Categories: योजनाएं

कन्‍या सुमंगला योजना क्या है? कन्‍या सुमंगला योजना के लिए कैसे करें आवेदन?

कन्‍या सुमंगला योजना

कन्‍या सुमंगला योजना – बेटियों को उच्च स्तर पर पढ़ें हेतु एवं उन्हें समाज में पुरुषों की तुलना में समान स्थान दिलाने हेतु बहुत सी योजनाओं का सरकार द्वारा श्री गणेश किया गया है। कुछ गैर सरकारी संस्थान भी इस मुहीम में अपने एक विशेष स्थान बना रहे हैं। कुछ योजनाओं को राष्ट्रीय स्तर पर तो कुछ योजनाओं को राज्य स्तर पर चलाया जा रहा है। आइये आज ऐसी ही एक योजना की बात करते हैं- कन्या सुमंगला योजना (Kanya Sumangala Yojana)

आर्थिक रूप से क्षीण परिवारों की बेटियो/लड़कियों की शिक्षा-दीक्षा एवं उनके उज्जवल भविष्य के लिए उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा एक बहुत ही अच्छी योजना चलायी जा रही है। इस योजना के तहत बेटियों की पढ़ाई में आर्थिक मदद की जाती है, पढ़ाई के हर स्तर पर उत्तर प्रदेश सरकार मदद करती है। इस योजना का नाम है कन्‍या सुमंगला योजना; योगी सरकार की इस योजना के अंतर्गत बेटियों की शिक्षा और स्वास्थ्य दोनों का ही पूर्ण रूप से ध्यान रखा जाता है। कन्‍या सुमंगला योजना के अंतर्गत आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग की बेटियों की पढ़ाई का पूरा खर्च सरकार वहन करती है। इस योजना के अंतर्गत बेटी के जन्‍म के समय दो हजार रुपये, एक साल का टीकाकरण पूरा होने के बाद एक हजार रुपये, पहली कक्षा में दाखिले के समय दो हजार रुपये, छठीं कक्षा में आने पर दो हजार रुपये और नौवीं कक्षा में दाखिले के समय 3 हजार रुपये दिए जाते हैं। 10वीं एवं 12वीं कक्षा की परीक्षाएं पास करने पर या दो साल के किसी डिप्‍लोमा कोर्स में दाखिला लेने पर पांच हजार रुपये की मदद दी जाती है।

मुख्यमंत्री कन्‍या सुमंगला योजना के लिए उत्तर प्रदेश सरकार ने पिछले साल 1200 करोड़ रुपये जारी किए थे। योजना के तहत लाभार्थियों के खाते में डायरेक्ट बैंक ट्रांसफर के माध्यम से पैसा जमा किया जाता है।

योजना को सुचारु रूप से चलने हेतु एवं सभी को योजन का लाभ देने हेतु, उत्तर प्रदेश सरकार ने योजना को विभिन्न प्रकार की श्रेणियों में विभाजित किया है।

