए…

१. अभ्यास २. भगवान का नाम स्मरण. ३. परोपकार

One should feel satisfied with the following three things; his own wife, food given by Providence and wealth acquired by honest effort; but one should never feel satisfied with the following three; study, chanting the holy names of the Lord (japa) and charity.

सन्तोषस्त्रिषु कर्तव्यः स्वदारे भोजने धने ।
त्रिषु चैव न कर्त्तव्योऽध्ययने जपदानयोः ।।४।।

  1. इन दोनों के मध्य से कभी ना जाए.. १. दो ब्राह्मण. २. ब्राह्मण और उसके यज्ञ में जलने वाली अग्नि. ३. पति पत्नी. ४. स्वामी और उसका चाकर. ५. हल और बैल.

Do not pass between two brahmanas, between a brahmana and his sacrificial fire, between a wife and her husband, a master and his servant, and a plough and an ox.

विप्रयोर्विप्रह्नेश्च दम्पत्यॊः स्वामिभृत्ययोः ।
अन्तरेण न गन्तव्यं हलस्य वृषभस्म च ।।५।।

  1. अपना पैर कभी भी इनसे न छूने दे…१. अग्नि २. अध्यात्मिक गुरु ३. ब्राह्मण ४. गाय ५. एक कुमारिका ६. एक उम्र में बड़ा आदमी. ५. एक बच्चा.

Do not let your foot touch fire, the spiritual master or a brahmana; it must never touch a cow, a virgin, an old person or a child.

पादाभ्यां न स्पृशेदग्नि गुरुं ब्राह्मणमेव च ।
नैव गां च कुमारीन न वृध्दं न शिशुं तथा ।।६।।

  1. हाथी से हजार गज की दुरी रखे. घोड़े से सौ की. सींग वाले जानवर से दस की. लेकिन दुष्ट जहाँ हो उस जगह से ही निकल जाए.

Keep one thousand cubits away from an elephant, a hundred from a horse, ten from a horned beast, but keep away from the wicked by leaving the country.

हस्ती हस्तसहस्त्रेण शतहस्तेन वाजिनः ।
श्रृड्गिणी दशहस्तेन देशत्यागेन दुर्जनः ।।७।।

  1. हाथी को अंकुश से नियंत्रित करे. घोड़े को थपथपा के. सींग वाले जानवर को डंडा दिखा के. एक बदमाश को तलवार से.

An elephant is controlled by a goad (ankusha), a horse by a slap of the hand, a horned animal with the show of a stick, and a rascal with a sword.

हस्ती अंकुशमात्रेण बाजी हस्तेन ताड्यते ।
श्रृड्गि लकुटहस्ते न खड्गहस्तेन दुर्जनः ।।८।।

  1. ब्राह्मण अच्छे भोजन से तृप्त होते है. मोर मेघ गर्जना से. साधु दूसरों की सम्पन्नता देखकर और दुष्ट दूसरों की विपदा देखकर.

Brahmanas find satisfaction in a good meal, peacocks in the peal of thunder, a sadhu in seeing the prosperity of others, and the wicked in the misery of others.

तुष्यन्ति भोजने विप्रा मयूरा घनगर्जिते ।
साधवः परसम्पत्तौ खलाः परविपत्तिषु ।।९।।

  1. एक शक्तिशाली आदमी से उसकी बात मान कर समझौता करे. एक दुष्ट का प्रतिकार करे. और जिनकी शक्ति आपकी शक्ति के बराबर है उनसे समझौता विनम्रता से या कठोरता से करे.

Conciliate a strong man by submission, a wicked man by opposition, and the one whose power is equal to yours by politeness or force.

अनुलोमेन बलिनं प्रतिलोमेन दुर्जन्म् ।
आत्मतुल्यबलं शत्रुः विनयेन बलेन वा ।।१०।।

  1. एक राजा की शक्ति उसकी शक्तिशाली भुजाओं में है. एक ब्राह्मण की शक्ति उसके स्वरूप ज्ञान में है. एक स्त्री की शक्ति उसकी सुन्दरता, तारुण्य और मीठे वचनों में है.