1. नवजात बालिकाओं हेतु:
  • इस श्रेणी के अंतर्गत एक अप्रैल 2020 एवं उसके बाद जन्मी बालिकाओं का आवेदन ही स्वीकार्य किया जायेगा।
  • योजना का लाभ लेने हेतु बालिका की जन्म तिथि के 6 माह के भीतर आवेदन करना अनिवार्य है।
  • शपथ पत्र जमा करना अनिवार्य है।
  • बालिका का जन्म प्रमाण पत्र एवं माता का संस्थागत प्रसव पंजीकरण का प्रमाण पत्र जमा करना अनिवार्य है।
2. टीकाकरण पूर्ण करने वाली बालिकाओं हेतु:
  • टीकाकरण कार्ड एवं शपथ पत्र जमा करना अनिवार्य होगा।
3. कक्षा एक में दाखिला लेने वाली बालिकाओं हेतु:
  • प्रार्थना पत्र किसी भी सरकारी, अनुदानित या मान्यता प्राप्त विद्यालय में दाखिला लेने के बाद उसी वर्ष 31 जुलाई तक या विद्यालय में दाखिले की अंतिम तिथि के 45 दिन के अंदर तक जमा करना अनिवार्य है।
  • बालिका के कक्षा 1 में प्रवेश लेने से संबंधी प्रमाणपत्र विद्यालय का कोड जमा करना अनिवार्य है।
  • शपथ पत्र जमा कराना अनिवार्य है।
4. कक्षा 6 में प्रवेश करने वाली बालिकाओं हेतु:
  • प्रार्थना पत्र किसी भी सरकारी, अनुदानित या मान्यता प्राप्त विद्यालय में दाखिला लेने के बाद उसी वर्ष ३१ जुलाई तक या विद्यालय में दाखिले की अंतिम तिथि के 45 दिन के अंदर तक जमा करना अनिवार्य है।
  • बालिका के कक्षा 6 में प्रवेश लेने से सम्बंधित प्रमाणपत्र या विद्यालय का कोडजमा कराना अनिवार्य है।
  • शपथ पत्र जमा कराना अनिवार्य है।
5. कक्षा 9 में प्रवेश करने वाली बालिकाओं हेतु:
  • प्रार्थना पत्र किसी भी सरकारी, अनुदानित या मान्यता प्राप्त विद्यालय में दाखिला लेने के बाद उसी वर्ष 30 सितम्बर तक या विद्यालय में दाखिले की अंतिम तिथि के 45 दिन के अंदर तक जमा करना अनिवार्य है।
  • बालिका के कक्षा 9 में प्रवेश लेने से सम्बंधित प्रमाणपत्र या विद्यालय का कोड जमा कराना अनिवार्य है।
  • शपथ पत्र जमा कराना अनिवार्य है।
6. स्नातक, डिग्री एवं दो साल के डिप्लोमा में दाखिला लेने वाली बालिकाओं हेतु:
  • प्रार्थना पत्र किसी भी स्नातक, डिग्री तथा दो साल के डिप्लोमा में दाखिला लेने के बाद उसी वर्ष 30 सितम्बर तक या चालू सत्र मे पंजीकरण की अंतिम तिथि के 45 दिन के अंदर तक जमा करना अनिवार्य है।
  • 12वी कक्षा का प्रमाणपत्र जमा कराना अनिवार्य है।
  • किसी महा-विद्यालय, विश्व-विद्यालय अथवा अन्य शैक्षणिक संस्थान में स्नातक, डिग्री तथा दो साल के डिप्लोमा मे दाखिला लेने का प्रवेश शुल्क की रसीद तथा संस्थान के परिचय पत्र की छायाप्रति जमा करना अनिवार्य है।
  • शपथ पत्र जमा कराना अनिवार्य है।

किन परिवारों को मिलेगा योजना का लाभ:

“मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना” गरीब और कमज़ोर वर्ग के लोगों के लिए शुरू की गई योजना है। इस योजना का लाभ उन्हीं लोगों को दिया जाएगा जिनकी वार्षिक आय ३ लाख रुपये या फिर इससे कम होगी। एक परिवार में ज्यादा से ज्यादा दो बालिकाओं को ही योजना का लाभ मिलेगा। अगर किसी महिला की जुड़वां बेटियां होती हैं और इसके बाद तीसरी संतान भी बेटी होती है तो तीसरी बेटी को इस योजना के लिए पात्र माना जाएगा।

यह योजना उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा उतार प्रदेश के निवासियों के लिए ही है, इसलिए योजना के तहत आवेदन करने वाला उत्‍तर प्रदेश का मूल निवासी होना चाहिए।

इसके अलावा कुछ निम्न प्रकार से पात्रता को निर्धारित किया गया है:

  • लाभार्थी का परिवार उत्तर प्रदेश का मूल / स्थाई निवासी हो तथा उसके पास मूल / स्थाई निवास प्रमाण पत्र हो जिसमें राशन कार्ड, आधार कार्ड , वोटर पहचान पत्र , बिजली या टेलीफोन बिल ही मान्य होगा।
  • यदि किसी परिवार ने अनाथ बालिका को गोद लिया हो तो परिवार की जैविक संतानों तथा विधिक रूप में गोद ली गई संतानों को सम्मिलित करते हुए अधिकतम दो ही बालिकाएं इस योजना की लाभार्थी होंगी।
  • लाभार्थी के परिवार में अधिकतम दो ही बच्चे होने चाहियें ( ये वांछनीय है, अनिवार्यता के रूप में इसका कोई प्रमाण नहीं)।

मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना (Kanya Sumangala Yojana) के लिए आवश्यक पात्रता

मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना (Kanya Sumangala Yojana) के लिए आवश्यक पात्रता:

  • इस योजना की लाभार्थी केवल बालिका होंगी
  • बालिका उत्तर प्रदेश की निवासी होनी चाहिए
  • लाभार्थी परिवार में अधिकतम दो बच्चे हों
  • बालिका के पास जन्म प्रमाणपत्र होना चाहिए
  • लाभार्थी के परिवार की वार्षिक आय 3 लाख या उससे कम होनी चाहिए
  • जुड़वा बच्चियां होने की स्थिति में दोनों जुड़वा को इसका समान लाभ प्राप्त होगा

How to Apply Online for Kanya Sumangala Yojana? मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना के लिए कैसे करें आवेदन?

इस योजना के लिए विगत वर्ष में ऑनलाइन प्रक्रिया का ही प्रावधान है, आवेदन हेतु नीचे दिए गए चरणों पर ध्यान दें:

  • आवेदक को कन्‍या सुमंगला योजना की official website पर जाना होगा।
  • उसके बाद ‘Quick Links’  section में जाकर ‘Citizen Services Portal’ ऑप्शन में “Apply Here” पर क्लिक करना  होगा।
  • उसके बाद एक नया पेज खुलेगा जिसमे आवेदक को रजिस्ट्रेशन करना होगा । नीचे स्क्रॉल कर के मैं सहमत हूँ ऑप्शन पर क्लिक करके “जारी रखें” बटन पर क्लिक करना होगा।
  • उसके बाद एक नए पेज में आवेदक को कुछ जानकारी देनी होगी और अंत में ओटीपी के माध्यम से वेरिफिकेशन करना होगा।
  • सही otp डालने के बाद आवेदक का पंजीकरण हो जायेगा और आपको एक यूजर आईडी मिलेगी, पासवर्ड वही रहेगा जो आपने फॉर्म में भरा होगा।
  • अब क्यूंकि आवेदक के पास यूजर नाम और पासवर्ड दोनों हैं तो अब आवेदक को उसी यूजरनाम और पासवर्ड से लॉगिन करना होगा।
  • लॉगिन करने के बाद आप मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना (Kanya Sumangala Yojana) का ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन फॉर्म देख पाएंगे।
  • आवेदक से निवेदन रहेगा की सारी जानकारी सही से भरें और मांगे गए सारे दस्तावेज अपलोड कर दें। अंत में फॉर्म सबमिट कर दें और एप्लीकेशन नंबर नोट कर लें (जानकारी गलत भरने पर आवेदन को स्वीकार्यता नहीं दी जाएगी)।
  • इसी के साथ, आपका कन्या सुमंगला ऑनलाइन आवेदन पूरा हो जायेगा।

योजना का लाभ लेने हेतु हमें यह भी पता होना चाहिए की योजना के अंतर्गत कोण कोण से दस्तावेज जमा कराने अनिवार्य हैं:

  • राशन कार्ड स्वीकृत होगा,जिसमें बालिका का नाम दर्ज हो।
  • माता-पिता या अभिभावक का आधार कार्ड (यदि उपलब्ध हो तो बालिका का), पैन कार्ड वोटर ID,  ड्राइविंग लाइसेंस, पासपोर्ट, बैंक पासबुक में से कोई एक अनिवार्य है।
  • परिवार की वार्षिक आय से सम्बंधित स्व-सत्यापन अनिवार्य है।
  • बालिका का नवीनतम फोटो अनिवार्य है।
  • बैंक पासबुक अनिवार्य है।
  • गोद लेने का प्रमाणपत्र  (यदि बालिका को गोद लिया गया हो)।

अपनी लॉगइन आईडी ढूंढने की प्रक्रिया – How to find Login Id?