The power of a king lies in his mighty arms; that of a brahmana in his spiritual knowledge; and that of a woman in her beauty youth and sweet words.

बाहुवीर्य बलं राज्ञो ब्रह्मवित् बली ।
रूप-यौवन-माधुर्य स्त्रीणां बलमनुत्तमम् ।।११।।

  1. अपने व्यवहार में बहुत सीधे ना रहे. आप यदि वन जाकर देखते है तो पायेंगे की जो पेड़ सीधे उगते है उन्हें काट लिया गया और जो पेड़ आड़े तिरछे है वह खड़े है.

Do not be very upright in your dealings for you would see by going to the forest that straight trees are cut down while crooked ones are left standing.

नाऽत्यन्तं सरलैर्भाव्यं गत्वा पश्य वन्स्थलीम् ।
छिद्यन्ते सरलास्तत्र कुब्जस्तिष्ठन्ति पादपाः ।।१२।।

  1. हंस वहाँ रहते है जहाँ पानी होता है. पानी सूखने पर वे उस जगह को छोड़ देते है. आप किसी आदमी को ऐसा व्यवहार ना करने दे की वह आपके पास आता जाता रहे.

Swans live wherever there is water, and leave the place where water dries up; let not a man act so — and comes and goes as he pleases.

यत्रोदकस्तत्र वसन्ति हंसा- स्तथव शुष्कं परिवर्जयन्ति ।
नहंतुल्येन नरेण भाव्यं पुनस्त्यजन्तः पुनराश्र यन्तः ।।१३।।

  1. संचित धन खर्च करने से बढ़ता है. उसी प्रकार जैसे ताजा जल जो अभी आया है बचता है, यदि पुराने स्थिर जल को निकल बहार किया जाये.

Accumulated wealth is saved by spending just as incoming fresh water is saved by letting out stagnant water.

उपार्जितानां वित्तानां त्याग एव हि रक्षणम् ।
तडागोदरसंस्थानां परीस्त्र व इवाम्भसाम् ।।१४।।

  1. वह व्यक्ति जिसके पास धन है उसके पास मित्र और सम्बन्धी भी बहुत रहते है. वही इस दुनिया में टिक पाता है और उसी को इज्जत मिलती है.

He who has wealth has friends and relations; he alone survives and is respected as a man.

यस्यार्स्थास्तस्य मित्राणि यस्यार्स्थास्तस्य बान्धवाः ।
यस्यार्थाः स पुमाल्लोके यस्यार्थाः सचजीवति ।।१५।।

  1. स्वर्ग में निवास करने वाले देवता लोगों में और धरती पर निवास करने वाले लोगों में कुछ साम्य पाया जाता है. उनके समान गुण है १. परोपकार २. मीठे वचन ३. भगवान की आराधना. ४. ब्राह्मणों के ज़रूरतों की पूर्ति.

The following four characteristics of the denizens of heaven may be seen in the residents of this earth planet; charity, sweet words, worship of the Supreme Personality of Godhead, and satisfying the needs of brahmanas.

स्वर्गस्थितानामहि जीवलोके चत्वारि चिह्नानि वसन्ति देहे ।
दानप्रसंगो मधुरा च वाणी देवार्चनं ब्राह्मणतर्पणं च ।।१६।।

  1. नरक में निवास करने वाले और धरती पर निवास करने वालों में साम्यता – १. अत्यधिक क्रोध २. कठोर वचन ३. अपने ही संबंधियों से शत्रुता ४. नीच लोगों से मैत्री ५. हीन हरकतें करने वालों की चाकरी.

The following qualities of the denizens of hell may characterise men on earth; extreme wrath, harsh speech, enmity with one’s relations, the company with the base, and service to men of low extraction.

अत्यन्तकोपः कटुता च वाणी दरिद्रता च स्वजनेषु वैरम् ।
नीचप्रसड्गः कुलहीनसेवा चिह्नानि देहे नरकस्थितानाम् ।।१७।।

  1. यदि आप शेर की गुफा में जाते हो तो आप को हाथी के माथे का मणि मिल सकता है. लेकिन यदि आप लोमड़ी जहाँ रहती है वहाँ जाते हो तो बछड़े की पूछ या गधे की हड्डी के अलावा कुछ नहीं मिलेगा.