  • सर्वप्रथम आपको महिला एवं बाल विकास विभाग उत्तर प्रदेश की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  • अब आपके सामने होम पेज खुलता आएगा।
  • Homepage पर आपको न्यू फीचर्स/रिपोर्ट के अंतर्गत Find your login id के option पर click करना होगा।
  • अब आपके सामने एक नया पेज खुल कर आएगा।
  • इस पेज पर आपको मोबाइल नंबर तथा कैप्चा कोड भरना होगा।
  • अब आप को वेरीफाई मोबाइल नंबर के link पर click करना होगा।
  • जैसे ही आप verify mobile number के link पर click करेंगे आपका Login Id आपकी कंप्यूटर स्क्रीन पर होगा।

कन्या सुमंगला योजना के अंतर्गत इन चरणों में मिलेगी धनराशि

  • सबसे पहले बच्ची के जन्म के समय एक निश्चित राशि दी जाएगी।
  • टीकाकरण के समय आर्थिक मदद दी जाएगी।
  • पहली कक्षा में प्रवेश के समय आर्थिक मदद दी जाएगी।
  • छठवीं कक्षा में प्रवेश के समय आर्थिक मदद दी जाएगी।
  • नौवीं कक्षा में प्रवेश के समय आर्थिक मदद दी जाएगी।
  • स्नातक में प्रवेश के समय आर्थिक मदद दी जाएगी।
  • शादी के समय आर्थिक मदद दी जाएगी।

कन्या सुमंगला योजना के अंतर्गत दी जाने वाली धनराशि

  • इस योजना के तहत सरकार की ओर से बेटी को कक्षा 6 में 3,000 रुपये दिए जाएंगे।
  • जब बेटी कक्षा 8 में पहुंचेगी तो 5,000 रुपये मिलेंगे
  • बेटी जब कक्षा 10 पहुंचेगी तो 7,000 रुपये मिलेंगे
  • बेटी जब कक्षा 12 पहुंचेगी तो 8,000 रुपये मिलेंगे
  • उत्तर प्रदेश कन्या सुमंगला योजना के तहत बेटी जब 21 वर्ष की हो जाएगी तो उस समय बेटी को 2 लाख रुपये दिए जाएंगे

इस योजना की या ऐसी ही महिलाओं और बालिकाओं के चलने वाली अन्य योजनाओं की आवश्यकता क्यों पड़ी?

भारत देश में सामाजिक परिवेश महिलाओं के लिए कुछ हद तक जटिल एवं संवेदनशील ही रहा है। धार्मिक, शैक्षणिक,सामाजिक परिस्तिथियाँ महिलाओं के लिए प्राचीन कल से भेद भाव से परीपूर्ण रही हैं। समाज में चल रही कुरीतियों जैसे भ्रूण हत्या, बाल विवाह, दहेज़ उत्पीड़न, घरेलु हिंसा ,बालिकाओं के प्रति समाज की नकारात्मक सोच के कारण बालिकाएं अपने मूल एवं मौलिक अधिकारों से वंचित रह जाती है। समाज में महिलाओं को पुरुषों के समान अधिकार एवं सम्मान ना मिलने का सबसे बड़ा कारण है बालिकाओं का शिक्षा से वंचित रह जाना। हालांकि वर्तमान समय में महिलाओं की इस दशा में एक बड़ा परिवर्तन देखने को मिला है इसके पीछे का सबसे बड़ा कारण है महिलाओं का शिक्षा के प्रति जागरूक होना। अभी भी ऐसे कई वर्ग,और इलाके हैं जहाँ महिलाओं के प्रति समाज में आज भी पुरानी विचारधारा ही प्रवाहित होती है। इन्हीं सामाजिक धारणाओं को दूर करने हेतु सरकारी, गैर सरकारी, राष्ट्रीय एवं राज्य स्तर पर कई प्रकार की योजनाएं चलायी जा रही हैं, कन्‍या सुमंगला योजना भी उसी का एक पात्र है। सरकार द्वारा बालिकाओं को उच्च शिक्षा का अवसर प्रदान किया जायेगा जिससे समाज में व्याप्त भ्रूण हत्या, दहेज़ उत्पीड़न, बाल विवाह जैसी कुरीतियों के प्रसार में तो रोक लगेगी ही साथ ही साथ बालिकाएं भी अपने लिए समाज में एक नया स्थान बना पाएंगी।

यह भी देखें 👉👉 सुकन्या समृद्धि योजना क्या है? सुकन्या समृद्धि योजना के फायदे, नियम

FAQ’s

Q: कन्या सुमंगला योजना क्या है?

Ans: कन्या सुमंगला योजना को उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा शुरू किया गया है जिसके अंतर्गत प्रदेश की बेटियों को आर्थिक सहायता दी जाती है, ताकि उनकी शिक्षा में कोई व्यवधान ना आए और उन्हें परिवार पर बोझ ना समझा जाए।

Q: इस योजना के लाभार्थी कौन है?

Ans: कन्या सुमंगला योजना के अंतर्गत उन परिवारों की बेटियों को लाभ प्राप्त हो सकेगा, जिनकी वार्षिक आय अधिकतम 3 लाख रूपए अथवा उससे कम है अर्थात योजना के अंतर्गत गरीब परिवार की बेटियों को लाभ मिलेगा।

Q: कन्या सुमंगला योजना के अंतर्गत कितने रुपए मिलेंगे?

Ans: इस योजना के अंतर्गत अधिकतम 15000 रूपए बेटियों को दिए जाएंगे, जिन्हें 6 किस्तों में बेटियों तक पहुंचाया जाएगा. उत्तर प्रदेश कन्या सुमंगला योजना के तहत बेटी जब 21 वर्ष की हो जाएगी तो उस समय बेटी को 2 लाख रुपये दिए जाएंगे।

Q: कन्या सुमंगला योजना के लिए ऑनलाइन अप्लाई कैसे करें?

Ans: इस योजना के अंतर्गत पंजीयन करवाने की प्रक्रिया इस आर्टिकल में ऊपर विस्तार से दी गई है, जिनको follow करके आप online apply कर सकते हैं।

Q: कन्या सुमंगला योजना के अंतर्गत कितनी बेटियों को लाभ दिया जाएगा?

Ans: इस योजना के अंतर्गत एक ही परिवार की अधिकतम दो बेटियों को भी लाभ मिलेगा.

Q: योजना के अंतर्गत अगर दूसरी संतान दो जुड़वां बेटियां हैं तो ऐसे में कितनी बेटियों को लाभ दिया जाएगा?

Ans: अगर दूसरी संतान दो जुड़वां बेटियां हैं तो इस तरह की स्थिति में परिवार की तीनों बेटियों को इस योजना के अंतर्गत शामिल किया जाने का प्रावधान है.

Q: क्या योजना के अंतर्गत गोद ली हुई बेटी को लाभ मिलेगा?

Ans: इस योजना के अंतर्गत ऐसा जरूरी नहीं है कि केवल जन्म दी गई बेटी को ही लाभ मिले, इस योजना के अंतर्गत गोद ली हुई बेटी को भी शामिल किया जा सकता है परन्तु जरूरी कागज का होना आवश्यक हैं जिसके तहत लाभ की प्रक्रिया आगे बढ़ाई जाएगी।

यह भी देखें 👉👉 बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना क्या है? बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना का उद्देश्य

admin

Recent Posts

Current Affairs December 2020 in Hindi – करंट अफेयर्स दिसंबर 2020

Current Affairs December 2020 in Hindi – करंट अफेयर्स दिसंबर 2020 Current Affairs December 2020 in Hindi – दिसंबर 2020… Read More

51 years ago

एकादशी व्रत 2021 तिथियां – Ekadashi 2021 Date – एकादशी व्रत का महत्व

एकादशी का हिंदू धर्म में एक विशेष महत्व है। हिंदू धर्म में व्रत एवं उपवास को धार्मिक दृष्टि से एक… Read More

51 years ago

मोक्षदा एकादशी पूजा विधि, व्रत कथा

मोक्षदा एकादशी मार्गशीर्ष महीने के शुक्ल पक्ष की एकादशी को मोक्षदा एकादशी कहा जाता है। इस एकादशी को वैकुण्ठ एकादशी… Read More

51 years ago

उत्पन्ना एकादशी पूजा विधि, व्रत कथा

उत्पन्ना एकादशी मार्गशीर्ष मास के शुक्लपक्ष की एकादशी को उत्पन्ना एकादशी कहते हैं। इस एकादशी को मोक्षदा एकादशी भी कहा… Read More

51 years ago

देवउठनी एकादशी या देवुत्थान एकादशी पूजा विधि, व्रत कथा

देवउठनी एकादशी या देवुत्थान एकादशी कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी को देवउठनी एकादशी या देवुत्थान एकादशी कहा जाता… Read More

51 years ago

रमा एकादशी पूजा विधि, व्रत कथा

रमा एकादशी कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की एकादशी को रमा एकादशी कहा जाता है। इस व्रत को करने से… Read More

51 years ago

For any queries mail us at admin@meragk.in