By going to the den of a lion pearls from the head of an elephant may be obtained; but by visiting the hole of a jackal nothing but the tail of a calf or a bit of the hide of an ass may be found.

गम्यते यदि मॄगन्द्रमन्दिरं लभ्यते करिकपीलमौक्तिकम् ।
जम्बुकालयगते च प्राप्यते वस्तुपुच्छखरचर्मखण्डनम् ।।१८।।

  1. एक अनपढ़ आदमी की जिंदगी किसी कुत्ते की पूछ की तरह बेकार है. उससे ना उसकी इज्जत ही ढकती है और ना ही कीड़े मक्खियों को भगानें के काम आती है.

The life of an uneducated man is as useless as the tail of a dog, which neither covers its rear end, nor protects it from the bites of insects.

श्वानपुच्छमिच व्यर्थ जीवितं विद्यया विना ।
न गुह्यगोपने शक्तं न च दंशनिवारणे ।।१९।।

  1. यदि आप दिव्यता चाहते है तो आपके वाचा, मन और इन्द्रियों में शुद्धता होनी चाहिए. उसी प्रकार आपके ह्रदय में करुणा होनी चाहिए.

Purity of speech, of the mind, of the senses, and a compassionate heart are needed by one who desires to rise to the divine platform.

वाचा शौचं च मनसः शौचमिन्द्रियनिग्रहः ।
सर्वभूते दया शौचमेतच्छौचं परार्थिनाम् ।।२०।।

  1. जिस प्रकार एक फूल में खुशबू है. तिल में तेल है. लकड़ी में अग्नि है. दूध में घी है. गन्ने में गुड़ है. उसी प्रकार यदि आप ठीक से देखते हो तो हर व्यक्ति में परमात्मा है.

As you seek fragrance in a flower, oil in the sesamum seed, fire in wood, ghee (butter) in milk, and jaggery (guda) in sugarcane; so seek the spirit that is in the body by means of discrimination.

पुष्पे गन्धतिले तैलं काष्ठे वह्नि पयो घृतम् ।
इक्षौ गुडं तथा देहे पश्याऽऽत्मानं विवेकतः ।।२१।।

admin

Recent Posts

FilmyMeet 2020 Live Link: Free Download Punjabi, Hindi, Telugu Movies

FilmyMeet 2020 Live Link: Free Download Punjabi, Hindi, Telugu Movies FilmyMeet 2020 Live Link: Free Download Punjabi, Hindi, Telugu Movies… Read More

1 day ago

एकलव्य रहस्य: आखिर क्यों भगवान श्री कृष्ण ने “एकलव्य” का किया था वध?

एकलव्य एकलव्य को कुछ लोग शिकारी का पुत्र कहते हैं और कुछ लोग भील का पुत्र। प्रयाग जो इलहाबाद में… Read More

1 week ago

Karva Chauth 2020 Date, Time, Vrat Katha – करवा चौथ 2020

Karva Chauth Karva Chauth - करवा चौथ का दिन और संकष्टी चतुर्थी, जो कि भगवान गणेश के लिए उपवास करने… Read More

1 week ago

DVDPlay 2020 Live Link: Free Download Malayalam, Hindi Movies

DVDPlay 2020 Live Link: Free Download Malayalam, Hindi Movies DVDPlay 2020 Live Link: Free Download Malayalam, Hindi Movies - DVDPlay… Read More

1 week ago

9kMovies 2020 Live Link: Free Download Bollywood, Hollywood Movies

9kMovies 2020 Live Link: Free Download Bollywood, Hollywood Movies 9kMovies 2020 Live Link: Free Download Bollywood, Hollywood Movies - 9kmovies… Read More

2 weeks ago

Ek Bharat Shreshtha Bharat – एक भारत श्रेष्ठ भारत क्या है? क्यों पड़ी आवश्यकता?

Ek Bharat Shreshtha Bharat Ek Bharat Shreshtha Bharat - भारत विविधता से भरा एक ऐसा देश जो शुरू से ही… Read More

2 weeks ago

For any queries mail us at admin@meragk.in